बिहार : उपेन्द्र कुशवाहा से भूमि के निराकरण के संबंध में भेंट - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 8 जुलाई 2021

बिहार : उपेन्द्र कुशवाहा से भूमि के निराकरण के संबंध में भेंट

shashi-ranjan-meet-upendra-kushwaha
पटना,8 जुलाई। पटना महानगर कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष शशि रंजन ने आज जदयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष सह विधान पार्षद श्री उपेन्द्र कुशवाहा के आवास पर मुलाकात कर दीघा थाना नं0-1 के अंतर्गत बिहार राज्य आवास बोर्ड द्वारा अधिगृहित 1024.52 एकड़ भूमि के निराकरण के संबंध में अपने सुझाव दिये। उन्होंने बताया कि दीघा के किसान एवं स्थानीय निवासी वर्ष 1974 से अभी तक अपने जमीन का मुआवजा के लिए संघर्षरत हैं। 45 वर्ष से अधिक दिन बीत जाने के वावजूद अभी तक किसी भी भूस्वामी को उनके जमीन का मुआवजा नहीं मिल सका है, जबकि 70 प्रतिशत से अधिक भू-भाग पर आवासीय मकान अथवा वाणिज्यिक भवन का निर्माण हो चुका है। बीमारी,बच्चों की शादी तथा अन्य निजी जरूरतों की पूर्ति करने हेतु भू-स्वामी ओने-पौने भाव में अपने भूमि को बेचने के लिए विवश हैं, जिसका भू-माफिया नाजायज फायदा उठाकर उनका दोहन कर रहे हैं।  इन्हीं बातों पर ध्यान आकृष्ट किया तथा श्री उपेन्द्र कुशवाहा से आग्रह करते हुए कहा कि उर्पयुक्त भूमि का अधिग्रहण टाउनशिप के निर्माण हेतु किया गया था, परन्तु कुछ भूमि को crpf, SSB, CBSE,CPWD भारत सरकार के कार्यालय इत्यादि निर्माण हेतु दिया जा चुका है, लेकिन उस भूमि के किसानों को अभी तक मुआवजा का भुगतान नहीं किया गया।  शशि रंजन ने कहा कि श्री उपेन्द्र कुशवाहा उनकी बातों को ध्यान से सुने तथा दीघा के किसानों की समस्याओं से अवगत होते हुए कहा कि इन सारी समस्याओं को लेकर वे जल्द ही मुख्यमंत्री से मिलकर उनको वस्तुस्थिति से अवगत करायेंगे।  इस अवसर पर दीघा भूमि बचाओं समिति के अध्यक्ष पूर्व वार्ड पार्षद संजय कुमार सिंह, बीरेन्द्र सिंह, सुदय शर्मा, अचल मेहता, प्रदीप कुमार झा, सुनील यादव, रंजीत सिंह, विनोद यादव आदि प्रमुख हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं: