रेलवे में एक लाख 40 हजार नियुक्ति जल्द : वैष्णव - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 25 मार्च 2022

रेलवे में एक लाख 40 हजार नियुक्ति जल्द : वैष्णव

one-lakh-40-thousand-appointments-in-railways
नयी दिल्ली, 24 मार्च, रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने गुरुवार को कहा कि रेलवे में एक लाख चालीस हजार पदों पर नियुक्ति की प्रक्रिया चल रही है जिन्हें जल्द पूरा कर लिया जायेगा। श्री वैष्णव ने रेलवे के कामकाज पर राज्य सभा में कल से चल रही चर्चा का उत्तर देते हुए कहा कि पिछले दिनों नियुक्ति प्रक्रिया में कुछ दिक्कतें आईं थी जिनका समाधान अब कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि रेलवे में कभी भी नियुक्ति प्रक्रिया को बंद नहीं किया गया था बल्कि 2009 से 2014 के दौरान दो लाख से अधिक तथा 2014 से अब तक तीन लाख 44 हजार 646 लोगों की नियुक्ति की गई हैं। उन्होंने रेलवे में क्षेत्रीय स्तर पर जोनल कार्यालय की स्थापना की मांग को खारिज करते हुए कहा कि इसका निर्माण परिचालन आधार पर ही होगा। साउथ कोस्ट जोन का गठन क्षेत्रीय आधार पर नहीं किया गया है। इसका निर्माण कार्य तेजी से अब चल रहा है। श्री वैष्णव ने कहा कि रेलवे में पूंजी निवेश की समस्या के समाधान के लिए ही इसके बजट को आम बजट के साथ किया गया है। उन्होंने कहा कि रेलवे में लंबे समय से पूंजी की समस्या बनी हुई है जो निवेश पिछले 70 साल में किया जाना था, वह नहीं किया गया। वर्ष 2009 से 2014 के दौरान रेलवे में 45 हजार करोड़ तथा 2014 से 2019 के दौरान 99 हजार 511 करोड़ रूपये का निवेश हुआ था। इस साल दो लाख 45 हजार करोड़ के निवेश का प्रावधान किया गया है। रेलवे के तेजी से विकास के लिए सालाना तीन लाख करोड़ रुपये की जरूरत है। रेल मंत्री ने रेल लाइन के विद्युतीकरण की चर्चा करते हुए कहा कि 2009 से 2014 के दौरान वर्ष 608 किलोमीटर रेल लाइन का ही विद्युतीकरण हो रहा था जो 2014 से 2019 के दौरान बढ़कर 3440 किलोमीटर हो गया था। अब तक करीब 50 हजार किलोमीटर रेल लाइन का विद्युतीकरण हो गया है।


श्री वैष्णव ने देश में बुलेट ट्रेन के परिचालन के लिए की चर्चा करते हुए कहा कि नयी पीढ़ी की आकांक्षा आधुनिकता की ओर हैं। अहमदाबाद से मुम्बई तक रेल लाइन के निर्माण के लिए सूरत में एक विशाल जियो टेक्निकल लैब की स्थापना की गई है। इस रेल लाइन के लिए 29 किलोमीटर में पिलर लगाए गए हैं और मानसून के दौरान इसके दूसरे कार्य की ओर ध्यान दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि छोटे किसानों और उद्यमियों के बीच किसान रेल की लोकप्रियता को देखते हुए सामानों की सुरक्षित आवाजाही के लिए नए कंटेनर के परीक्षण का कार्य चल रहा है। उन्होंने कहा कि पुराने रेलवे कोच के स्थान पर आधुनिक डिब्बे लगाए जाने का काम तेजी से चल रहा हैं और हर माह पांच छह ट्रेनों में नए डिब्बे लगाए जा रहे हैं। रेल मंत्री ने कहा कि गांधीनगर को विश्व स्तरीय रेलवे स्टेशन बनाया गया और यहां तमाम आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं, इसके साथ ही आने वाले वर्षों में 60 रेलवे स्टेशनों को विश्व स्तरीय बनाया जाएगा। ये स्टेशन शहर का केन्द्र बनें, जहां अच्छे रेस्टोरेंट के साथ ही अच्छी सुविधाएं हों। उन्होंने कहा कि एक स्टेशन एक उत्पादन कार्यक्रम शुरू किया गया है जिसके तहत रेलवे स्टेशनों पर स्थानीय सामग्रियों को उपलब्ध कराया जायेगा। इनमें मधुबनी पेंटिंग, हैंडलूम साड़ियां, असमी गमछा और राजकोट का टेराकोटा प्रमुख हैं। उन्होंने कहा कि नई भारतीय तकनीक से वंदेभारत ट्रेन का निर्माण किया गया है जिसकी चर्चा दुनिया में की जा रही हैं। इसी तरह से यात्रियों की सुरक्षा के लिए स्वचालित ट्रेन संरक्षा प्रणाली (कवच) का निर्माण किया गया है जो बहुत ही बेहतरीन हैं। श्री वैष्णव ने केरल के सिलवर लाइन प्रोजेक्ट की चर्चा करते हुए कहा कि यह बहुत जटिल हैं और इस रेल लाइन पर दूसरी गाड़ियां नहीं चल सकती हैं। केरल सरकार ने इसके निर्माण पर करीब 63 हजार करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान लगाया है जो एक लाख करोड़ रुपये तक हो सकता हैं। उन्होंने कहा कि इस संबंध में कोई भी फैसला सोच-समझकर केरल के हितों में किया जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं: