विशेष : दंगाईयों-अपराधियों की पहली पसंद सपा ही क्यों? - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 20 जनवरी 2022

विशेष : दंगाईयों-अपराधियों की पहली पसंद सपा ही क्यों?

  • सुप्रीम कोर्ट का सख्त निर्देश है यदि राजनीतिक पार्टियां किसी अपराधी को टिकट देती हैं तो उन्हें 48 घंटे में बताना पड़ेगा कि आखिर इसकी क्या जरुरत है। लेकिन पार्टियां है कि चुनाव आते ही सब भूल जाती है और अपराधियों, माफियाओं व बाहुबलियों की धौंस पर सत्ता हासिल करने में जुट जाती है। ऐसा सपा ही नहीं बल्कि हर पार्टियां करती है। यह अलग बात है कि सपा की बुनियाद ही अपराधियों, माफियाओं व बाहुबलियों की साख पर ही टिकी है और इस वक्त उसी को लेकर चर्चाएं आम-ओ-खास है। सहारनपुर दंगे का मास्टरमाइंड मोहर्रम अली व कैराना के नाहिद हसन को सपा द्वारा प्रत्याशी बनाएं जाने के बाद गिरफ्तारी पर सपाई जिस तरह आग बबूला है उससे तो बड़ा सवाल यही है आखिर दंगाईयो व अपराधियो की पहली पंसद सपा ही क्यों? 

criminal-in-sp
फिरहाल, सपा ने अपने कार्यकाल में दंगाइयों, अपराधियों से यूपी को दहलाने के बाद फिर एक बार आगामी विधानसभा चुनावों में अपराधियों और दंगाइयों को टिकट बांटें हैं जो उसके दोहरे चरित्र व नफरत की राजनीति को दर्शाता है। बेशक, आपराधिक प्रवृत्ति के ख्यातनाम चेहरों के लिए भारतीय राजनीति शरण स्थली बन चुकी है। कई अपराधिक मामले दर्ज होने के उपरांत भी राजनीतिक दल इन्हें चुनाव में अपने दल का मुखौटा बनाकर मैदान में उतारते हैं और इनके रौब का इस्तेमाल आम जन को प्रभावित करने के लिए करते हैं। गौरतलब है कि अपराधियों को सदैव राजनीतिक संरक्षण प्राप्त रहा है। सभी राजनीतिक दलों के कई जनप्रतिनिधियों व पदाधिकारियों के खिलाफ संगीन आपराधिक मामले दर्ज हैं, लेकिन राजनीतिक प्रभाव के चलते इन मामलों की कोई सुनवाई नहीं होती है। 


सहारनपुर दंगों के आरोपी मास्टरमाइंड मोहर्रम अली पप्पू एवं कैराना सीट पर दर्जनों मुकदमों में वांछित नाहिद हसन को उम्मींदवार बनाया है और भाजपा इसे पश्चिम में चुनावी मुद्दा बना दिया है और सवाल पूछ रही है क्या सपा ने गुंडों, दंगाइयों, माफियाओं वबाहुबलियों को टिकट देकर अपने गुंडाराज और दंगाराज की वापसी कराना चाहती है? दरअसल राजनीति को ‘हींग लगे न फिटकरी, रंग आए चोखा’ समझने वाले लोग राजनीति में तेजी से प्रवेश कर रहे हैं। बिना निवेश और न्यूनतम जोखिम के ज्यादा रिटर्न देने वाले पेशे के तौर पर समझ रखने वाले ये तथाकथित अपराधी जनता का भला कैसे कर सकते हैं। ये बड़ा सवाल तो है ही, लेकिन उससे बड़ा सवाल तो यही कि राजनीतिक पार्टियों को अपराधी ही क्यों भाते है? माना कि जिताऊ उम्मीदवार के लालच में इन्हें टिकट मिल जाता है और मतदाता अपनी प्रिय पार्टी के नाम पर आंखें मूंद लेता है और ये अपराधी से माननीय बन जाते है।  वहीं मतदाता बाद में नाक-भौं सिकोड़ते हैं जब उन्हें पता चलता है कि उनके कल्याण के लिए आए धन को सांसद-विधायक महोदय गड़प कर गए। ऐसे हालात से बचने के लिए और देश में साफ-सुथरी राजनीति को बढ़ावा देने के लिए कानून-कायदों के साथ मतदाता बहुत बड़ा हथियार है। उसे चेतना ही होगा। क्योकि आपराधिक छवि के लोग अपने फायदे के लिए समाज में मौजूद बंटवारे को और बढ़ाते हैं। वे रक्षात्मक अपराधीकरण के जरिए अपनी जाति या समुदाय के भाई-बंधुओं के मान-सम्मान की रक्षा करने का वादा करते हैं। उन्हें यह मर्म पता है कि रोजाना के इन मुद्दों का दीर्घकालिक उपाय कर देने से लोगों को उनकी जरूरत नहीं रहेगी। अगर सरकारें लोगों को मूलभूत सुविधाएं प्रदान कर देंगी तो आपराधिक उम्मीदवार अपनी चमक खो देंगे। दरअसल जहां कानून बेहद लचर हो और विखंडित समाज हो, वहां एक उम्मीदवार की आपराधिक पृष्ठभूमि अहम पूंजी मानी जाती है। ऐसे उम्मीदवार मतदाताओं का पुनर्वितरण, दादागिरी, सामाजिक बीमा और झगड़ों का निपटारा करके खुद की साख बनाते हैं। यह चारों माध्यम राज्य के विशेषाधिकार हैं और किसी अपराधी उम्मीदवार के ये गुण उसे विश्वसनीय बनाते हैं।  


criminal-in-sp
जहां तक सपा के मुहर्रम का मामला है तो वह साल 2014 में सहारनपुर में हुई गुरुद्वारा हिंसा का मास्टरमाइंड है। उसे सहारनपुर नगर सीट से सपा विधायक संजय गर्ग ने 17 जनवरी को पार्टी की सदस्यता दिलाई और लाल टोपी पहनाकर स्वागत किया। इसका फोटो इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो रहा है। फोटो में दिख रहा है कि मोहर्रम अली पप्पू को सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल लाल टोपी पहना रहे हैं। फोटो में नरेश उत्तम पटेल के बगल में सपा विधायक संजय गर्ग भी खड़े दिखाई दे रहे हैं। इसे लेकर जिले के सिख समुदाय में गुस्सा है। क्योंकि हर कोई जानता है कि मोहर्रम अली पप्पू पर सिख समुदाय की भावनाएं आहत करने के साथ शहर में दंगा करवाने का भी आरोप है। भाजपा के राज्यसभा सदस्य बृजलाल ने इस मुद्दे पर अखिलेश यादव से सवाल किया है कि वह क्या संदेश देना चाहते हैं। गुंडों, दंगाइयों को टिकट देकर समाजवादी पार्टी ने गुंडाराज और दंगाराज कि वापसी कराने का अपना मंसूबा जाहिर कर दिया है।  भाजपा सांसद बृजलाल ने कहा, ’’कैराना से नाहिद हसन, धौलाना से असलम चौधरी, बुलंदशहर से हाजी यूनुस, मेरठ से रफीक अंसारी, लोनी से मदन भैया, साहिबाबाद से अमरपाल, स्याना से दिलनवाज को सपा ने चुनाव लड़ने के लिए उतारा है। ये कौन लोग हैं? सपा के उम्मीदवारों की लिस्ट चुनावी कम और हिस्ट्रीशीटर्स, गैंग्स्टर्स और शातिर अपराधियों की सूची ज्यादा लग रही है। सपा इन्हें चुनाव लड़वाकर विधानसभा भेजने की कोशिश कर नापाक हरकत कर रही है। इसका जवाब उनके पास नहीं होगा। क्योंकि वह इनके सरगना हैं। ये लोग मोदी जी और योगी जी के गरीब कल्याण के कामों पर रोक लगाने के लिए सत्ता में आना चाहते हैं। ये गरीबों के मकान, उनकी जमीनें और बहन- बेटियों पर अत्याचार करने के लिए खुली छूट के साथ वापसी का सपना पाले हुए हैं। इनको सपा का संरक्षण प्राप्त है। 


criminal-in-sp
बता दें, वर्ष 2014 में सहारनपुर के गुरुद्वारा रोड पर गुरुद्वारे की जमीन पर लेंटर डालने को लेकर सांप्रदायिक संघर्ष हुआ था। सैकड़ों दुकानें जला दी गईं थीं। कई लोग घायल भी हुए थे। पुलिस पर फायरिंग की गई थी, जिसमें कई पुलिसकर्मी घायल हुए थे। सहारनपुर में कई दिनों तक कर्फ्यू लगाना पड़ा था। उस वक्त जिले में हालात बेकाबू हो चुके थे पुलिस ने इस मामले में पंचायत करने और लोगों को भड़काने के आरोप में सहारनपुर के पूर्व पार्षद मोहर्रम अली पप्पू को नामजद किया था। पुलिस ने मोहर्रम अली पप्पू पर करीब 87 मुकदमे दर्ज किए थे। उसके ऊपर रासुका की कार्रवाई भी हुई थी। मोहर्रम अली पप्पू डेढ़ साल तक जेल में रहा था। हालांकि, 2021 में इस मामले में दोनों समुदाय के लोगों के बीच समझौता हो चुका है। मोहर्रम अली पप्पू अब जमानत पर रिहा है। सपा ने उसे अपने पाले में किया है। इससे पहले 2014 में भी तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से उनके सरकारी आवास, 5 कालीदास मार्ग पर मुलाकात करते हुए मोहर्रम अली पप्पू का फोटो वायरल हुआ था, उस समय संजय गर्ग भी साथ थे। उधर, कैराना की फास्ट ट्रैक कोर्ट ने नाहिद हसन की जमानत की याचिका को खारिज कर दिया है। गैंगस्टर एक्ट के तरत की गई कार्रवाई में नाहिद हसन को जेल भेजा गया था। नाहिद हसन सपा का प्रत्याशी हैं और बवेला खड़ा होने पर सपा उसकी बहन इकरा को टिकट दिया है। नाहिद हसन के खिलाफ दो दर्जन मुकदमे दर्ज हैं करीब 11 महीने पहले कैराना कोतवाली में विधायक नाहिद हसन, उनकी मां पूर्व सांसद तबस्सुम हसन समेत 40 लोगों के खिलाफ गैंग्स्टर एक्ट में मुकदमा दर्ज किया गया था। 


इधर, प्रयागराज की इलाहाबाद पश्चिम विधान सभा सीट से असदुद्दीन ओवैसी जेल में कैद माफिया और पूर्व सांसद अतीक अहमद की पत्नी शाइस्ता परवीन को मैदान में उतारा है। हालांकि एआईएमआईएम ने अभी शाइस्ता परवीन की उम्मीदवारी की आधिकारिक घोषणा नहीं की है, लेकिन एआईएमआईएम के संभागीय प्रवक्ता अफसर महमूद ने पुष्टि करते हुए कहा कि शाइस्ता परवीन इलाहाबाद पश्चिम सीट से पार्टी की उम्मीदवार होंगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सपा की सूची में एक बार  फिर माफिया और अपराधियों का बोलबाला है। लोनी विधान सभा से टिकट पाए मदन भैया की गिनती माफिया में होती है, यह शायद अखिलेश यादव और जयंत चौधरी भूल गए हैं। मदन भैया पर 1982 से लेकर 2021 तक 31 मुकदमे दर्ज हैं जिसमें हत्या के मामले भी हैं। मुज़फ्फरनगर  दंगों के बाद कैराना से हिंदू परिवारों के पलायन की याद दिलायी और कहा कि वहाँ से नाहिद हसन को टिकट देकर सपा ने अपने साम्प्रदायिक पक्ष को फिर सामने रखा है। नाहिद हसन पर शामली और सहारनपुर जिलों में 17 मामले दर्ज हैं। इसी तरह बुलंदशहर से टिकट पाए हाजी युनुस पर 23 आपराधिक मामले दर्ज हैं। स्याना से लड़ने वाले दिलनवाज़ का इतिहास भी आपराधिक रहा है। सीएम ने कहा कि ऐसे लोगों को टिकट देकर अखिलेश ने स्पष्ट कर दिया है कि सपा पश्चिमी उत्तर प्रदेश को एक बार फिर साम्प्रदायिक आग में झोंकने को तैयार है। सपा आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम को टिकट दे सकती है.। खबर है कि जल्द ही इसकी औपचारिक घोषणा हो सकती है। अभी हाल ही में अब्दुल्ला आजम को जेल से जमानत मिली है। अब्दुल्ला आजम खान 2017 में पार्टी के टिकट पर रामपुर की स्वार विधानसभा सीट से विधायक चुने गए थे लेकिन कांग्रेस प्रत्याशी नवाब काजिम अली और सुना वेद मियां ने अब्दुल्लाह आजम की उम्र को लेकर शिकायत दर्ज कराई थी जिसके बाद इलाहाबाद हाई कोर्ट ने अब्दुल्ला आजम का निर्वाचन रद्द कर दिया था। उनके उपर जमीन कब्जाने, फर्जी कागज़ात पेश करने समेत अन्य कुछ मामले दर्ज किए गए थे। उन्हें 43 मामलो में जमानत दे दी गई है। उनकी मां को भी पिछले साल जेल से रिहा कर दिया गया था। लेकिन खुद आजम खान अभी भी जेल में ही हैं। 






--सुरेश गांधी--

कोई टिप्पणी नहीं: