बिहार : भाकपा-माले का 11 वां राज्य सम्मेलन 25-27 मार्च को गया में. - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 25 मार्च 2022

बिहार : भाकपा-माले का 11 वां राज्य सम्मेलन 25-27 मार्च को गया में.

  • बिहार में बढ़ती भाजपाई साजिश को नाकाम करने के लिए वामपंथ को मजबूत करने अैार महागठबंधन को धारदार बनाने के आह्वान के साथ आयोजित है यह राज्य सम्मेलन
  • माले महासचिव काॅ. दीपंकर भट्टाचार्य, वरिष्ठ नेता स्वदेश भट्टाचार्य, रामजी राय, प्रभात कुमार चैधरी, जनार्दन प्रसाद आदि होंगे मुख्य अतिथि, 800 के करीब प्रतिनिधि लेंगे भाग,
  • 25 मार्च को होगा खुला सत्र, स्वतंत्रता आंदोलन व किसान आंदोलन के नेताओं को दी जाएगी श्रद्धांजलि

cpi-ml-state-meet-in-gaya
पटना 24 मार्च, बिहार में बढ़ती भाजपाई साजिश को नाकाम करने के लिए वामपंथ को मजबूत करने और महागठबंधन को धारदार बनाने के आह््वान के साथ गया के एमएसवाई रिसाॅर्ट, माड़नपुर, बाइपास, खटकाचक में आगामी 25-27 मार्च को भाकपा-माले का 11 वां राज्य सम्मेलन होने जा रहा है. सम्मेलन में माले महासचिव काॅ. दीपंकर भट्टाचार्य, वरिष्ठ नेता स्वदेश भट््टाचार्य, पोलित ब्यूरो के सदस्य प्रभात कुमार चैधरी, यूपी के पार्टी प्रभारी रामजी राय, यूपी राज्य सचिव सुधाकर यादव आदि प्रमुख रूप से भाग लेंगे. पोलित ब्यूरो के सदस्य जनार्दन प्रसाद केंद्रीय पर्यवेक्षक हैं. यह सम्मेलन ऐसे दौर में हो रहा है, जब उत्तरप्रदेष सहित 4 राज्यों में अप्रत्याषित जीत हासिल कर लेने के बाद भाजपा व संघ ब्रिगेड अपने काॅरपोरेट एजेंडे व जनता पर फासीवादी हमले को और तेज करने की कोषिष कर रहे हैं. बिहार की राजनीति भी एक संक्रमणकालीन दौर से गुजर रही है और यहां भी भाजपा पूरी तरह से सत्ता को कब्जा कर लेने की फिराक में है. वह तमाम संवैधानिक संस्थाओं को भाजपामय कर देने के अभियान में लगी हुई है. ऐस में वाम-लोकतांत्रिक ताकतों को इस फासीवादी हमले के खिलाफ    मजबूत एकता का प्रदर्षन करते हुए दृढ़ता के साथ भाजपा का मुकाबला करने की चुनौती स्वीकार करने तथा लोकतंत्र, न्याय, रोजगार के पक्ष में चल रहे आंदोलन को मजबूती प्रदान करने की दिशा में यह सम्मेलन एक महत्वपूर्ण पड़ाव साबित होगा. राज्य में हाल के दिनों में माॅब लिंचिंग, सामंती-अपराधियों व पुलिस अत्याचार की लगातार बढ़ती घटनाओं ने नीतीश कुमार के ‘सुशासन’ को पूरी तरह बेनकाब कर दिया है. अभी हाल में मुख्यमंत्री के गृह जिले नालंदा में जिस तरह से एक अतिपिछड़ी जाति के विरेश चंद्रवंशी की हत्या की गई और उलटे पुलिस व सामंती-अपराधियों ने दलितों-अतिपिछड़ों पर ही कहर बरपाया, वह साबित करता है कि नीतीश कुमार ने सामंती-अपराधियों के सामने पूरी तरह आत्मसर्मपण कर दिया है. पश्चिम चंपारण में पुलिस हाजत में एक युवक की मौत के बाद आक्रोश भड़कना स्वभाविक था, लेकिन उसकी आड़ में बजरंग दल ने पुलिस थाने में उपद्रव को संगठित किया. ऐसे तत्वों पर कार्रवाई करने की बजाए पुलिस आम लोगों पर कहर बनकर टूटी है. आज के बिहार का यही सच है. विकास के सारे पैमाने पर भी बिहार फिसड्डी साबित हुआ है. नीति आयोग की रिपोर्ट ने इसकी पोल खोल दी है. गया शहर का नामकरण शहीद-ए-आजम भगत सिंह के नाम पर किया गया है. सभागार का नामकरण माले के दिवंगत पूर्व राज्य सचिव काॅ. रामजतन शर्मा तथा समकालीन लोकयुद्ध के संपादक बृजबिहारी पांडेय के नाम पर किया गया है. जबकि मंच का नामकरण पूर्व राज्य सचिव काॅ. पवन शर्मा तथा पार्टी के पत्र-पत्रिकाओं से जुड़े प्रो. अरविंद कुमार सिंह के नाम पर किया गया है. सम्मेलन में तकरीबन 800 प्रतिनिधि भाग लेंगे. 25 मार्च को एक बजे से 4 बजे तक खुला सत्र चलेगा. खुले सत्र में बिहार की वाम पार्टियों को आमंत्रित किया गया है. उसके पहले माले महासचिव द्वारा नेयामतपुर आश्रम जाकर किसान आंदोलन के प्रखर नेता पंडित यदुनंदन शर्मा को श्रद्धांजलि दी जाएगी. साथ ही, गया शहर में 1942 के शहीदों को भी याद किया जाएगा.

कोई टिप्पणी नहीं: