काम का दाम मांग रहे वार्ड सचिवों पर बर्बर लाठीचार्ज कहां का न्याय है नीतीश जी - माले - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 30 जुलाई 2021

काम का दाम मांग रहे वार्ड सचिवों पर बर्बर लाठीचार्ज कहां का न्याय है नीतीश जी - माले

cpi ml kunal
पटना 30 जुलाई, भाकपा-माले राज्य सचिवव कुणाल ने बिहार की भाजपा-जदयू सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि यह सरकार लगातार दमन की भाषा बोल रही है. कल पटना में जिस प्रकार से वार्ड सचिवों पर पुलिसिया दमन किया गया, उसकी जितनी भी निंदा की जाए कम ही होगी. उन्होंने कहा कि विगत चार सालों से सरकार राज्य के 1 लाख 14 हजार वार्ड सचिवों से वार्ड स्तर पर नल-जल एंव गली-नली योजना में काम कराते रहे हैं, लेकिन आज तक इन लोगों को एक रु. तक नहीं दिया गया है. उलटे जब वे अपने काम का दाम मांग रहे हैं, तो उनपर बर्बर लाठियां चल रही हैं, यह कहां का न्याय है? ये वार्ड सचिव भूखे प्यासे रहकर सरकाम का काम रहे हैं. ऐसी भी कोई संवेदनहीन सरकार हो सकती है, यह समझ से परे है. भाकपा-माले बेगार में काम करवाने की इस सामंती मिजाज वाली प्रवृति की घोर निंदा करती है. हमारी मांग है कि सरकार अविलंब सभी वार्ड सचिवों को चार साल के काम के बदले दाम दे तथा सबका स्थायीकरण करे. भाकपा-माले वार्ड सचिवों के आंदोलन के साथ पूरी मजबूती के साथ खड़ी है और इस लड़ाई को लड़ेगी.

कोई टिप्पणी नहीं: