बिहार के 15,729 प्रवासी मजदूरों ने दूसरे राज्यों में लिया राशन - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 30 जुलाई 2021

बिहार के 15,729 प्रवासी मजदूरों ने दूसरे राज्यों में लिया राशन

15729-labour-take-rashon-from-another-state
पटना : राज्यसभा में शुक्रवार को केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने सांसद सुशील कुमार मोदी के एक सवाल के जवाब में बताया कि इस साल कोरोना की दूसरी लहर के दौरान पूरे देश में सर्वाधिक बिहार के 15,729 प्रवासी मजदूरों नेअपने गृह राज्य के बाहर ‘वन नेशन, वन राशन कार्ड’ योजना के तहत अपने कोटे का राशन लिया। उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र में रहने वाले 3,073, दिल्ली में 2,773, हरियाणा में 1,838, दादर व नगर हवेली और दमन व दीव में 1,577 तथा गुजरात में 1,428 प्रवासी बिहारी मजदूरों ने राशन का उठाव किया। इस साल अप्रैल से जुलाई के बीच जब कोरोना की दूसरी लहर पीक पर थी, तब जुलाई महीने में दूसरे राज्यों में राशन का उठाव करने वाले बिहारी मजदूरों की संख्या अप्रैल की 3,249 की तुलना में करीब दोगुनी यानी 6,419 रही। पश्चिम बंगाल, छतीसगढ़ और असम की सरकारों ने अभी अपने यहां ‘वन नेशन, वन राशन कार्ड’ योजना को लागू नहीं किया है। ज्ञातव्य है कि नरेंद्र मोदी सरकार ने देश में ‘वन नेशन, वन राशन कार्ड’ योजना लागू की है, जिसके तहत किसी भी राज्य का राशन कार्डधारी किसी दूसरे राज्य में या अपने गृह राज्य में भी अपने मूल निवास से इतर कहीं से भी अपने कोटे के राशन का उठाव कर सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं: