मधुबनी : भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने धरना दिया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 25 मई 2021

मधुबनी : भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने धरना दिया

cpi-madhubani-protest
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी मधुबनी द्वारा जिले के विभिन्य पंचायतों में में पार्टी कार्यकर्ता, नेतृत्वकारी साथीओं द्वारा अपने आवास, सार्वजनिक दरवाजें एवं पार्टी कार्यालयों पर धरना दिया गया ।  जिला कार्यालय शहीद भवन मधुबनी परिसर में भी अरविंद प्रसाद की अध्यक्षता में धरना दिया गया । कोरोना संकट के समय ग्रामीण एवं शहरी दोनों ही जनजीवन प्रभावित है । छोटे बड़े सभी उद्योग धंधा बन्द है । शिक्षण संस्थान बन्द परे हुए है । बेरोजगारी , भुखमरी , दवाई की कमी , स्वास्थ्य विभाग में कुव्यवस्था , आर्थिक संकट आमलोगों को उनके जीवन के मूल्यों को ही समाप्त कर दिया है।आमजनता के मौलिक समस्याओं से बेखबर केंद्र एवं राज्य सरकार महज 5 किलो प्रति व्यक्ति अनाज देकर अपनी जबाबदेही से मुक्त होना चाहती है । कोरोना महामारी से उतपन्न समस्याओं के लिए सिडजे तौर पर केंद्र सरकार जबाबदेह है । अपने और अपने सरकार का प्रचार प्रसार  करने , चुनाव एवं विधायकों को खरीद परोख्त कर सरकार बनाने में व्यस्त सरकार के मंत्रिमंडल के  सदस्य आपदा से निपटने में लगभग डेढ़ साल में विफल साबित हुए । इस बार मौतों का खेल सरकार फ़व्सर प्रायोजित हुआ । इलाज के लिए लोग तरसते रहे , कहीं अस्पताल में ऑक्सीजन नही तो कहीं ईलाज के लिए डॉ नही , तो कही इलाज कर लिए जगह नहीं । आम जनता बेमौत मारे जा रहे है । सरकारी रिपोर्टिंग की संख्या से कई गुना अधिक लोग मारे जा रहे है । भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी बिहार में कोरोना  से हुई सभी मौतों के लिए सरकार एवं उनकी कुव्यवस्था को जिम्मेदार मानती है। आज पूरे बिहार में पार्टी कार्यकर्ता जो जहां हैं वहीं रहकर धरना दे रहे है । जिले में दर्जनों जगहों पर यह धरना दिए जा रहे है । बेनीपट्टी , रहिका , हरलाखी ,मधवापुर , जयनगर झंझारपुर ,पंडौल , कलुआही बिस्फी सहित कई प्रखंड मुख्यालय एवं पंचायतों में यह कार्यक्रम हुए ।

    

धरना कार्यक्रम का मुख्य माँग 

1. सभी पंचायतों में सामुदायिक रसोई प्रारम्भ किया जाय ।

2.आयकर दायरे से बाहर सभी परिवार को 7500 रु मासिक सहायता दी जाय ।

3.सभी बेरोजगारों को 6000 रु मासिक भत्ता दिया जाय ।

4. प्रत्येक व्यक्ति को 10 किलो अनाज मुफ्त दिया जाय ।

5. कोरोना काल के बिजली एवं पानी का बिल माफ किया जाय एवं सभी तरह के ऋण वसूली पर रोक लगाए जाय ।

6. कोविड टीकाकरण की प्रक्रिया को तेज किया जाय 

7. सभी कोविड मरीजों का ईलाज मुफ्त में करने की व्यबस्था किया जाय ।

8. मनरेगा एवं पांचवीं वित्त में मजदूरों को रोज़गार दिया जाय ।

9.आवास हीन गरीबो को कोरेन्टीन में रहने के लिए सभी पंचायतों में कोरेन्टीन सेंटर बनाया जाय । एवं अन्य

      

आज का यह धरना  आमलोगों के आवाज़ को सरकार तक पहुचाने एवं सरकार की जनविरोधी नीतियों के परिणास्वरूप आपदा से निपटने विफलता को उजागर करनर के लिए आयोजित है । भाकपा इस आपदा की घड़ी में विभिन्य जगहों पर जरूरतमन्दों के साथ रहकर सहायता देने में अग्रणी भूमिका में रही है । जिला कार्यालय में  धरना का नेतृत्व जिला मंत्री मिथिलेश झा , राज्य परिषद सदस्य मनोज मिश्रा , मधुबनी शहर मंत्री मोतीलाल शर्मा , ट्रेड यूनियन जिला सचिव सत्यनारायण राय  , ए आईं एस एफ ,मधुबनी के जिला संयोजक  मो आरजू , सीताराम शर्मा , मो कलाम ,शांति देवी सहित दर्जनों पार्टी कार्यकर्ता मौजूद थे ।

कोई टिप्पणी नहीं: