बिहार : 7 शहीदों को बिहार ने किया नमन, नीतीश ने दी श्रद्धांजलि - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 11 अगस्त 2021

बिहार : 7 शहीदों को बिहार ने किया नमन, नीतीश ने दी श्रद्धांजलि

nitish-tribute-7-martyrs
पटना, अगस्त क्रांति दिवस पर शहीदों और सेनानियों को नमन करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की गई. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 11 अगस्त 1942 को आजादी के लिए शहीद हुए 7 शहीदों को मुख्यमंत्री आवास के लोक संवाद में श्रद्धांजलि दी.उमाकांत प्रसाद सिंह, रामाकांत सिंह, सतीश प्रसाद झा, जगतपति कुमार, देवी प्रसाद चौधरी, राजेंद्र सिंह और राम गोविंद सिंह 11 अगस्त के ही दिन आजादी के लिए बलिदान दिया था. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सातों शहीदों की कुर्बानियों को याद करते हुए उनके चलचित्र पर पुष्पांजलि कर उन्हें नमन किया.11 अगस्त 1942 को भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान शहीद हुए 7 युवा स्कूली छात्र में 2 नाम पुनपुन से भी जुड़े हैं. जिन्होंने देश की आजादी के लिए अपनी शहादत दी थी. पुनपुन के शहादत नगर में पले बढ़े शहीद रामानंद सिंह और दशरथा गांव के शहीद रामगोविंद सिंह को पटना सचिवालय के समीप तिरंगा लहराने के दौरान 7 युवाओं के साथ अंग्रेजों ने गोली मार दी थी.दोनों शहीदों में बचपन से ही देश की आजादी के लिए और काले कानून के खिलाफ आक्रोश था. अगस्त क्रांति के मौके पर पुनपुन पार्क स्थित बने स्मारक पर शहीद रामानंद एवं राम गोविंद सिंह की प्रतिमा पर माल्यार्पण करते हुए एसडीएम समेत सभी आला अधिकारी और कई सामाजिक संगठनों के लोगों ने उनके आदर्श उनके विचारों को आत्मसात करने का संकल्प लिया.अगस्त क्रांति देशवासियों के लिए अहम है. अखिल भारतीय कांग्रेस समिति ने 8 अगस्त 1942 को मुंबई में अगस्त क्रांति का प्रस्ताव लाया था और 9 अगस्त 1942 को अगस्त क्रांति का एलान किया गया था.

कोई टिप्पणी नहीं: