मानसिक स्वास्थ्य जनजागरुकता सप्ताह - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 7 अक्तूबर 2021

मानसिक स्वास्थ्य जनजागरुकता सप्ताह

mantal-health-awareness
अम्बिकापुर. छतीसगढ़ में है अम्बिकापुर.मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम, जिला सरगुजा की तरफ से हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी 10 अक्टूबर को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस मनाया जाएगा.वहीं इससे पहले मानसिक स्वास्थ्य जनजागरुकता सप्ताह का आयोजन किया जाएगा जिसके अंतर्गत 4 से 11 अक्टूबर तक कई जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे.इस दौरान लोगों को मानसिक अस्वस्थता के कारणों, लक्षणों तथा इससे बचाव के उपायों की जानकारी दी जाएगी. विश्व मानसिक स्वास्थ्य सप्ताह 04 अक्टूबर से शुरू हुआ है और 11अक्टूबर तक मनाया जाएगा.इसमें मानव संसाधन की तरफ से सप्ताह भर तरह -तरह का कार्यक्रम का किया जायेग.इसे संपूर्ण जिला में किया जाएगा. विश्व मानसिक स्वास्थ्य सप्ताह के तहत 05 अक्टूबर को जिला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम, जिला सरगुजा के तरफ से कार्यक्रम किया गया. मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने हरा झंडा दिखा कर रिक्शा एवं माइकिंग का शुभारम्भ किये. ये रिक्शा शहर के हर गली एवं चौक चौराहा  में जाकर मानसिक स्वास्थ्य एवं उनके समाधान के बारे में प्रचार करेंगा. 6.10.2021 को मानसिक स्वास्थ्य जन जागरूकता सप्ताह के अवसर पर होली क्रॉस नर्सिंग कॉलेज के छात्राओं द्वारा असमान दुनिया में मानसिक स्वास्थ्य थीम पर नुक्कड़ नाटक किये. मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जिला सरगुजा डॉ पी एस सिसोदिया सर के आदेशानुसार, नोडल अधिकारी डॉ पी के सिन्हा सर, डी पी एम डॉ पुष्पेंद्र राम सर, चिकित्सा अधिकारी डॉ रितेश सिंह सर के मार्गदर्शन में मानसिक स्वास्थ्य जन जागरूकता सप्ताह के अवसर पर होली क्रॉस नर्सिंग कॉलेज के छात्राओं द्वारा असमान दुनिया में मानसिक स्वास्थ्य थीम पर नुक्कड़ नाटक के माध्यम से शहरी स्वस्थ्य केंद्र नवापारा के ओपीडी में उपस्थित सभी लोगों को जागरूकता प्रदान की गई.साथ ही महिलाओं में मानसिक रोग के  बचाव के लिए गर्भावस्था के दौरान अच्छा पारिवारिक माहौल को भी नाटक के माध्यम से प्रस्तुत किया गया.


इस अवसर पर प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ आयुष जायसवाल, डॉ संवेदना सिंह, डॉ शीला नेताम, क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट सी पी सुमन कुमार, साइकेट्रिक नर्स नीतू केशरी, मेडिकल रिकॉर्ड ऑफिसर लकी कल्पना तिर्की, उपस्थित थे.क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट सी पी सुमन कुमार के द्वारा मानसिक रोग के रोकथाम के लिए जानकारी प्रदान की गई. कार्यक्रम में डॉक्टर पी. के. सिन्हा, जिला नोडल अधिकारी,  श्री शेखर राव, डी पी सी  एवं मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम से डा. रितेश सिंह, मेडिकल अफसर, डा. सुमन कुमार, क्लीनिकल साइकोलोजिस्ट, श्रीमती नीतू केशरी, साइकियाट्रिक नर्स, श्रीमती कल्पना तिर्की, केस रजिस्ट्री ऑफिसर उपस्थित थे. राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत स्पर्श क्लिनिक के नाम से 3 महीने पूर्व से मानसिक रोगियों का इलाज दवा,  मनोचिकित्सा एवं  काउंसलिंग से शहरी स्वास्थ्य केंद्र नवापारा में शुरू हो चुकी है.  दूसरा कार्यक्रम जिला मानसिक स्वास्थ्य टीम के तरफ से शासकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, पुलिस लाइन में आयोजित किया गया. यहाँ बच्चों के मध्य मानसिक स्वास्थ्य, मानसिक रोग के प्रति भ्रम एवं उनके निदान पर बच्चों द्वारा वाद विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया.  बच्चों को आत्महत्या से बचने के बारे में एवं किसी को कैसे बचाये? इस पर डा. सुमन कुमार, क्लीनिकल साइकोलोजिस्ट द्वारा बताया गया. विद्यालय में पम्पलेट भी बांटा गया.कार्यक्रम में विद्यालय के स्टाफ के अलावे स्पर्श क्लिनिक के सभी स्टाफ मौजूद थे.श्रीमती स्नेहलता सिन्हा प्रिंसिपल ने कार्यक्रम को तहे दिल से सराहा एवं समय समय पर इस तरह का कार्यक्रम विद्यालय में हो इसपर जोर दिया.

कोई टिप्पणी नहीं: