सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 30 जून - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 30 जून 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 30 जून

सेवादल कांग्रेस के प्रदेश सचिव, राकेश राय करेंगे डॉक्टरों का आज सम्मान

  • सेवादल कांग्रेस के द्वारा मनाया जाएगा राष्ट्रीय डॉक्टर दिवस

sehore news
सीहेार। जिला चिकित्सालय सीहोर के मुख्य प्रदेश द्वारा पर कोरोना गाइडलाईन को ध्यान में रखते हुए राष्ट्रीय डॉक्टर दिवस मनाया जाएगा। सेवादल कांग्रेस के जिलाध्यक्ष नरेंद्र खंगराले ने बताया की प्रतिवर्ष अनुसार इस वर्ष भी एक जुलाई गुरूवार को सुबह 11 बजे राष्ट्रीय डॉक्टर दिवस के अवसर पर डॉक्टरों का सम्मान कार्यक्रम सेवादल के द्वारा आयोजित किया गया है। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पूर्व नपाध्यक्ष एवं सेवादल कांग्रेस के प्रदेश सचिव राकेश राय रहेंगे कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बलवीर सिंह तोमर करेंगे। समाजसेवी डॉ अनीस खान विशेष अतिथि के रूप में सम्मलित होंगे। अतिथियों के द्वारा शॉलश्रीफल से डॉक्टरों का सम्मान किया जाएगा। समस्त कांग्रेसजनों एवं शहर के गणमान्य नागरिकों से कार्यक्रम में उपस्थित होने की अपील की गई है।


कलेक्टर श्री ठाकुर ने की टीकाकरण महाअभियान में सहयोग की अपील


sehore news
कलेक्टर श्री चन्द्रमोहन ठाकुर ने जिले के सभी नागरिकों से अपील करते हुए कहा कि 21 जून से 30 जून तक चले टीकाकरण महाअभियान में जिस तरह सहयोग मिला था, उसी प्रकार  01 और 03 जुलाई को चलने वाले टीकाकरण महाअभियान में सहयोग अपेक्षा की है। उन्होंने कहा कि आज 01 जुलाई से प्रारंभ होने वाले टीकाकरण महाअभियान के तहत निर्धारित लक्ष्य के अनुसार शतप्रतिशत टीकाकरण के लिए लोगों को प्रेरित करना जरूरी है। उन्होंने सभी जनप्रतिनिधियों, समाज सेवियों, कोरोना वालेंटियर और प्रबुद्ध नागरिकों से अपील की है कि लोगों को टीकाकरण के लिये प्रेरित करें। 


अब 01 जुलाई को होगा टीकाकरण, टीकाकरण का 26 हजार 600 लक्ष्य निर्धारित

  • 01 जुलाई को कोविडशील्ड वैक्सीन का प्रथम तथा द्वितीय डोज लगाया जाएगा
  • 03 जुलाई को कोवैक्सीन का डोज ही लगाया जाएगा

जिले में कोविड टीकाकरण महाअभियान के 01 जुलाई और 03 जुलाई को किया जाएगा।  जिले में 01 जुलाई 2021 गुरूवार को आयोजित टीकाकरण सत्र के लिए 26 हजार 600 टीकों का निर्धारित लक्ष्य प्रदान किया गया है। जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ एमके चंदेल ने जानकारी दी कि 01 जुलाई को आयोजित सत्रों में सिर्फ कोविडशील्ड का ही प्रथम तथा द्वित्तीय डोज एव 03 जुलाई को आयोजित सत्रों में मात्र कोवैक्सीन का द्वित्तीय डोज ही लगाया जाएगा।


आबकारी विभाग ने छापामार कार्रवाई कर अवैध मदिरा जप्त की


sehore news
जिले में अवैध मदिरा के विरुद्ध कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर के निर्देश पर आबकारी विभाग निरंतर कार्रवाई की जा रही है। आबकारी अमले ने नसरूल्लागंज के ग्राम सेमलपानी, नयागांव, रिझडिया में 03 प्रकरणों में कार्रवाई करते हुए 45 लीटर देशी मदिरा और महुआ लाहन जप्त किया है। आबकारी अधिकारी कीर्ति दुबे ने बताया कि इन तीनों प्रकरणों में कार्रवाई करते हुए मप्र आबकारी अधिनियम 1915 की विभिन्न धाराओं के अन्तर्गत कोरोना कर्फ्यू की अवधि में 03 प्रकरण दर्ज कर 45 लीटर देशी, हाथभटटी मदिरा एवं 1075 किग्रा महुआ लाहन जप्त किया है जिसकी अनुमानित कीमत 62 हजार 750 रुपये है। इस कार्यवाही में आबकारी आरक्षक ललिता गीते और टीम शामिल थी।


जिले में अब तक 281.4 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज, बीते 24 घंटे में 1.6 मिलीमीटर औसत वर्षा


जिले में 01 जून से 30 जून 2021 तक 281.4 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई है। जो कि गत वर्ष इसी अवधि में हुई औसत वर्षा से 3.3 मिलीमीटर कम है। जिले की वर्षा ऋतु में सामान्य औसत वर्षा 1148.4 मिलीमीटर है। अधीक्षक भूण्अभिलेख द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार 01 जून से 30 जून 2021 तक जिले के वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 271.6  मिलीमीटर, श्यामपुर में 211.0, आष्टा में 213.0, जावर में 195.0, इछावर में 225.0,  नसरुल्लागंज में 280.0, बुधनी में 289.0, रेहटी में 168.0 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।


बीते 24 घंटे में 2.0 मिलीमीटर औसत वर्षा

जिले में बीते 24 घंटे में प्रातः 08 बजे तक 2.0 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 7.0, श्यामपुर में 0.0, आष्टा में 7.0, जावर में 2.0, इछावर में 0.0, नसरुल्लागंज में 0.0, बुधनी में 0.0, रेहटी में 0.0 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।


जो सबसे गरीब, सबसे नीचे और सबसे पीछे है उसे आगे लाना हमारा लक्ष्य, इसे विश्व स्तरीय सुशासन संस्थान के रूप में विकसित करना है

  • मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन संस्थान की बैठक ली

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हमारा लक्ष्य प्रदेश में जो सबसे गरीब, सबसे नीचे और सबसे पीछे है, उसे आगे लाना है। देश के यशस्वी प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी ने विश्व में सुशासन के क्षेत्र में कीर्तिमान स्थापित किया तथा उन्हीं के नाम पर इस संस्थान की स्थापना की गई। इसे विश्व स्तरीय सुशासन संस्थान के रूप में विकसित करना है। इसके लिए विश्व के विभिन्न क्षेत्रों में सर्वश्रेष्ठ कार्य कर रहे व्यक्तियों और संस्थाओं से निरंतर परामर्श एवं मार्गदर्शन प्राप्त कर कार्य किया जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन संस्थान की बैठक ले रहे थे। बैठक में संबंधित मंत्रीए संस्थान के उपाध्यक्ष, सदस्य एवं अधिकारी उपस्थित थे। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से विषय.विशेषज्ञ भी शामिल हुए।


निरंतर अध्ययन करें, कहाँ सर्वश्रेष्ठ कार्य हो रहे हैं

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि निरंतर अध्ययन करें कि देश-विदेश में कहाँ सुशासन के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ष्ठ कार्य हो रहे हैं तथा बेस्ट प्रैक्टिसेस को मध्यप्रदेश की स्थानीय आवश्यकताओं के अनुरूप लागू किया जाए।


इम्पैक्ट असेसमेंट प्रभाव आंकलन आवश्यक

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि संस्थान द्वारा प्रदेश में चलाई जा रही विभिन्न शासकीय योजनाओं का इम्पैक्ट असेसमेंट प्रभाव आंकलनद्ध निरंतर किया जाएए जिससे कि इनका जनता को अधिक से अधिक लाभ देने के लिए आवश्यक परिवर्तन एवं सुधार किए जा सकें।


हमारा गोल आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमारा लक्ष्य आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश है। इसके लिए निरंतर प्रयास किए जाने चाहिए। विकास के विभिन्न मापदंडों में मध्यप्रदेश की रैकिंग सुधारने के भी निरंतर प्रयास‍किए जायें।


संस्थान के 6 प्रमुख उद्देश्य

संस्थान के उपाध्यक्ष प्रोफेसर सचिन चतुर्वेदी ने कहा कि संस्थान में सर्वश्रेष्ठ व्यक्तियों की सेवाएँ लेने के लिए रिसर्च एडवाइजरी कमेटी बनाई जाएगी। संस्थान के 6 प्रमुख उद्देश्य हैं। नीति प्रारूपनए मॉनीटरिंग, प्रभाव आंकलन, विश्लेषण, नागरिक सेवाओं में सुधार तथा क्षमता संवर्धन।


कृषि की चुनौतियों का हल कृषि क्षेत्र से बाहर

विषय-विशेषज्ञ डॉ. अजीत रानाडे ने कहा कि कृषि की चुनौतियों का हल कृषि क्षेत्र से बाहर है। इस पर अध्ययन किया जाना चाहिए। कृषि आधारित उद्योगों को बढ़ावा दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में सबसे ज्यादा प्रबुद्ध लोकतंत्र है। विषय.विशेषज्ञ श्री सुमित बोस ने कहा कि प्रदेश के विकास के लिए निरंतर नवाचारों की आवश्यकता है।


महिलाओं को आर्थिक शिक्षा आवश्यक

विषय-विशेषज्ञ डॉ. हिमांशु राय ने कहा कि गरीबी दूर करने के लिए महिलाओं को आर्थिक शिक्षा एवं जागरूकता आवश्यक है। महिलाओं को छोटे.छोटे उद्योगों के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। उन्होंने कोविड की चुनौतियों से निपटने के लिए मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान दिए जाने की आवश्यकता बताई।


मध्यप्रदेश की सबसे बड़ी ताकत यहाँ की वन सम्पदा

विषय-विशेषज्ञ डॉ. पंकज श्रीवास्तव ने कहा कि मध्यप्रदेश की सबसे बड़ी ताकत यहाँ की वन सम्पदा है। यहाँ की वन सम्पदा के लिए योजनाएँ बननी चाहिए। मध्यप्रदेश के वनों की जीडीपी की गणना की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश नदियों का मायका है। यहाँ से बड़ी संख्या में नदियाँ निकलकर दूसरे प्रदेशों में जाती हैं।


विशेषज्ञों के सुझावों को लागू किया जाएगा

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में सुशासन के लिए सभी विषय-विशेषज्ञों के सुझावों को लागू किया जाएगा।


मंत्री समूह की अनुशंसाए प्रदेश के विकासए जन-कल्याण और गुड-गवर्नेंस का मार्ग प्रशस्त करेंगी - मुख्यमंत्री श्री चौहान

  • मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंत्रि-परिषद की बैठक के पूर्व किया संबोधित

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मंत्रि-परिषद की बैठक वंदे-मातरम के गान के साथ आरंभ हुई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंत्रि-परिषद की बैठक के पूर्व अपने संबोधन में कहा कि कोरोना संक्रमण के परिणामस्वरूप निर्मित परिस्थितियों में विभिन्न व्यवस्थाओं के सम्बंध में अनुशंसाओं के लिए नौ मंत्री समूह गठित किए गए हैं। मंत्री समूह द्वारा गंभीर चिंतन उपरांत अनुशंसा की जा रही हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण ने शिक्षा व्यवस्था को बहुत प्रभावित किया है। इन स्थितियों में शालेय शिक्षा महाविद्यालयीन व्यवस्थाएं तकनीकी शिक्षाएं मेडिकल और आयुष आदि क्षेत्र की शिक्षा और प्रशिक्षण पर मंत्री-समूह द्वारा विस्तृत ऑकलन और सर्व-संबंधित के अभिमत उपरांत अनुशंसाएं की गयी हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इन अनुशंसाओं की प्रशंसा की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गहन चिंतन उपरांत प्रस्तुत इन अनुशंसाओं से वर्तमान परिस्थितियों में व्यावहारिक समाधान निकलेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मेडिकल ऑक्सीजन उत्पादन में आत्म-निर्भरता और शासकीय एवं निजी क्षेत्र के अस्पतालों के सुनियोजित प्रबंधन और आवश्यक सुविधाओं तथा संसाधनों की उपलब्धता पर मंत्री समूहों द्वारा 2 जुलाई को प्रस्तुतिकरण दिया जाएगा। निश्चित ही ये अनुशंसाएँ गुड-गवर्नेंसए जन-कल्याण और विकास का मार्ग प्रशस्त करेंगी।


राजस्व प्रकरणों का समय सीमा में करें निराकरण - कलेक्टर श्री ठाकुर

  • कलेक्‍टर ने कहा लक्ष्य के अनुरूप करें राजस्व वसूली

sehore news
जिले के समस्त राजस्व अधिकारियों की समीक्षा बैठक में कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेड सभाकक्ष में आयोजित की गई। बैठक में कलेक्टर श्री ठाकुर ने सभी राजस्व अधिकारियों से कहा लोगों के काम समय पर हो और उन्हें बार-बार दफ्तरों के चक्कर न लगाना पडे इसके लिए सीमांकन, नामान्तरण, बंटवारा, डायर्वसन सहित सभी राजस्व संबंधित प्रकरणों का शीघ्र निराकरण करें। श्री ठाकुर ने कहा कि एसडीएम, तहसीलदार, राजस्व न्यायालयों में लंबित प्रकरणों की नियमित समीक्षा करें और समय सीमा में उनका निराकरण करें। श्री ठाकुर ने बैठक में अनुभाग, तहसील एवं राजस्व अधिकारीवार समीक्षा करते हुए कहा कि संभाग में राजस्व प्रकरणों के निराकरण में सीहोर जिले की बेहतर स्थिति है लेकिन यह पर्याप्त नहीं है। सभी राजस्व अधिकारी यह प्रयास करें कि उनके पास कोई प्रकरण पेंडिग न रहे। जिन प्रकरणों में निचले कार्यालय मैदानी कर्मचारी से प्रतिवेदन आना है तो उससे समय सीमा प्रतिवेदन बुलाना सुनिश्चित करें। उन्होंने निर्देश दिये कि डायवर्सन और अन्य राजस्व प्रकरणों में वसूली का कार्य करने के साथ ही लक्ष्य के अनुरूप राजस्व वसूली के लिए सभी एसडीएम, तहसीलदारों को निर्देश दिए। उन्होंने निर्देश दिये कि लोक सेवा केंद्रों के माध्यम से प्रकरण दर्ज होकर ही उनके न्यायालयों में आयें और सभी प्रकरण समय सीमा में निराकृत हों व कोई भी प्रकरण समय सीमा के बाहर न जाये अन्यथा संबंधित अधिकारी से जुर्माना वसूलने की कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने भूमि बंधक प्रकरणों, भू-अधिकार ऋण पुस्तिका वितरण, वनाधिकार पट्टा, अधीनस्थ न्यायालयों से भूमि आवंटन, सीएम हेल्प लाईन, लोक लेखा समिति व सीएजी की लंबित कंडिकाओं आदि के प्रकरणों में भी समुचित कार्यवाही करने के निर्देश दिये। बैठक में अपर कलेक्टर श्रीमती गुंचा श्रीवास्तव सहित सभी एसडीएम, तहसीलदार नायब तहसीलदार उपस्थित थे।


फौती, नामांतरण, बंटवारा प्रकरण बेवजह लेट न हो

कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर ने कहा कि फौती, नामांतरण और बंटवारा के प्रकरणों में यथा संभव शीघ्र निर्णय दें। पटवारी द्वारा बी-1, का वाचन सुनिश्चित करें। बी-1 के वाचन से ही कई प्रकरणों में आसानी से निराकरण हा जाएगा। बंटवारे के प्रकरणों को फील्ड पर जाकर मौके पर देखने के बाद ही निर्णय दे।


बाजार मूल्य गाइडलाइन 15 जुलाई तक बढ़ी


राज्य शासन ने वर्ष 2020-21 की प्रभावी बाजार मूल्य गाइडलाइन की अवधि 30 जून से बढ़ा कर 15 जुलाई 2021 कर दी गई है। वाणिज्यिक कर विभाग ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिये हैं। शासन द्वारा मध्यप्रदेश बाजार मूल्य मार्गदर्शक सिद्धांतों के पुनरीक्षण नियम 2018 के नियम-12 में प्रदत्त शक्तियों के अंतर्गत 2020-21 की प्रभावी बाजार मूल्य गाइडलाईन की समयावधि 15 जुलाई 2021 तक बढ़ाई गई है।


कोरोना की बीमारी से मृत शासकीय सेवकों के परिजनों को प्राथमिकता पर सभी लाभ दें - संभागायुक्त श्री कियावत


ऐसे सभी शासकीय सेवक जिनकी 1 मार्च से 30 जून 2021 के बीच कोविड-19 के कारण मृत्यु हुई हो, उनके परिजनों को प्राथमिकता के आधार पर सभी योजनाओं का लाभ देना सुनिश्चित किया जाए। यह निर्देश संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत ने सभी विभागों के संभाग प्रमुखों को दिये। उन्होंने कहा कि ऐसे सभी प्रकरणों में लंबित प्रकरणों का निराकरण एक सप्ताह में करें। हाल ही में सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा अनुकंपा नियुक्ति के संबंध में जारी सर्कुलर के अनुसार त्वरित कार्यवाही की जाए। संभागायुक्त श्री कियावत ने कहा कि सभी कार्यालय प्रमुख अपने पूरे स्टाफ की सेवा पुस्तिका को अद्यतन करांए ताकि उसकी सेवानिवृत्ति के समय पेंशन या स्वत्वों के भुगतान करने में देरी के कारण परेशानी न हो। बैठक में संयुक्त आयुक्त श्री अनिल कुमार द्विवेदी सहित सभी विभागों के संभागीय प्रमुख अधिकारी उपस्थित थे।


विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने प्रारंभ किया जॉब पोर्टल, उच्च शिक्षाधारी युवा करवा सकेंगे रजिस्ट्रेशन


विश्वविद्यालय अनुदान आयोग युनिवर्सिटी ग्रांट्स कमीशन अर्थात् यूजीसी ने जॉब पोर्टल प्रारंभ किया है, जिस पर रजिस्टर करके युवा रोजगार का अवसर प्राप्त कर सकेंगे। कॅरियर काउंसलर डॉ. मधुसूदन चौबे ने बताया कि यह जॉब पोर्टल एकेडमिक जॉब्स के लिए है। ऐसे युवा जिन्होंने नेट, सेट या स्लेट क्वालिफाई कर लिया है या पीएचडी की डिग्री प्राप्त कर ली है, वे इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं।


रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया

रजिस्ट्रेशन के लिए एकेडमिक जॉब पोर्टल एट यूजीसी यानि  AcademicJobPortal/UG लिखकर गूगल पर सर्च करें। आप आसानी से पोर्टल पर पहुंच जाएंगे। वहां लिखे हुए रजिस्टर शब्द पर क्लिक कीजिए। मांगी गई जानकारी भरिये और आसानी से स्वयं को रजिस्टर किया जा सकता है। अभी तक इस पोर्टल पर 60046 नेट, 15437 नेट-जेआरफ 18033 सेट और 29871 पीएचडी वाले अभ्यर्थियों ने अपना रजिस्ट्रेशन करवा लिया है। अधिक जानकारी के लिए यूजीसी की ऑफिशियल वेबसाइट पर विजिट करें अथवा कॅरियर सेल में संपर्क किया जा सकता है।


अनुपयोगी शासकीय भूमि के प्रभावी उपयोग के बारे में मंत्रि.मण्डल समिति गठित


राज्य शासन ने लोक परिसम्पत्तियों के शासन हित में प्रबंधन, अनुपयोगी शासकीय भूमि के प्रभावी उपयोग तथा उन परिसम्पत्तियों, जिनमें लिटिगेशन प्रचलित हैं, उनके बारे में सुझाव और अनुशंसाएँ प्रस्तुत करने के लिये मंत्रि-मण्डल समिति का गठन किया है। गठित मंत्रि-मण्डल समिति में गृह, जेल, संसदीय कार्य, विधि एवं विधायी कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, वित्त, वाणिज्यिक कर, योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी मंत्री श्री जगदीश देवड़ा, किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल और राजस्व तथा परिवहन मंत्री श्री गोविंद सिंह राजपूत शामिल किये गये हैं। अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन विभाग उक्त समिति के समन्वयक बनाये गये हैं। समिति अधिकारियों और विशेषज्ञों के सुझाव प्राप्त करेगी एवं अपनी अनुशंसाएँ 15 जुलाई, 2021 तक शासन के समक्ष प्रस्तुत करेगी।


अर्थ-व्यवस्था के लिए संजीवनी है केन्द्र का आर्थिक सुधार पैकेज - वित्त मंत्री श्री देवड़ा

  • प्रधानमंत्री श्री मोदी के प्रति जताया आभार

वित्त मंत्री श्री जगदीश देवड़ा ने कहा है कि केन्द्र सरकार द्वारा की अर्थ-व्यवस्था को गति देने के लिए 6.29 लाख करोड़ का प्रोत्साहन पैकेज देने से कोविड-19 प्रभावित भारत की अर्थ-व्यवस्था में नया मोड़ आयेगा। उन्होने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को इस पहल के लिये धन्यवाद देते हुए कहा कि उनके नेतृत्व में केन्द्रीय वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण एवं वित्त राज्य मंत्री श्री अनुराग ठाकुर द्वारा घोषित किया गया आर्थिक पैकेज अर्थ-व्यवस्था के लिये संजीवनी साबित होगा और बूस्टर डोज का काम करेगा। श्री देवड़ा ने मध्यप्रदेश की अर्थ-व्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिये मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का भी आभार व्यक्त करते हुए कहा कि केन्द्र सरकार के नये पैकेज से मध्यप्रदेश को भरपूर लाभ होगा। मंत्री श्री देवडा ने कहा कि यह राहत पैकेज स्वास्थ्य, एम.एस.एम.ई., पर्यटन, निर्यात एवं आत्म-निर्भर भारत रोजगार योजना सहित विभिन्न क्षेत्रों के लिये संजीवनी की तरह है। इन क्षेत्रों को फिर से जीवन मिलेगा। उन्होंने कहा कि यह प्रोत्साहन पैकेज समय की मांग के अनुसार है। उन्होंने कोरोना प्रभावित उघमियों को कम ब्याज दर पर 1.1 लाख करोड़ आर्थिक पैकेज देने की घोषणा का स्वागत करते हुए कहा कि प्रभावित क्षेत्रों को कोरोना महामारी से उपजे आर्थिक संकट से उबरने में मदद मिलेगी।


छोटे उद्यमियों को बढ़ावा मिलेगा

मंत्री श्री देवड़ा ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा किए गए इन उपायों से निजी निवेश, निर्यात, कृषि उत्पादकता में वृद्धि को मदद मिलेगी तथा छोटे शहरों में भी स्वास्थ्य संबंधी ढाँचागत सुविधाएँ मजबूत होगी। अर्थ-व्यवस्था के पुर्नद्धार को गति मिलेगी और आर्थिक गतिविधियों में भी तेजी आएगी। यह राहत पैकेज अर्थ-व्यवस्था के लिए जीवन रक्षक साबित होगा। इन उपायों से उत्पादन भी बढ़ेगा और रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे। साथ ही छोटे उद्यमियों, व्यवसायियों और पर्यटन को बढावा मिलेगा। चिकित्सा क्षेत्र में निवेश बढ़ने से इस क्षेत्र में मजबूती मिलेगी। स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर किए गए प्रावधानों से पिछड़े क्षेत्रों में भी स्वास्थ्य सुविधाएँ बढ़ सकेंगी। मंत्री श्री देवड़ा ने कहा कि देश में 18 वर्ष से अधिक आयु के प्रत्येक नागरिक को फ्री वैक्सीन देने का क्रांतिकारी कदम उठा चुकी केंद्र सरकार ने अब इन आर्थिक उपायों से वित्तीय क्षेत्र को भी जरूरी वैक्सीन प्रदान कर दी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का लाभ नागरिकों को मिला है। अब इस योजना को नवंबर तक बढ़ाए जाने से गरीब लोगों को फायदा पहुँचेगा।


सेवा के अर्थ को सार्थक किया डाक्टर नवीन मेहर ने : "डाक्टर्स डे पर विशेष"


sehore news
चिकित्सा सेवा में अनेक ऐसे डॉक्टर्स भी हैं जो अपने डॉक्टर्स के पेशे के साथ ही निस्वार्थ भाव से पीड़ित मानव की सेवा के लिए सदैव समर्पित रहते हैं और समाज में उनका नाम और सम्मान होता है। लेकिन कुछ ऐसे भी डॉक्टर्स हैं जिन्होंने बिना किसी नाम या सम्मान की चाह में, न केवल अपने डाक्टर्स के उत्तरदायित्व को पूरी निष्ठा के साथ निभाया, बल्कि डयूटी से आगे जाकर चौबीस घंटे मरीजों की सेवा के लिए समर्पित होकर सेवा के अर्थ को सार्थक किया है। जिला चिकित्सालय सीहोर में पदस्थ नवीन मेहर ऐसे ही डॉक्टर हैं जिन्होंने कोविड की दोनों वेब के दौरान डयूटी के अलावा अस्पताल से बाहर लोगों के घरों पर जाकर निःशुल्क इलाज किया और कई लोगों को काल के गाल में जाने से बचाया। जब रात में सोते समय किसी मरीज का उनके पास फोन आता तो उसे मोबाइल पूरा इलाज देते। अगर मरीज ज्यादा निराश या हताश लगता, तो वे उसके घर जाकर ईलाज के साथ संबंल भी देते। वे कहते हैं कि स्वस्थ होने के बाद मरीज के चेहरे की मुस्कान देखकर जो संतुष्टि मिलती है, उसे शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता। डॉ. नवीन बताते हैं कि कोविड-काल में अस्पताल की ओपीडी मे लगातार मरीजों की संख्या बड़ती जा रही थी। इलाज के लिए आने वाले मरीज और उनके परिजन घबराए हुए थे। उनके परिजन चाहते थे, कि उनके मरीज का इलाज जल्द शुरू हो जाए। कई बार वे थोड़े से विलम्ब पर आपा खो देते थे। ऐसे में पूरे धैर्य और संयमित व्यवहार के साथ उनको आश्वस्त करना पड़ता कि वे चिंता न करें, सब ठीक होगा और वे खुद सहयोग करने लगते। डॉक्टर के व्यवहार का मरीजों और उनके परिजनों पर गहरा प्रभाव पड़ता है। डॉक्टर्स और नर्सेस के सकारात्मक व्यवहार से मरीजों का मनोबल बढ़ता है जो शीघ्र स्वस्थ्य होने में सहायक होता है।


जिले में आज एक भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव नही मिला, वर्तमान में कोरोना एक्टिव पाजिटिव की संख्या 04


पिछले 24 घंटे के दौरान प्राप्त रिपोर्ट में जिले में आज एक भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव नही मिला है। सीएमएचओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में अब तक कुल कोरोना पॉजिटिव व्यक्तियों की संख्या 10131 है। वर्तमान में एक्टिव पॉजिटिव 04 हैं। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या 10012 हैं। कुल कोविड संक्रमित मृत व्यक्तियों की संख्या 115 है । आज 1159 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 296, श्यामपुर से 223, विकासखंड नसरुल्लागंज से 159, आष्टा से 228,  बुधनी से 104 तथा इछावर से 149 सेंपल लिए गए हैं। अभी तक कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 171925 हैं जिनमें से 160445 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। आज 725 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 966 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथोलॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 00 है। जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में हैं उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 कॉल सेंटर स्थापित किया गया है। जिसका संपर्क नंबर- 07562-1075 है। जिला स्तर पर जिला कोविड कमांड कंट्रोल सेंटर का मोबाइल नंबर 9425400273, 7987652577, 9425400453 पर कॉल सेंटर पर संपर्क किया जा सकता है। राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर कॉल करके भी टेलीमेडिसिन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। होम क्वारंटाईन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाइन नंबर 18002330175 जारी किया गया है। होम क्वारंटाईन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साइकोलॉजिकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से नि%शुल्क प्राप्त कर सकते हैं।


जिला पंचायत सीईओ श्री सिंह ने निर्माण कार्यों का किया निरीक्षण


जिले में चल रहे निर्माण एवं विकास कार्यों का जिला पंचायत सीईओ द्वारा लगातार ग्रामीण क्षेत्रों का भ्रमण कर निरीक्षण किया जा रहा है। निरीक्षण के दौरान गुणवत्ता एवं समय सीमा में निर्माण कार्य पूर्ण करने के संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए जा रहे हैं। श्री सिंह ने इछावर जनपद की ग्राम पंचायत दीवडिया, मूण्डला एवं चैनपुरा में चल रहे निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया। उन्होंने नल-जल योजना के तहत पानी की टंकी निर्माण, जल संरक्षण सहित अन्य निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया गया। उन्होंने इस अवसर पर पौधरोपण भी किया।


मुख्य सचिव की अध्यक्षता में स्पेशल टास्क फोर्स का गठन


राज्य शासन ने प्रदेश में सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग बंद करने की कार्य योजना की समीक्षा के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में स्पेशल टास्क फोर्स गठित की है। टास्क फोर्स में अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव पर्यावरण, खेल एवं युवा कल्याण, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, नगरीय विकास एवं आवास, औद्योगिक विकास एवं नीति प्रोत्साहन, तकनीकी कौशलए उच्च शिक्षा, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, आयुक्त संचालक जनसम्पर्क, सदस्य सचिव मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, राज्य संयोजक स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण एवं शहरी सदस्य होंगे। टास्क फोर्स प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन नियम 2016 को प्रदेश में लागू करने के लिए विभागों में समन्वय कर समयबद्व कार्यवाही करेगी।


मुख्यमंत्री श्री चौहान अभूतपूर्व योगदान देने वाले चिकित्सकों का करेंगे सम्मान, डॉक्टर्स-डे पर होगा सम्मान एवं संवाद कार्यक्रम


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के मुख्यआतिथ्य में एक जुलाई को डॉक्टर्स-डे सम्मान एवं संवाद कार्यक्रम मिंटो हॉल, भोपाल में सुबह 11 बजे आयोजित किया गया है। नेशनल डॉक्टर्स-डे के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रम में अभूतपूर्व योगदान के लिये प्रदेश के सभी समर्पित चिकित्सकों का सम्मान किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान प्रतीक स्वरूप पाँच चिकित्सकों का सम्मान करेंगे। चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास कैलाश सारंग और लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी कार्यक्रम की अध्यक्षता कर उदबोधन देंगे। चिकित्सा शिक्षा और लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित कार्यक्रम में कोरोना के समय ड्यूटी करते हुए जान गवांने वाले चिकित्सकों के सम्मान में तैयार की गयी वॉल पर श्रद्धांजलि होगी। कार्यक्रम में डॉ. हरिहर त्रिवेदी और डॉ. अपूर्व पौराणिक का उद्बोधन भी होगा। चिकित्सा शिक्षा आयुक्त निशांत वरवड़े कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे। सचिव सह.आयुक्त स्वास्थ्य श्री आकाश त्रिपाठी शुरूआत में कार्यक्रम की रूपरेखा पर प्रकाश डालेंगे। अंत में संचालक चिकित्सा शिक्षा द्वारा आभार व्यक्त किया जायेगा। एनआईसी लिंक के माध्यम से अन्य प्रबुद्ध चिकित्सकों का उद्बोधन भी होगा। कार्यक्रम का दूरदर्शन के माध्यम से सीधा प्रसारण किया जायेगा। वेबकॉस्ट लिंक  http://webcast.gov.in/mp/cmevents/ के माध्यम से लाइव जुड़ा जा सकता है।


आबकारी विभाग ने छापामार कार्रवाई कर अवैध मदिरा जप्त की


जिले में अवैध मदिरा के विरुद्ध कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर के निर्देश पर आबकारी विभाग निरंतर कार्रवाई की जा रही है। आबकारी अमले ने सीहोर, नसरूल्लागंज में कुल 60 लीटर कच्ची मदिरा और 1525 किलो महुआ लाहन जप्त किया है। आबकारी अधिकारी कीर्ति दुबे ने बताया कि कार्रवाई करते हुए मप्र आबकारी अधिनियम 1915 की विभिन्न धाराओं के अन्तर्गत कोरोना कर्फ्यू की अवधि में 60 लीटर देशी, हाथभटटी मदिरा एवं 1525 किग्रा महुआ लाहन जप्त किया है जिसकी अनुमानित कीमत 82 हजार 250 रुपये है। इस कार्यवाही में आबकारी उपनिरीक्षक श्री चन्दरसिंह और टीम शामिल थी।


माँ की मृत्यु के बाद भी करते रहें सेवा मानवता की मिशाल है - डॉ. सुधीर डेहरिया


sehore news
अपनों को खोने के बाद किसी भी काम में मन नही लगता। अपनों की मृत्यु के दुख से उबरना आसान नहीं होताए हर समय एक उदासी छायी रहती है। लेकिन कुछ लोगा ऐसे भी हैंए जो अपना दुख भूलकर पूरा समय दूसरों की सेवा में लगा देते हैं। सीहोर जिला चिकित्सालय में पदस्थ मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुधीर कुमार डेहरिया ऐसे ही व्यक्ति हैं, जो   अपनी मॉ की मृत्यु के बाद भी कोरोना मरीजों की सेवा में दिन रात काम करते रहे। कोरोना काल में दिन-रात मरीज इलाज के लिए जिला अस्पताल आ रहे थे। अस्पताल के संसाधन कम पड़ने लगे तब डॉ डेहरिया जिले में स्वास्थ्य सेवाओं को बढाने के लिए हर संभव प्रयास करते रहे। उन्होंने बताया कि जिला अस्पताल में आक्सीजन बेड खाली नहीं होता और किसी सीरियस पेसेंट को वापस लौटाना मेरे लिए बेहद कष्टप्रद होता था। अपनों के जाने का दुख क्या होता है यह मुझे पता है, इसलिए हमेशा यह कोशिश करता रहा कि किसी और को उनके अपनों को खोना न पड़े। उन्होंने कहा कि माँ ने मुझे जन्म दिया है, मुझे इस लायक बनाया कि मैं दूसरों की सेवा कर सकूं। सरकार ने पूरे जिले के लोगों के स्वास्थ्य की जिम्मेदारी मुझे दी है। मैं पूरे सेवाभाव से अपनी जिम्मेदारी निभाने की कोशिश कर रहा हूं।


प्रदेश में मार्च 2022 तक होने वाली सभी सांस्कृतिक और पर्यटन गतिविधियों का कार्यक्रम जारी

  • मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया कला पंचांग का लोकार्पण

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने संस्कृति विभाग द्वारा प्रकाशित कला पंचांग का आज निवास पर लोकार्पण किया। पर्यटन, संस्कृति एवं अध्यात्म मंत्री सुश्री उषा ठाकुर और प्रमुख सचिव संस्कृति तथा जनसंपर्क श्री शिव शेखर शुक्ला भी इस अवसर पर उपस्थित थे। मंत्री सुश्री उषा ठाकुर ने मुख्यमंत्री श्री चौहान को बुंदेलखंड के भित्ति चित्रश् नामक पुस्तक भेंट की। प्रमुख सचिव श्री शिव शेखर शुक्ला ने जानकारी दी कि कला पंचांग में संस्कृति तथा पर्यटन विभाग द्वारा वर्ष के आगामी माहों में संचालित की जाने वाली सभी गतिविधियों को जोड़ा गया है। पंचाग में अप्रैल 2021 से मार्च 2022 तक की गतिविधियों का उल्लेख है।


प्रदेश में प्रतिवर्ष आयोजित होती हैं लगभग दो हजार सांस्कृतिक गतिविधियाँ

उल्लेखनीय है कि संस्कृति विभाग सम्पूर्ण प्रदेश में कला और उसके स्वरूपों पर केन्द्रित समारोह, प्रदर्शनी, प्रशिक्षण शिविर, पुरस्कार, परिसंवाद, संगोष्ठी, व्याख्यान, कविता, कहानी, फिल्म, नाटक, साहित्य पठन.पाठन आदि गतिविधियाँ आयोजित करता है। विभाग द्वारा वर्ष में आयोजित ऐसी समस्त गतिविधियों की जानकारी समय पूर्व देने के उद्देश्य से कला पंचांग प्रकाशित किया जाता है। यह प्रयास कला रसिकों, अध्येताओं, विशेषज्ञों, प्रशिक्षुओं, कलाकारों, पत्रकारों, आलोचकों, गणमान्य नागरिकों और इन गतिविधियों में रूचि रखने वालों की सुविधा के लिए है। यह दो से ढाई दशक पुरानी परम्परा है। पूरे वर्ष में अलग-अलग अकादमियाँ और संचालनालय जो गतिविधियाँ कराती हैं उनका योग लगभग 1500 से 2000 के मध्य होता है। विभाग द्वारा लगभग 30 नई गतिविधियाँ शामिल की गई हैं। आजादी का अमृत महोत्सव अंतर्गत की जाने वाले गतिविधियों को भी इसमें सम्मिलित किया गया है।


कोरोना की स्थिति में ऑनलाइन होंगे आयोजन

कला पंचांग का प्रकाशन इस आशा के साथ किया गया है कि देश कोरोना महामारी के संकट से मुक्त होगा और सांस्कृतिक गतिविधियाँ पूर्ववत आयोजित हो सकेंगी। यदि गतिविधियों को भौतिक रूप से आयोजित नहीं किया जा सकेगा तो कार्यक्रम ऑनलाइन आयोजित करने के प्रयास होंगे।


जनजातीय कलाकारों की पेंटिंग्स से सुसज्जित है कला पंचांग

वर्ष 2021.22 के कला पंचांग में मध्यप्रदेश की जनजातियों के प्रकृति से लगाव के चित्रण को प्रकाशित किया गया है। पंचांग के कवर पेज पर कलाबाई श्याम द्वारा करमा नृत्य पर बनाई गई पेंटिंग है। इसके साथ ही भूरी बाई ननकू सिया श्याम, लाडो बाई दुर्गाबाई नर्मदा प्रसाद टेकाम और रामसिंह के चित्रण से पंचांग सुशोभित है। पंचांग के माध्यम से यह संदेश देने का प्रयास किया गया है कि हम अपने आस.पास प्रकृति को पुनर्स्थापित करने का प्रयास करें।


कोविड प्रभावित कर्मियों के स्थानान्तरण में विभाग रखेगा उनका ध्यान - मंत्री श्री भार्गव

  • लोक निर्माण विभाग की अभिनव पहल, एक जुलाई से 5 जुलाई तक पोर्टल पर मांगी जानकारी

लोक निर्माण मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने कहा है कि राज्य शासन की नवीन स्थानान्तरण नीति के तहत कोविड प्रभावित अधिकारी कर्मचारियों के हितों का पूरा ध्यान रखा जाए। इसके लिये विभाग द्वारा अभिनव पहल करते हुए प्रदेश में सबसे पहले अपने विभागीय पोर्टल mppwd.gov.in/covid.aspx पर 5 जुलाई तक कोविड प्रभावित शासकीय कर्मियों की जानकारी मांगी गई है। प्रमुख सचिव श्री नीरज मंडलोई ने बताया है कि फरवरी 2020 के बाद कोविड.19 से संक्रमित हुए कर्मचारी अधिकारियों को एक जुलाई से प्रारंभ होने वाले पोर्टल mppwd.gov.in/covid.aspx पर जानकारी दर्ज कराना होगी। यह व्यवस्था राज्य शासन की स्थानान्तरण नीति के संदर्भ में विभाग द्वारा प्रारंभ की गई है। उन्होंने बताया कि विभाग के पोर्टल पर मोबाइल नम्बरए पदए जन्मतिथिए कोविड पॉजिटिव रिपोर्ट का एसआरएफ.आईडी.आरटीपीसीआर का दिनांक एवं कोविड नेगेटिव होने की दिनांक भी दर्ज करना होगी। लोक निर्माण विभाग द्वारा स्थानान्तरण के प्रस्ताव तैयार करते समय उक्त रिपोर्ट पर विशेष ध्यान रखा जायेगा। उन्होंने स्पष्ट किया है कि निर्धारित अवधि तक अधिकारी-कर्मचारी अपनी जानकारी अंकित नहीं करते हैं, तो स्थानान्तरण की स्थिति में संबंधित शासकीय सेवक स्वयं उत्तरदायी होगें।


कर्मचारी संगठनों द्वारा सराहना

विभाग की इस पहल को लोक निर्माण विभाग कर्मचारी संगठनों द्वारा सराहा गया हैए इस प्रक्रिया से कोविड-19 से प्रभावित कर्मचारी और उनके परिवारों को राहत मिल सकेगी। 

कोई टिप्पणी नहीं: