बिहार : कांग्रेस में टूट की अटकलों के बीच विजय सिन्हा पहुंचे दिल्ली - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 27 मार्च 2022

बिहार : कांग्रेस में टूट की अटकलों के बीच विजय सिन्हा पहुंचे दिल्ली

speaker-vijay-sinha-reach-delhi
पटना : राजनीतिक उथल-पुथल के बीच बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा दिल्ली पहुंचे हैं। लखीसराय विधायक सह बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा के दिल्ली दौरे को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं कई राजनीतिक जानकारों का कहना है कि विजय कुमार सिन्हा का दिल्ली दौरा हाल के दिनों में विधानमंडल के अंदर भाजपा और जदयू नेताओं के बीच स्थिति असहज बनी हुई है। उसको लेकर विजय कुमार सिन्हा भाजपा के शीर्ष नेतृत्व से मिलकर बिहार विधानमंडल के अंदर की तमाम राजनीतिक घटनाओं की जानकारी देंगे। इसके अलावा यह भी चर्चा है कि वीआईपी प्रकरण के बाद अब भारतीय जनता पार्टी एक और बड़ा ऑपरेशन करने जा रही है। चर्चाओं की माने तो बिहार से कांग्रेस के निर्वाचित प्रतिनिधियों की संख्या समाप्त हो सकती है, वर्तमान में कांग्रेस के 19 विधायक कभी भी पाला बदल सकते हैं। विश्वस्त सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक कांग्रेस के कुछ नेता, जो कि महत्वपूर्ण पद पर हैं वे दल के अंदर के नेताओं को मनाने की तैयारी कर रहे हैं। जिस दिन भारतीय जनता पार्टी की तरफ से हरी झंडी मिलेगी, उस दिन कांग्रेस के नेताओं का भाजपा में विलय हो जाएगा। हालांकि, इसको लेकर एक और थ्योरी चल रही है कि नीतीश कुमार भी चाहते हैं कि 19 में से कुछ विधायक जदयू को भी मिले, यानी कुछ विधायक भाजपा में शामिल हो और कुछ जदयू में। चर्चाओं के मुताबिक यह संख्या 13 और 6 हो सकती है। कुछ कुछ लोग विजय सिन्हा के दिल्ली दौड़े को इसी से जोड़कर देख रहे हैं। हालांकि, विजय कुमार सिन्हा ने इस दौरे को निजी दौरा बता रहे हैं। मालूम हो कि इससे पहले दिसंबर 2020 में भी कांग्रेस के टूटने की खबर आई थी। उस समय भी कांग्रेस के टूटने वाले कांग्रेस विधायक इस असमंजस में थे कि वे भाजपा के साथ जाएं या जदयू के साथ।

कोई टिप्पणी नहीं: