67 अंक टूटकर एक सप्ताह के निचले स्तर पर बंद हुआ सेंसेक्स - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 1 जुलाई 2021

67 अंक टूटकर एक सप्ताह के निचले स्तर पर बंद हुआ सेंसेक्स

sensex-fall-lowest-on-week
मुंबई 30, जून, विदेशों से मिले नकारात्मक संकेतों के बीच घरेलू शेयर बाजारों में आखिरी समय में बिकवाली बढ़ने से बीएसई का सेंसेक्स करीब 67 अंक टूटकर एक सप्ताह के निचले स्तर पर बंद हुआ। लगभग पूरे दिन बढ़त में रहने के बाद सेंसेक्स आखिरकार 66.95 अंक यानी 0.13 प्रतिशत टूटकर एक सप्ताह के निचले स्तर 52,482.71 अंक पर आ गया। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 26.95 अंक यानी 0.17 प्रतिशत फिसलकर 15,721.50 अंक पर बंद हुआ जो 23 जून के बाद का निचला स्तर है। दोनों सूचकांक लगातार तीसरे दिन लाल निशान में बंद हुये हैं। बैंकिंग एवं वित्तीय क्षेत्र की कंपनियों में बिकवाली रही। आईसीआईसीआई बैंक और एचडीएफसी ने बाजार पर सबसे अधिक दबाव बनाया। दूसरी तरफ आईटी एवं टेक क्षेत्र की कंपनियों में हुई लिवाली से बाजार की गिरावट कुछ कम रही। मझौली कंपनियों पर कम दबाव रहा जबकि छोटी कंपनियों में निवेशकों ने पैसा लगाया। बीएसई का मिडकैप 0.03 प्रतिशत टूटकर 22,535.95 अंक पर बंद हुआ। स्मॉलकैप 0.56 प्रतिशत चढ़कर 25,232.17 अंक पर पहुँच गया। सेंसेक्स की कंपनियों में पावरग्रिड का शेयर 1.51 प्रतिशत, बजाज फिनसर्व का 1.49 प्रतिशत, आईसीआईसीआई बैंक का 1.46 प्रतिशत, एचडीएफसी का 1.04 प्रतिशत और एनटीपीसी का 1.02 प्रतिशत लुढ़क गया। इंफोसिस में 1.19 प्रतिशत और रिलायंस इंडस्ट्रीज में 1.14 प्रतिशत की तेजी रही। विदेशों में अधिकतर प्रमुख शेयर बाजार गिरावट में रहे। एशिया में हांगकांग का हैंगसेंग 0.57 प्रतिशत और जापान का निक्केई 0.07 प्रतिशत टूट गया जबकि चीन के शंघाई कंपोजिट में 0.50 फीसदी और दक्षिण कोरिया के कोस्पी में 0.30 प्रतिशत की तेजी रही। यूरोप में शुरुआती कारोबार में जर्मनी का डैक्स 0.91 फीसदी और ब्रिटेन का एफटीएसई 0.56 प्रतिशत कमजोर हुआ। 

कोई टिप्पणी नहीं: