सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 07 नवम्बर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 7 नवंबर 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 07 नवम्बर

पांच दिवसीय श्री गोवर्धन शिव महापुराण कथा का आयोजन, आडंबर करने वालों की नहीं भगवान शंकर को जरूरत-भागवत भूषण पंडित  प्रदीप मिश्रा


sehore news
सीहोर। भगवान सच्ची भक्ति और स्नेह के भूखे होते हैं। आडम्बर करने वालों की उन्हें कोई जरूरत नहीं हैं। भगवान उससे दोस्ती करना चाहते हैं, जो मन से उन्हें याद करता है। आडम्बर तो भगवान शंकर को लगता नहीं है। भगवान की भक्ति करने के लिए सच्चे मन की आवश्यकता है। निर्मल भाव से ही भगवान की भक्ति हो सकती है। उक्त विचार जिला मुख्यालय के समीपस्थ चितावलिया हेमा स्थित निर्माणाधीन मुरली मनोहर एवं कुबेरेश्वर महादेव मंदिर में रविवार से आरंभ हुई पांच दिवसीय श्री गोवर्धन शिव महापुराण के पहले दिन भागवत भूषण पंडित प्रदीप मिश्रा ने कहे। उन्होंने कहा कि जो मनुष्य निर्मल मन का होता है, वही मुझे पाता है। मुझे कपट और छल-छिद्र नहीं सुहाते। जब तक मन शुद्ध नहीं होगा, तब तक मुक्ति नहीं मिल सकती है। मन अगर शुद्ध हो गया तो चरित्र भी शुद्ध हो जाएगा और अगर चरित्र शुद्ध होगा तो भगवान शिव, श्रीराम और श्रीकृष्ण तक अवश्य पहुंच जाओगे। बाल सुलभ सरलता एवं निश्छलता ही ईश्वर प्राप्ति की प्रथम सीढि़ है। जीवन की सर्थकता तो केवल शिव में है। कथा श्रवण में जो भाव आपके होते है, वह सच्ची भक्ति होती है। इसलिए कथा में आपके भाव की विन्रमता ही ईश्वर की प्राप्ति के लिए होना चाहिए। पांच दिवसीय श्री गोवर्धन शिव महापुराण कथा  के पहले दिन भागवत भूषण पंडित श्री मिश्रा ने गोवर्धन पूजा और अन्नकूट महोत्सव का विस्तार से वर्णन किया। 


अधिकारियों ने सांठगांठ कर दी लीज पर गिट्टी खनन के लिए सेवानिया सरकारी गौशाला के पीछे स्थित गोया की कीमती जमीन

  • फसल होगी प्रभावित गौशाला को भी होगा नुकसान ग्रामीणों ने जताया आक्रोश, गिट्टी थ्रेसर खनन लीज तत्काल जिला प्रशासन से निरस्त कराने की मांग

sehore news
सीहोर। कोडिय़ा महोडिय़ा सेवानिया के ग्रामीणों ने निर्माणाधीन सेवानिया शासकीय गौशाला के पीछे स्थित गोया के लिए सुरक्षित छोड़ी गई सरकारी जमीन को किसानों और गौवंश हित में गौचरण के लिए संरक्षित कराने और खनिज माफिया और कथित अधिकारियों पर सख्त कार्रवाहीं करने सहित लीज तत्काल निरस्त कराए जाने की मांग जिला कलेक्टर से की है। ग्रामीणों ने कहा की गोया पर रविवार को अवैधानिक रूप से जेसीबी मशीन चलाई गई और जमीन को तोड़ा फोड़ा गया। जमीन पर गहरे गडढे कर दिए गए। चरनोई भूमी को तोडऩे के लिए हरे भरे पेड़ों को भी नष्ट कर दिया गया। अधिकारियों के द्वारा संाठगांठ से गिट्टी थ््रोसर मशीन लगाने दस साल के लिए अवैधानिक रूप से जमीन लीज दे दी गई है। शासकीय गौशाला का निर्माण कोडिय़ा महोडिया रोड के नजदीक शासकीय स्वीकृति अनुसार किया जा रहा है निर्माणाधीन गौशाला भवन के पीछे वर्षो पुराना सरकारी गोया मौजूद है। गोया में गांव के मवैशी विचारण करते है बावजूद इस के खनिज विभाग के अधिकारियों ने खनिज माफिया के साथ कथित सांठगांठ कर उक्त सरकारी जमीन को गिटटी उत्खन्न के लिए भगवान सिंह पुत्र घीसीलाल परमार नामक व्यक्ति को दस साल के लिए दे दी है। पहले से हीं इस क्षेत्र में दो गिटटी थ्रेसर प्लांट मौजूद है जिस से अब नया गिट़्टी थ्रेसर प्लांट आसपास के गांवों के पर्यावरण के लिए भी बड़ा घातक सिद्ध होगा। गिटटी मशीन और उत्खन्न से आसपास के खेतों में फसलों को भी काफी नुकसान होगा। जिस कारण क्षेत्र के सैकड़ों किसानों को आर्थिक नुकसान होगा। साथ हीं गौशाला की गतिविधियां भी बुरी तरह प्रभावित होंगी। प्रदुर्षण के कारण गाय बछड़ों को भी भविष्य में जानलेवा बीमारियां होंगी जिस से गौवंश की मौत भी होगी। सेवानिया ग्राम पंचायत सरपंच प्रतिनिधि राजाराम कौशल वीर सिंह परमार, रमेश परमार, रघुनाथ सिंह, मनोज परमार, बने सिंह, चंदर सिंह, बीरवल परमार, उदय सिंह, बहादुर सिंह, दारा सिंह, पवन परमार, संतोष सिंह, प्रीतम सिंह परमार, अनिल परमार, धरम सिंह आदि ग्रामीणों ने तत्काल लीज निरस्त किए जाने और मामले की जांच कराने की मांग जिला प्रशासन से की है।


कलश यात्रा के साथ आज से आरंभ होगी भागवत कथा


सीहोर। सोमवार से अहमदपुर देवीपुरा मंडी परिसर में सात दिवसीय भागवत कथा का आयोजन राय परिवार के द्वारा किया जा रहा है। भागवत कथा का शुभारंभ सुबह दस बजे क्षेत्र के शीतला मंदिर से भव्य कलश यात्रा के साथ किया जाएगा। इसके पश्चात सात दिवसीय भागवत कथा दोपहर बारह बजे से शाम चार बजे तक जारी रहेगी। भागवत कथा का वाचन श्रीश्री 1008 महामंडलेश्वर याशोदा नंद पंडित श्री अजय पुरोहित द्वारा किया जाएगा। भागवत कथा के प्रथम दिन कथा का महत्व और धूंधकारी का प्रसंग आदि का वर्णन किया जाएगा और आगामी 14 नवंबर को पूर्णाहुति एवं प्रसादी वितरण किया जाएगा। राय परिवार ने क्षेत्र के सभी श्रद्धालुओं से कथा में शामिल होकर धर्म लाभ लेने की अपील की है। 


पैथोलॉजी में एक ही जांच के अलग-अलग दाम, बुधवार को जिला उपभोक्ता परिषद सौंपेगी ज्ञापन


sehore news
सीहोर। स्वास्थ्य विभाग की अनदेखी के चलते शहर में कई अवैध पैथोलॉजी लैब चल रही हैं। खास बात यह है कि एक ही लाइसेंस पर कई-कई पैथोलोजी लैब चल रही हैं। अहम बात यह है कि इसकी जानकारी अधिकारियों को भी है। बावजूद अंजान बने हुए हैं। कार्रवाई न होने की वजह से अवैध लैब संचालकों के हौंसले इतने बढ़ गए हैं कि लैब में मरीजों का खुले आम खून चूसा जा रहा है, क्योंकि इन लैब में कराई गई जांचों की रिपोर्ट कितनी सही होगी, इसका जवाब देने के लिए कोई भी तैयार नही है। लंबे समय से शहर में अनेक डॉक्टर वर्षों से जमा है जिसके कारण इनकी मनमानी चल रही है। पैथोलॉजी में एक ही जांच के अलग-अलग दाम वसूले जा रहे है। इसके अलावा जांच में भी विभिन्नता आ रही है। यहां पर उपस्थित वक्ताओं ने कहे। ऐसा लगता है कि स्वास्थ्य विभाग अवैध रूप संचालित पैथोलॉजी लैब पर कार्रवाई के मूड में ही नहीं है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण काल में कई लोग बर्बाद हो गए है। अत: शासन को चाहिए कि मरीजों से डॉक्टरों को मात्र दो सौ रुपए लेना चाहिए। इस संबंध में जिला उपभोक्ता परिषद द्वारा बुधवार को सीएमएचओ डॉ. सुधीर डेहरिया को एक ज्ञापन सौंपा जाएगा। जिसमें पैथोलॉजी लैब में एक ही जांच की अलग-अलग फीस वसूल किया जाना गलत है। यदि ऐसा किया जा रहा है तो जिले भर के पैथोलॉजी लैब संचालकों की बैठक लेकर ठोस कदम उठाए जाएंगे। लैब संचालकों को रेट लिस्ट चस्पा करने के निर्देश दिए गए थे। लिस्ट जल्द चस्पा करवाएंगे और सभी डॉक्टरों के मरीजों के देखने के दाम भी चस्पा कराए जाने आदि की मांग की जाएगी। बैठक की अध्यक्षता परिषद के अध्यक्ष विष्णु सम्राट प्रजापति ने की थी। बैठक के दौरान परिषद की महिला विंग की अध्यक्ष श्रीमती मोहिनी अग्रवाल और शहराध्यक्ष हीरु बेलानी आदि ने अनेक विषयों पर चर्चा की। इस संबंध में जानकारी देते हुए जिला उपभोक्ता संरक्षण परिषद के मीडिया प्रभारी मनोज दीक्षित मामा ने बताया कि रविवार को परिषद की एक विशेष बैठक का आयोजन किया गया था, बैठक के दौरान आगामी बुधवार को स्वास्थ्य विभाग के कार्य प्रणाली और जिले के सभी ब्लाकों में अध्यक्षों की बैठक आदि के संबंध में चर्चा की गई। बैठक में परिषद की जिला उपाध्यक्ष प्रेमलता राठौर, अतिया ओसाफ, हरीश चंद्र आर्य, विवेक श्रीवास्तव, नंदकिशोर संधानी, मांगीलाल टिमाराई, नरेन्द्र डाबी, राहुल सोलंकी, राकेश शर्मा, पप्पू सेन आदि शामिल थे। 


वरिष्ठजनों की सहायता के लिए डायल करें 14567



सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण विभाग द्वारा जानकारी दी गई कि भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय के निर्देश अनुसार सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण विभाग मध्यप्रदेश शासन द्वारा राष्ट्रीय वरिष्ठ नागरिक हेल्पलाइन एल्डरलाइन प्रारम्भ की गई है। इसका नम्बर 14567 है। इसमें वरिष्ठजनों के लिये स्वास्थ्य एवं पोषण सम्बन्धी जागरूकता, निदान, इलाज, आश्रय एवं वृद्धाश्रम सम्बन्धी जानकारी, डे केयर सेन्टर सम्बन्धी जानकारी और वरिष्ठजन सहायक उपकरण जैसे व्हील चेयर, वॉकिंग स्टीक, श्रवण यंत्र, चश्मा आदि से सम्बन्धित जानकारी तथा सांस्कृतिक, आध्यात्मिक कला और मनोरंजन के सम्बन्ध में जानकारी प्रदाय की जायेगी। साथ ही सम्पर्क करने पर भावनात्मक सहयोग के रूप में चिन्ता समाधान, आपसी सम्बन्ध प्रबंधन, मानसिक स्वास्थ्य सुरक्षा, सरल जीवन प्रबंधन और मृत्यु एवं शोक सम्बन्धित भावनात्मक सहयोग प्रदान किया जायेगा। इसके अलावा माता, पिता और वरिष्ठ नागरिकों के भरण-पोषण और कल्याण अधिनियम-2007, दुर्व्यवहार सम्बन्धी विवाद समाधान (सम्पत्ति, पड़ौसी, परिवार), वित्तीय मार्गदर्शन और पेंशन तथा अन्य विभागीय योजनाओं के सम्बन्ध में मार्गदर्शन दिया जायेगा। वरिष्ठजन दुर्व्यवहार से बचाव, लापता और परित्यक्त वरिष्ठजनों को सहायता,  आपातकालीन एवं संकट से बचाव और आवश्यक सेवा जैसे संचार,  यात्रा,  खरीददारी,  बैंकिंग आदि के सम्बन्ध में उक्त हैल्पलाइन पर सम्पर्क कर सकते हैं।



जिले में आयुष्मान कार्ड से लाभान्वित हो रहे हितग्राही



जिले में कुल 4 लाख 88 हजार 360 हितग्राहियों के आयुष्मान कार्ड बनाए गए हैं। अभी तक कुल 17 हजार 158 हितग्राहियों ने इसका लाभ लिया है। इसमें 13 हजार 483 ने शासकीय अस्पतालों में 3 हजार 675 हितग्राहियों ने निजी चिकित्सालयों में इलाज कराया है।



एसीएबीसी प्रशिक्षण में आवेदन की अंतिम तिथि 10 नवम्बर 2021

 

राष्ट्रीय कृषि विस्तार प्रबंधन संस्थान मैनेज हैदराबाद द्वारा अपने नोडल प्रशिक्षण केन्द्र-उज्जैन में आयोजित किये जाने वाले 45 दिवसीय निःशुल्क रहवासीय एग्री क्लीनिक एण्ड एग्रीबिजनेस सेन्टर (एसीएबीसी) में व्यवसायिक प्रशिक्षण हेतु आवेदन की अंतिम तिथि 10 नवम्बर 2021 है तथा नियत दिनांक के पश्चात आवेदन करने वाले आवेदक साक्षात्कार हेतु पात्र नहीं होंगे। साक्षात्कार पश्चात चयनित आवेदकों को खाद्य प्रसंस्करण, दुग्ध उत्पादन एग्री क्लीनिक, कस्टम हायरिंग पॉली हाउस, पशुपालन पोल्ट्री एवं अन्य चिन्हित कृषि तथा संबद्ध गतिविधियों हेतु अधिकतम 20 लाख रूपये ऋण एवं 36 से 44 प्रतिशत तक अनुदान की पात्रता रहेगी। कृषि विषय से हायर सेकन्डरी अथवा बीएससी कृषि, वनस्पति विज्ञान, प्राणिविज्ञान, रसायन विज्ञान से उत्तीर्ण युवा इस प्रशिक्षण हेतु आवेदन के पात्र हैं। विस्तृत जानकारी हेतु नोडल अधिकारी से मोबाईल क्रमांक 8109201387 पर कार्यालयीन समय में संपर्क करें ।



मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय ने जारी की वर्ग 4 की वैकेंसी कुल 708 हैं पद



मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय ने वर्ग.4 या ग्रुप डी के अंतर्गत आने वाले 708 पदों के लिए विज्ञापन जारी किया है। भर्ती हेतु ऑनलाइन आवेदन करना है। ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया 9 नवंबर से 24 नवंबर तक चलेगी। 9 नवंबर दोपहर 12:00 बजे से 24 नवंबर रात्रि 11:55 के दौरान आवेदन किया जा सकेगा। ट्रेनिंग एंड प्लेसमेंट ऑफिसर डॉ. मधुसूदन चौबे ने बताया कि वर्ग . 4 के अंतर्गत आने वाले विभिन्न पदों जैसे चालक चपरासी चौकीदार जलवाहक माली और स्वीपर के पदों पर नियुक्ति के लिए साक्षात्कार होगा। साक्षात्कार के लिए कुल तीस अंक निर्धारित हैं। चालक या ड्राइवर के पद के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता हाई स्कूल या कक्षा दसवीं तथा अन्य पदों के लिए आठवीं तय की गई है।


 

जिले में आज कोई भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला वर्तमान में कोरोना एक्टिव पॉजिटिव की संख्या शून्य


     
पिछले 24 घंटे के दौरान प्राप्त रिपोर्ट में जिले में आज कोई भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला है। सीएमएचओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में अब तक कुल कोरोना पॉजिटिव व्यक्तियों की संख्या 10142है। वर्तमान में एक्टिव पॉजिटिव शून्य हो गई हैं। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या 10020 हैं। आज 376 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 132, श्यामपुर से 87, नसरूल्लागंज से 15, आष्टा से 101, बुदनी से 16, इछावर से 25 सेंपल लिए गए हैं। अभी तक कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 291037 हैं। जिनमें से 279367  सैंपलों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। आज268 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 1456 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथोलॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है।

 

नवीन राष्ट्रीय पशुधन मिशन अंतर्गत बैंकेबल योजनाओं का शुभारंभ

 
उपसंचालक पशु पालन एवं डेयरी विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार भारत सरकार के मत्स्य, पशुपालन एवं डेयरी विभाग के अधीन पशुपालन एवं डेयरी विभाग द्वारा नवीन केन्द्रीय प्रवर्तित योजना-राष्ट्रीय-पशुधन मिशन वर्ष 2021-22 से 2025-26 तक अनुमोदन की गई है जिसका मुख्य उद्देश्य जिले में मुर्गीपालन, बकरी पालन, सूकर पालन तथा चरी-चारा विकास में उद्यमिता विकास के साथ-साथ बकरियों एवं सूकर की नस्ल में सुधार तथा चारा उत्पादन में सुधार लाना है। योजना के क्रियान्वयन हेतु मध्यप्रदेश शासन पशुपालन एवं डेयरी विभाग, उद्यमिता विकास कार्यक्रम अन्तर्गत निम्न परियोजनाओं हेतु व्यक्गित, कृषक उत्पादन संस्था, स्व-सहायता समूह से आवेदन आमंत्रित है। इन योजनाओं का लाभ लेने से पूर्व प्रशिक्षण, अनुभव प्रमाण-पत्र प्राप्त करना आवश्यक है। ग्रामीण कुक्कुट उद्यमिता मॉडल - ला इनपुट टेक्नालॉजी वाले कम से कम एक हजार पेरेन्ट पक्षी का फार्म प्रति सप्ताह, तीन हजार हैचिंग अंडा सेटिंग की क्षमता वाली हैचरी के साथ-साथ प्रति सप्ताह दो हजार चूजों की बुडिंग की क्षमता वाली मदर यूनिट की स्थापना के लिए (इकाई लागत- 34.73 लाख रूपए अधिकतम अनुदान राशि 25 लाख रूपए) बकरी इकाई- 500 मादा $ 25 नर की इकाई स्थापना के लिए (इकाई लागत- 87.30 लाख रूपए अधिकतम अनुदान राशि 50 लाख रूपए) चारा उत्पादन इकाई- साइलेज, फॉडर ब्लॉक निर्माण इकाई की स्थापना हेतु। (साइज हेतु इकाई लागत- 87.30 लाख रू. अधिकतम अनुदान राशि 50 लाख रू) (फाडर ब्लॉक निर्माण हेतु इकाई लागत 85 लाख रू अधिकतम अनुदान राशि 50 लाख रू.) परियोजनाओं का विस्तृत विवरण, आवेदन पत्र पात्रता तथा अनुदान हेतु पात्र मशीन व उपकरणों की सूची अभिरूचि की अभिव्यक्ति की अवधि, प्राप्त प्रस्तावों के परीक्षण,  अनुदान राशि की उपलब्धता,  प्राप्त प्रस्तावों की स्वीकृति, अस्वीकृति के अधिकारी सम्बन्धित जानकारी विभाग की वेबसाइट mpdah.gov.in पर उपलब्ध है। जिले के युवा उद्यमियों, पशुपालकों, हितग्राहियों से अनुरोध है कि अधिक जानकारी के लिए अपने ग्राम के निकटतम पशु चिकित्सालय में उक्त योजनाओं का लाभ लेने हेतु संपर्क कर सकते हैं ताकि योजना अन्तर्गत ऋण प्राप्त करने से पूर्व नानाजी देशमुख पशु चिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर से प्रशिक्षण प्राप्त करवाया जा सके।



ड्राइविंग लाइसेंस के लिये मेडीकल सर्टिफिकेट भी अब ऑनलाइन



आमजन को ज्यादा से ज्यादा सुविधाएँ प्रदान करने की दृष्टि से ड्राइविंग लाइसेंस बनाने की प्रक्रिया को और अधिक सरल किया गया है। अब कोई भी आवेदक लर्निंग लाइसेंस, नवीन ड्राइविंग लाइसेंस के आवेदन, नवीनीकरण अथवा ड्राइविंग लाइसेंस में अन्य श्रेणी के आवेदन के साथ रजिस्टर्ड चिकित्सक द्वारा पोर्टल पर ऑनलाइन फॉर्म 1ए में मेडिकल सर्टिफिकेट जारी कर सकेंगे।  उल्लेखनीय है कि एक अप्रैल 2021 के पूर्व उक्त मेडिकल सर्टिफिकेट मैनुअल तरीके से जारी किए जाने का प्रावधान था। मेडिकल काउंसिल में रजिस्टर्ड चिकित्सक पोर्टल पर ऑनलाइन फॉर्म 1ए में मेडिकल सर्टिफिकेट जारी कर सकते हैं। इसके लिए उन्हें एनआईसी के सारथी पोर्टल पर पंजीयन कराना आवश्यक है।



खाद क्रय करते समय पक्का बिल अवश्य लें



संयुक्त संचालक कृषि ने संभाग के सभी जिलों के समस्त कृषकों से अनुरोध किया है कि रबी मौसम की बुआई के दौरान खाद, बीज का क्रय जिन संस्थाओं से करते है, उसका पक्का बिल अवश्य लें। यदि कोई व्यापारी, दुकानदार पक्का बिल देने में आनाकानी करता है अथवा समय पर बिल नही देता है तो अविलम्ब इसकी जानकारी स्थानीय एसडीएम के संज्ञान में अवश्य लाएं। ताकि संबंधित विक्रेता के खिलाफ जांच पड़ताल कर कठोर कार्यवाही की जा सकें।


आयुष्मान कार्ड - लोक सेवा केन्द्र से 



प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना के तहत पात्र हितग्राही परिवार को गंभीर रोगों के उपचार के लिये एक वर्ष की अवधि में 5 लाख रूपये तक की सहायता दी जाती है। इस योजना में निर्धारित शासकीय तथा निजी अस्पतालों में हितग्राही को निःशुल्क उपचार की सुविधा मिलती है। ये आयुष्मान कार्ड अस्पतालों तथा कॉमन सर्विस सेंटरों पर तो बनाये ही जा रहे हैं,  इनके साथ ही लोक सेवा केन्द्रों में भी अब आयुष्मान कार्ड बनाने की सुविधा भी शुरू कर दी गई है। जिला प्रबन्धक लोक सेवा ने बताया कि लोक सेवा केन्द्रों से अब पात्र लाभार्थियों को आयुष्मान भारत लाभार्थी कार्ड मिलना प्रारंभ हो गए हैं। योजनांतर्गत पात्र लाभार्थी को अपने नजदीकी लोक सेवा केन्द्र में आवेदन करना होगा। आवेदन के साथ आवेदक को निर्धारित शुल्क का भुगतान करना होगा। लोक सेवा केन्द्रों द्वारा पात्र लाभार्थी को आयुष्मान कार्ड बनाकर उपलब्ध कराया जायेगा। राज्य लोक सेवा अभिकरण द्वारा आम नागरिकों के लिये लोक सेवा प्रबंधन विभाग अंतर्गत संचालित लोक सेवा केन्द्रों व उनकी उपलब्ध सेवाओं की जानकारी को अब व्हाट्सएप पर दी जा रही है। इसके लिये राज्य-स्तरीय दूरभाष नंबर 0755-2775227  जारी किया गया है। व्हाट्सएप से जानकारी प्राप्त करने के लिये नागरिकों को सबसे पहले अपने मोबाइल में उक्त नंबर को सेव करना होगा। उसके बाद व्हाट्सएप के माध्यम से इस नंबर पर मैसेज भेजना होगा। नागरिक के मैसेज भेजने के उपरांत नागरिक के पास विभिन्न विकल्पों के चुनाव करने हेतु मैसेज आयेगा, जिसमें नागरिक लोक सेवा केन्द्रों अथवा एमपी डिस्ट्रिक्ट पोर्टल पर दर्ज कराये गये आवेदन के निराकरण की स्थिति, जारी किये गये प्रमाण-पत्र पर लगे डिजिटल हस्ताक्षर सत्यापन, लोक सेवा केन्द्रों पर उपलब्ध नागरिक सेवाओं की जानकारी, नजदीकी लोक सेवा केन्द्र की जानकारी एवं शासन के लिये महत्वपूर्ण सुझाव व फीडबैक दर्ज कर सकते हैं

कोई टिप्पणी नहीं: