चिकित्सा क्षेत्र का ढ़ांचा मजबूत करने में सहयोग करे निजी क्षेत्र : मोदी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 22 अक्तूबर 2021

चिकित्सा क्षेत्र का ढ़ांचा मजबूत करने में सहयोग करे निजी क्षेत्र : मोदी

modi-call-private-sector-for-rural-पं-health-sector
नयी दिल्ली, 21 अक्टूबर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के ग्रामीण एवं दूर दराज के इलाकों में स्वास्थ्य देखभाल सेवा का बुनियादी ढ़ांचा मजबूत करने के लिए सरकार की प्रतिबद्धता व्यक्त करते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि निजी क्षेत्र को इसमें खुलेभाव से सहयाेग करना चाहिए। श्री मोदी ने नयी दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान- एम्स के हरियाणा में झज्जर परिसर में राष्ट्रीय कैंसर निदान केंद्र में इंफोसिस फाउंडेशन विश्राम सदन का ऑनलाइन उद्घाटन करते हुए कहा कि निजी क्षेत्र और सामाजिक संगठनों ने देश की स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत करने में अपना योगदान दिया है। आयुष्मान भारत–प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना इसका एक बेहतरीन उदाहरण है। इस योजना के तहत सवा दो करोड़ से अधिक मरीज़ों का मुफ्त इलाज हो चुका है। औऱ ये इलाज सरकारी के साथ ही निजी अस्पतालों में भी हुआ है। आयुष्मान योजना से जो देश के हजारों अस्पताल जुड़े हैं, उनमें से लगभग 10 हजार निजी क्षेत्र के हैं। उन्होेंने कहा कि सरकार ने कैंसर की लगभग 400 दवाओं की कीमतों को कम करने के लिये कदम उठाये। उन्होंने कहा, “ देश एक सशक्त स्वास्थ्य देखभाल तंत्र विकसित करने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है। गांव-गांव तक फैले हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर, ई-संजीवनी द्वारा टेली-मेडिसीन की सुविधा, हेल्थ सेक्टर में ह्यूमन रीसोर्स डवलपमेंट, नए चिकित्सा संस्थानों का निर्माण, देश के कोने-कोने में इससे जुड़ा काम चल रहा है। ये संकल्प निश्चित रूप से बहुत बड़ा है। लेकिन अगर समाज और सरकार की पूरी ताकत लगेगी तो हम लक्ष्य को बहुत जल्दी हासिल कर पाएंगे।” उन्हाेंने कहा कि सरकारी और निजी क्षेत्र के बीच साझेदारी मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर और मेडिकल एजुकेशन के अभूतपूर्व विस्तार में भी काम आ रही है। देश के हर जिले में कम से कम एक मेडिकल कॉलेज बनाने पर बल दिया जा रहा है। इसमें निजी क्षेत्र की भूमिका बहुत अहम है। राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग का गठन होने के बाद देश में निजी चिकित्सा कॉलेज खोलना और आसान हुआ है। उन्होंने कहा कि यह विश्राम सदन देश के अन्य लोगों को भी ऐसे ही और भी विश्राम सदन बनाने की प्रेरणा देगा। केंद्र सरकार अपनी तरफ से भी प्रयास कर रही है कि देश में जितने भी एम्स हैं और जितने नए एम्स बन रहे हैं, वहां पर रात्रि विश्राम गृह जरूर बनें। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज एम्स झज्जर में कैंसर का इलाज कराने आने वाले मरीजों को एक बड़ी सहूलियत मिली है। यह विश्राम सदन, मरीजों और उनके रिश्तेदारों की तकलीफों को कम करेगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि यह ऐतिहासिक दिन है कि आज भारत ने 100 करोड़ कोविड टीके देने का आंकड़ा पार कर लिया है। उन्होंने देश की कोविड टीका बनाने वाली सभी कंपनियों, टीका को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने वाले कर्मचारियों , टीकाकरण में जुटे स्वास्थ्य कर्मियों का आभार व्यक्त किया।

कोई टिप्पणी नहीं: