दक्षिण पूर्व रेलवे में राजभाषा का प्रयोग प्रसार सराहनीय : विद्या भूषण - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 27 जुलाई 2021

दक्षिण पूर्व रेलवे में राजभाषा का प्रयोग प्रसार सराहनीय : विद्या भूषण

national-language-use-in-southern-railway
संवाददाता ,लाइव आर्यावर्त ,कोलकता ,27 जुलाई, क्षेत्रीय रेल राजभाषा कार्यान्वयन समिति ,दक्षिण पूर्व रेलवे की चालू वर्ष की दूसरी बैठक आज मंगलवार को दक्षिण पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक विद्या भूषण की अध्यक्षता में संपन्न हुई। महाप्रबंधक ने अपने संबोधन में दक्षिण पूर्व रेलवे में राजभाषा के सराहनीय प्रयोग व प्रसार पर संतोष व्यक्त करते हुए हिंदी में प्रवीणता प्राप्त अधिकारियों और कर्मचारियों को राजभाषा के प्रचार-प्रसार में अपना अधिक-से-अधिक योगदान देने का निर्देश दिया। दक्षिण पूर्व रेलवे के गार्डन रीच स्थित मुख्यालय में आभाषी माध्यम से आयोजित इस बैठक में सभी विभागों के प्रमुख ,सभी मंडलों के अपर मुख्य राजभाषा अधिकारी और खड़गपुर स्थित रेल कारखाना के उप मुख्य राजभाषा अधिकारी शामिल हुए। मुख्य राजभाषा अधिकारी एवं प्रधान बिजली अभियंता ने अपने सम्बोधन में सभी अधिकारियों से राजभाषा हिंदी के प्रचार , प्रयोग व प्रसार में सकारात्मक सहयोग देने का निवेदन किया। इस अवसर पर राजभाषा विभाग की पत्रिका बीएनआर हिंदी ई -पत्रिका के द्वितीय अंक का विमोचन भी किया गया। आभासी माध्यम से आयोजित इस बैठक का संचालन राजभाषा विभाग के उप महाप्रबंधक पी सी डांग ने किया।  

कोई टिप्पणी नहीं: