पुष्पम प्रिया चौधरी ने WIT को बचाने के लिए नीतीश को लिखा खत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 28 जुलाई 2021

पुष्पम प्रिया चौधरी ने WIT को बचाने के लिए नीतीश को लिखा खत

pushpam-write-letter-to-nitish
दरभंगा, महिला प्रौद्योगिकी संस्थान दरभंगा को उसके मूल स्वरूप में बनाये रखने के लिए संघर्ष करने और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखने के वायदे को प्लुरल्स अध्यक्ष पुष्पम प्रिया चौधरी ने पूरा किया. हाल ही में पुष्पम प्रिया चौधरी ने WIT का दौरा किया था. जहां संस्थान के निदेशक यु के दास और छात्राओं से मुलाकात करके संस्थान के समस्याओं के बारे में विस्तार से चर्चा की थी. उन्हें आश्वासन दिया कि मैं और मेरी पार्टी इसके मूल स्वरूप में बदलाव किसी कीमत पर नहीं होने देगी. इस संस्थान से महिला शब्द को विलोपित करने नहीं दिया जाएगा. बिहार का एकमात्र महिला प्रौद्योगिकी संस्थान की मौलिकता में परिवर्तन करने नहीं दिया जाएगा.  अपने वायदे को पूरा करते हुए उन्होंने WIT को बचाने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखा. इसकी जानकारी माइक्रो ब्लॉगिंग साइट पर देते हुए लिखा "पूर्व-राष्ट्रपति भारत रत्न डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की पुण्य-तिथि के दिन माननीय मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार को कलाम साहब के नाम से स्थापित उनके ड्रीम प्रोजेक्ट वीमेन इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नॉलॉजी (WIT), दरभंगा के मूल स्वरूप बनाए रखते हुए तीन मुख्य अनुरोध समर्पित किया है: 


1. राज्य सरकार से वित्तीय अनुदान,

2. सरकारी विभागों में 100% प्लेसमेंट, और 

3. पहले वीमेन IIT का दर्जा के लिए केंद्र को अनुशंसा.


उम्मीद है बिहार की लड़कियों और मिथिला के विकास के सम्मान में आप सकारात्मक पहल करेंगें. पुष्पम प्रिया चौधरी ने पत्र में WIT में डॉक्टर ए पी जे  अब्दुल कलाम की मूर्ति स्थापित करने की भी बात की.  उन्होंने पत्र में यह भी लिखा कि महिलाओं को मुख्यधारा में लाने के आपके सुशासन के एजेंडे का भी यह प्रतीक है जिसे बचाकर डॉक्टर कलाम  को सच्ची श्रद्धांजलि दी जा सकती है.

कोई टिप्पणी नहीं: