विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 09 सितम्बर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 9 सितंबर 2021

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 09 सितम्बर

कोविड संक्रमण के फैलाव को रोकने हेतु नवीन अतिरिक्त प्रतिबंधात्मक आदेश जारी


कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री उमाशंकर भार्गव ने क्राइसेस मैनेजमेंट कमेटी के सदस्यगणो की सहमति उपरांत दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 एवं मध्यप्रदेश पब्लिक हेल्थ एक्ट 1949 की धाराओं के तहत जिले की सम्पूर्ण राजस्व सीमा क्षेत्र अंतर्गत समस्त नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड 19 संक्रमण की दर में कमी को दृष्टिगत रखते हुए आगामी धार्मिक कार्यक्रमों एवं त्यौहारो को ध्यानगत रखते हुए नवीन अतिरिक्त प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किया है। जिला दण्डाधिकारी श्री भार्गव के द्वारा विदिशा जिले में कोविड 19 के संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए जो नवीन अतिरिक्त प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किया है उसमें मुख्य रूप से जिले में प्रतिमा, ताजिए (चेहल्लुम) के लिए पंडाल का आकार अधिकतम 30 वाय 45 फिट नियत किया गया है। झांकी निर्माताओं के द्वारा झांकियों की स्थापना एवं प्रदर्शन संकुचित स्थल पर नही किया जाएगा, जिसके कारण श्रद्धालुओं, दर्शकों की भीड की स्थिति बनें तथा सोशल डिस्टेन्सिग का पालन ना हो सकें। झांकी स्थल पर श्रद्वालुओं, दर्शकों की भीड एकत्रित नही हो तथा सोशल डिस्टेन्सिग का पालन हो की व्यवस्थाएं आयोजको को सुनिश्चित करनी होगी। विदिशा जिले में मूर्ति, ताजिए (चेहल्लुम) का विसर्जन संबंधित आयोजन समिति द्वारा किया जाएगा। विसर्जन स्थल पर ले जाने के लिए केवल दस व्यक्ति के समूह की अनुमति होगी। आयोजको को इसके लिए पृथक से संबंधित क्षेत्र के अनुविभागीय दण्डाधिकारी (एसडीएम) से लिखित अनुमति प्राप्त किया जाना आवश्यक होगा। स्थानीय प्रशासन द्वारा चयनित उपयुक्त विसर्जन स्थल पर ही प्रतिमाएं विसर्जन की जा सकेगी ताकि विसर्जन स्थल पर कम भीड़ हो सकें। विसर्जन की विक्रेन्दीकृत व्यवस्था पर ही जिला शांति समिति तथा जिला क्राइसेस मैनेजमेंट समिति में भी विचार किया जा सकता है। संपूर्ण जिले में कोविड संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए धार्मिक, सामाजिक आयोजनो के लिए चल समारोह निकालने की अनुमति नहीं होगी। विसर्जन के लिए सामूहिक चल समारोह भी अनुमत्य नहीं होगा। लाउड स्पीकर बजाने के संबंध में माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा जारी की गई गाईड लाइन का पालन किया जाना अनिवार्य होगा। सार्वजनिक स्थानो पर कोविड संक्रमण से बचाव के तारतम्य में झांकियों, पंडालो, विसर्जन के आयोजनो में  श्रद्धालु, दर्शक फेस कवर, सोशल डिस्टेन्सिग एवं सैनेटाईजर का उपयोग के साथ ही राज्य शासन द्वारा समय-समय पर जारी किए गए दिशा निर्देशो के कढाई से पालन किया जाना अनिवार्य है।  जिला दण्डाधिकारी श्री भार्गव द्वारा जारी नवीन अतिरिक्त प्रतिबंधात्मक आदेश जारी तिथि नौ सितम्बर से जिले की राजस्व सीमा में प्रभावशील हो गया है। उक्त आदेश का प्रदर्शन का कार्यालयों, पुलिस थानो एवं महत्वपूर्ण स्थानो पर चस्पा कर एवं ध्वनि विस्तारक यंत्रो से सूचना का संप्रेषण करने का आदेश संबंधितों को जारी किया गया है।


टीमवर्क भावना से कार्य कर जिले को प्रगति द्वारो की ओर अग्रसर करें-कलेक्टर


jhabua news
नवागत कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव ने आज विभिन्न विभागो के अधिकारियों की परिचात्मक बैठक आयोजित कर उन सबको टीमवर्क की भावना से कार्य करने की सीख दी है। उन्होंने कहा कि कोई भी कार्य टीमवर्क की भावना से करने पर शीघ्र और सुव्यवस्थित रूप से सम्पन्न होता है। कलेक्टर श्री भार्गव ने कहा कि हम सबका ध्येय है कि शासन के जनकल्याणकारी कार्यो का लाभ संबंधितों को मिलें वही रोजगारमुंखी योजनाओें से स्वरोजगारमुखी की ओर सुपात्र अग्रसर हो कि पहल पर चलकर हम विदिशा जिले को प्रगति सोपानो के द्वारो की ओर अग्रसर करें ताकि मध्यप्रदेश ही नही बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर विदिशा की ख्याति परलिक्षित हों। कलेक्टर श्री भार्गव ने अधिकारियों से कहा कि आमजनो की बातो को र्ध्यतापूर्वक सुनकर उनसे मधुर संवाद स्थापित करें ताकि वे अपनी समस्याओं के समाधान के निराकरण के साथ-साथ खुशी की अनुभूति से परिपूर्ण हो सकें। उन्होंने कहा कि जिले के अधिकारी शासकीय कार्यो के क्रियान्वयनो पर खरे उतरे ताकि आमजनों का विश्वास पूर्व की अपेक्षा और बढें। कलेक्टर श्री भार्गव ने अधिकारियों से कहा कि वे सीधे मुझे कभी भी किसी भी प्रकार की शासकीय, व्यक्तिगत समस्या से अवगत करा सकते है। उन्होंने समय पर कार्यालयों में उपस्थित होकर आमजनों के कार्यो का तीव्रगति से सम्पादन कर समय सीमा में लाभांवित कराने के सफल प्रयास किए जाएं ताकि निराकरण का ग्राफ लम्बत ऊंचाई की ओर बढें। कलेक्टर श्री भार्गव ने परिचात्मक चर्चा के दौरान विभागो के द्वारा सम्पादित किए जाने वाले कार्यो, लक्ष्यों की भी जानकारी प्राप्त की है। उन्होंने कहा कि जिले में आगामी सीजन में किसानो के द्वारा खेती में उपयोग लाए जाने वाले खाद, बीज का अग्रिम भण्डारण सुनिश्चित कराया जाए। उन्होंने भुगतान प्रक्रिया के क्रियान्वयन प्रक्रिया की भी जानकारी प्राप्त की है। किसान किसी भी मामलो में परेशान ना हो की पारदर्शी प्रणाली अपनाकर उनके विश्वासो पर खरे उतरें। कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव ने मूलभूत आवश्यकताओं की आपूर्ति के लिए किए जाने वाले प्रबंधो की भी जानकारियां प्राप्त की। जिसमें मुख्य रूप से पेयजल आपूर्ति, स्वास्थ्य सुविधाएं, उचित मूल्य दुकानो से खाद्यान्नो का तिवरण, बिजली की आपूर्ति, निर्माण कार्यो की प्रगति के अलावा विभिन्न योजनाओं तथा कार्यक्रमों के तहत लक्ष्यों की प्राप्ति हेतु किए गए प्रबंधो की जानकारियां प्राप्त की है। कलेक्टर श्री भार्गव ने कहा कि सांसद, विधायको द्वारा स्वीकृत किए गए कार्य कहीं लंबित ना रहें, ऐसी कार्यप्रणाली अपनाई जाए कि जनप्रतिनिधियों को दुबारा कार्यो के संबंध में बोलने की आवश्यकता ना पडें इससे पहले पूर्ण पारदर्शिता का पालन करते हुए स्वीकृत कार्यो को पूरा किया जाए। सीएम हेल्पलाइन के तहत लंबित आवेदनों के निराकरणों पर विशेष बल देते हुए कलेक्टर श्री भार्गव ने कहा कि निराकरण के मामले में किसी भी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नही की जाएगी। जिस भी अधिकारी की गलती होगी वह दण्ड का सहभागी होगा। उन्होंने कोरोना की तीसरी लहर से बचाव के लिए किए जाने वाले प्रबंधो की भी जानकारी प्राप्त की। उपरोक्त बैठक में खाद्य विभाग, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय, स्वास्थ्य, जल संसाधन, खनिज, सहकारिता, शिक्षा, ग्रामीण विकास विभाग, आबकारी विभाग, ऊर्जा, पशु चिकित्सा, महिला एवं बाल विकास विभाग, आदिम जाति कल्याण विभाग, पीआईयू, लोक निर्माण विभाग, आरईएस, कृषि, सामाजिक न्याय, उद्यानिकी, मार्कफेड, उच्च शिक्षा, आयुष विभाग सहित अन्य विभागो के अधिकारियों द्वारा विभागीय कार्यक्र्रमों, लक्ष्यों तथा उपलब्धियों की जानकारियां प्रस्तुत की गई। नवीन कलेक्ट्रेट के बेतवा सभागार कक्ष में सम्पन्न हुई इस बैठक में जिलां पंचायत सीईओ आईएएस डॉ योगेश भरसट, अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह, सहायक कलेक्टर श्री अनिल कुमार राठौर, डिप्टी कलेक्टर श्रीमती अमृता गर्ग के अलावा विभिन्न विभागो के अधिकारी मौजूद रहें।


प्रकरण की जांच हेतु अपर कलेक्टर अधिकृत


कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव ने ग्यारसपुर तहसील में किसान और तहसीलदार के मध्य घटित घटना के प्रकरण की जांच हेतु अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह को अधिकृत किया है। गौरतलब हो कि गत दिवस ग्यारसपुर तहसील कार्यालय परिसर में कृषक श्री संदीप साहू और प्रभारी तहसीलदार श्री सुनील शर्मा के मध्य फसल मुआवजा की राहत राशि के संबंध में घटित घटना की शिकायत पीड़ित कृषक के द्वारा कलेक्टर से की गई थी। 


राजस्व अधिकारियों की बैठक आज


कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव की अध्यक्षता में राजस्व अधिकारियों की बैठक शुक्रवार दस सितम्बर को आयोजित की गई है यह बैठक नवीन कलेक्ट्रेट के बेतवा सभागार कक्ष में प्रातः 11 बजे से शुरू होगी। अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह ने बैठक ऐजेण्डा बिन्दु के संबंध में बताया कि राजस्व प्रकरणो के अलावा राजस्व वसूली, व्यपवर्तन एवं पुनर्निधारण, भू-अर्जन, धारणाधिकार, सीएम हेल्पलाइन एवं लोक सेवा गारंटी, अतिवृष्टि एवं बाढ से आरबीसी 6(4) की राहत राशि का वितरण, फसल गिरदावरी, आबादी सर्वेक्षण, पीएम किसान, सीएम किसान योजना, जीर्ण-शीर्ण एवं नक्शाविहिन ग्रामो के संबंध में, राजस्व न्यायालयों के आदेशो की गुणवत्ता के संबंध में, नगरेत्तर क्षेत्रों की भूमि का सर्वे (आबादी को छोड़कर), तहसीलो में अभिलेख का रखरखाव एवं डिजिटलाईजेशन पर चर्चा, विकास कार्यो एवं गतिशील निर्माण कार्यो के संबंध में चर्चा, वैक्सीनेशन प्लान के संबंध में चर्चा, शासन की विभिन्न योजनाओं के होर्डिग्स बनाकर प्रदर्शित करना इत्यादि बिन्दुओं की समीक्षा की जाएगी।


ऑनलाइन गेम - साइबर सेल ने जारी की एडवाइजरी’


देश के साथ प्रदेश में भी ऑनलाइन गेम खेलने के चक्कर में कई युवा और बच्चे अपनी जान गंवा चुके है तो कई चोरी करने लगे हैं । इस बात को ध्यान में रखते हुए राज्य साइबर सेल ने एडवाइजरी जारी की है । राज्य साइबर सेल द्वारा जारी एडवाइजरी में अभिभावकों से कहा गया है कि बच्चों को हो सके तो मोबाइल नहीं दें । ऑनलाइन क्लॉसेस के लिए बिना सिम कार्ड का मोबाइल दें, बच्चों को वाईफाई से इंटरनेट इस्तेमाल करने दें ।  बच्चों की ऑनलाइन एक्टिविटी पर नजर रखें । परिवार के सभी सदस्यों के मोबाइल में प्ले स्टोर पर पैरेंटल कंट्रोल ऑन करें ।  पासवर्ड बच्चों को नहीं बताएं, बच्चों को हर तरह के ट्रांजेक्शन की छूट नहीं दें । खाते से पैसे कटने का मैसेज आते ही बच्चों से पैसे कटने का कारण अवश्य पूछें । 


जिले में अब तक 1064 मिमी औसत वर्षा दर्ज


विदिशा जिले की सामान्य औसत वर्षा 1075.50 है। आज दिनांक तक जिले में 1064 मिमी औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। अधीक्षक भू-अभिलेख कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार गुरूवार नौ सितम्बर को 19.2 मिमी औसत वर्षा दर्ज हुई है। जिले की तहसीलो में अब तक दर्ज वर्षा की जानकारी इस प्रकार से है। विदिशा में 913 मिमी, बासौदा में 872.7 मिमी, कुरवाई में 1077.8 मिमी, सिरोंज में 1229 मिमी, लटेरी में 1143 मिमी, ग्यारसपुर मेें 1241 मिमी, गुलाबगंज में 820 मिमी, नटेरन में 1152 मिमी, शमशाबाद में 1104.6 मिमी तथा पठारी तहसील में 1053.8 मिमी वर्षा दर्ज की जा चुकी है। 


हिट एण्ड रन के एक प्रकरण में आर्थिक मदद जारी


कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव ने सड़क दुर्घटना में मृतक के निकटतम परिजन को पन्द्रह हजार रूपए की आर्थिक मदद जारी कर दी है। जारी आदेश में उल्लेख है कि भोपाल के सूखी सेवनिया निवासी श्री नरेश मालवीय पुत्र बाबूलाल मालवीय की मृत्यु सड़क दुर्घटना में हो जाने पर मृतक की पत्नी श्रीमती कुसुमबाई  को 15 हजार रूपए की आर्थिक सहायता जारी कर दी गई है।


अभद्र व्यवहार करने वाले अधिकारियों पर कार्यवाही होना चाहिए - विधायक शशांक भार्गव


विदिशाः- गंजबासौदा में लोकतांत्रिक तरीके से विरोध प्रदर्शन कर रहे युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं से गाली गलौज और अभद्र व्यवहार करने वाले दोषी पुलिस अधिकारी एवं ग्यारसपुर में तहसीलदार द्वारा फरियादी किसान के साथ मारपीट की घटना को लेकर विधायक शशांक भार्गव ने चिंता व्यक्त करते हुए दोषी अधिकारियों पर कठोर कार्यवाही की मांग को लेकर गृहमंत्री एवं राजस्व मंत्री को पत्र लिखा है। विधायक भार्गव ने कहा कि मंत्री का पुतला दहन करना विपक्षी दल के कार्यकर्ताओं का संवैधानिक अधिकार है। लेकिन गंजबासौदा पुलिस के द्वारा युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पुतला दहन के बीच से पकड़कर अभद्रता पूर्वक थाने लाया गया और उनके साथ थाने में एस. आई. के द्वारा गाली गलौज और अभद्रता की गई। वहीं ग्यारसपुर में अपनी फसल का मुआवजा मांगने तहसील कार्यालय में पहुंचे किसान के साथ वहां के तहसीलदार के द्वारा अभद्र व्यवहार और मारपीट की गई है। यह दोनों ही घटनाएं शासन के कर्मचारी मैनुअल के खिलाफ हैं और दोनों ही घटनाओं के वीडियो साक्ष्य के तौर पर मौजूद हैं। इन घटनाओं से जिले के नागरिकों में रोष व्याप्त है। भविष्य में इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए दोषी अधिकारियों को तत्काल निलंबित कर कठोर कानूनी कार्यवाही होना चाहिए। 

कोई टिप्पणी नहीं: