ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य संसाधनों पर फोकस जरूरी : मोदी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 15 मई 2021

ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य संसाधनों पर फोकस जरूरी : मोदी

need-to-focus-on-rural-health-modi
नयी दिल्ली 15 मई, कोरोना महामारी का प्रकोप देश के ग्रामीण हिस्सों में बढने के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वहां स्वास्थ्य संसाधन पुख्ता करने और घर-घर जाकर जांच करने तथा निगरानी करने पर जोर दिया है। प्रधानमंत्री ने शनिवार को यहां वीडियो कांफ्रेन्स के माध्यम से एक उच्च स्तरीय बैठक में देश में कोरोना महामारी की स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य देखभाल संसाधनों पर फोकस करने तथा घर-घर जाकर जांच करने और निगरानी बढाये जाने की जरूर है। उन्होंने कहा कि आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को समुचित उपकरण तथा संसाधन दिया जाना जरूरी है। इन क्षेत्रों में आसान तथा सरल भाषा में दिशा निर्देशों का प्रसार किये जाने की जरूरत पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि इससे घरों में उपचार करा रहे लोगों को आसानी होगी। प्रधानमंत्री ने ग्रामीण क्षेत्रों में ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए कार्ययोजना बनाये जाने तथा ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की सुविधा उपलब्ध कराने का भी निर्देश दिया। स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को विभिन्न उपकरणों के संचालन का प्रशिक्षण देने तथा इनके लिए बिजली आपूर्ति करने के लिए भी कहा गया। उन्होंने कहा कि सभी राज्य सरकारों को वेंटीलेटरों का समुचित इस्तेमाल करना चाहिए और इस बारे में ऑडिट भी कराया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत की कोरोना के खिलाफ लड़ाई वैज्ञानिकों और विषय विशेषज्ञों के मार्गदर्शन में लड़ी जा रही है और आगे भी उन्हीं के मार्गदर्शन में लड़ी जायेगी। प्रधानमंत्री को बताया गया कि देश में कोरोना की जांच प्रति सप्ताह 50 लाख से बढकर एक करोड़ तीस लाख तक पहुंच गयी है। अधिकारियों ने कहा कि देश में संक्रमित मामलों की संख्या में कमी आ रही है और संक्रमण दर में भी गिरावट आ रही है। श्री मोदी ने कहा कि स्थानीय स्तर पर कंटेनमेंट की रणनीति बनाना समय की जरूरत है और कोरोना की जांच को और अधिक बढाये जाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि राज्यों को बिना संकोच के पारदर्शिता के साथ आंकडों की जानकारी देनी चाहिए। अधिकारियों ने राज्यों में 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को टीकाकरण के बारे में जानकारी दी। इस संबंध में भविष्य के लिए भी रणनीति बनायी गयी। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि वे टीकाकरण की गति बढाने के लिए राज्यों के साथ मिलकर काम करें। 

कोई टिप्पणी नहीं: