बिहार : ऐपवा के 15 दिवसीय के राष्ट्रीय अभियान के तहत प्रदर्शन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 20 जुलाई 2021

बिहार : ऐपवा के 15 दिवसीय के राष्ट्रीय अभियान के तहत प्रदर्शन

  • * ऐपवा ने  मंहगाई के खिलाफ व स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए जिला मुख्यालयों पर किया प्रदर्शन  
  • * ऐपवा के कार्यालय सचिव विभा गुप्ता ने कहा कि मांगे नहीं माने जाने पर आन्दोलन और तेज किया जाएगा

aipwa-protest-bihar
पटना। अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन ऐपवा ने आज पूरे बिहार में पेट्रोलियम पदार्थों, खाद्य पदार्थों, रसोई गैस  की बढ़ती कीमतोंके खिलाफ व सभी का मुफ्त टीकाकरण करने , पंचायत स्तर तक सुविधा सम्पन्न चिकित्सा केंद्र बनाने, 45 वर्ष के नीचे रजिस्ट्रेशन की अनिवार्यता खत्म करने आदि मांगों को लेकर प्रदर्शन किया।यह प्रदर्शन ऐपवा के 15 दिन के राष्ट्रीय अभियान के तहत किया गया। इस प्रदर्शन का नेतृत्व पटना में राज्य अध्यक्ष सरोज चौबे, सचिव शशि यादव, अनुराधा सिंह, राखी मेहता, आबदा खातून, सिवान में सोहिला गुप्ता, मालती राम, गया में रीता वरनवाल, नवादा में सावित्री देवी, वैशाली में साधना सुमन, दरभंगा में शनीचरी देवी, गोपाल गंज में रीना सिंह आदि ने किया। नेताओं ने कहा कि एक तरफ महिलाएं कोरोना की मार से परेशान हैं , रोजगार छिन गए हैं दूसरी तरफ कमरतोड़ मंहगाई लगातार बढ़ रही है। सरकार कारपोरेट घरानों के हित में लगातार पेट्रोलियम पदार्थों के दाम, खाद्य पदार्थों के दाम, घरेलू गैस का दाम बढ़ाती जा रही है। आगे नेताओं ने कहा कि कोरोनावायरस की दूसरी लहर की भीषण तबाही से सरकार ने सबक नहीं लिया है । इसीलिए आसन्न तीसरी लहर के रोकथाम की तैयारी के बजाए यूं पी चुनाव की तैयारी में लग गई है। टीकाकरण अभियान बहुत ही धीमी गति से चल रहा है। जो चल भी रहा है वह प्रचार के लिए अधिक है। तीसरे रोजगार धन्धों के चौपट हो जाने बाद भुखमरी की स्थिति पैदा हो गई है। इसीलिए सरकार को कोविड  काल की प्रत्येक मौत का देना होगा साथ ही मजदूरों को प्रतिमाह भरण पोषण के लिए पर्याप्त राशन किट देना हो।

कोई टिप्पणी नहीं: