बिहार : सरकार की योजना भ्रष्टाचार एवं बिचौलियों के हाथों बर्बाद : तेजस्वी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 4 मार्च 2022

बिहार : सरकार की योजना भ्रष्टाचार एवं बिचौलियों के हाथों बर्बाद : तेजस्वी

tejaswi-attack-nitish-in-assembly
पटना : नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बजट सत्र के दौरान सदन के अंदर सरकार की नीतियों का आलोचना करते हुए कहा कि बिहार स्टार्ट- अप नीति के अंतर्गत युवाओं की उद्यमता को बढ़ावा देने के लिए 500 करोड़ के Venture Capital का प्रावधान किया गया पर यह प्रक्रिया जटिल होने के कारण 2018 -19 में 5 हजार आवेदन में से मात्र 60 को ही इसका लाभ मिल पाया। तेजस्वी ने कहा कि जहाँ एक रिपोर्ट अनुसार देश में किसानों की सबसे कम आय बिहार के किसानों की हैI औसत हर भारतीय किसान परिवार 77,124 रु. सालाना कमाता हैI वहीं बिहार में यह आय देश में सबसे कम महज 42,684 रु. है यानि मात्र 6,223 रु. प्रति माहI तेजस्वी ने कहा कि देश में सबसे अधिक महंगी बिजली बिहार में है और मात्र 350 किलोवाट Per Capita बिजली Consumption है जो भारत में सबसे कम है। यहाँ तक कि नागालैंड (356 kw) मणिपुर में 371 kw और त्रिपुरा में 514 kw का बिजली Per Capita Consumption है। ठीक इसी प्रकार हर घर नल का जल योजना कुव्यवस्था और भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया है। घर तक पक्की गली नालियों का योजना भी भ्रष्टाचार एवं बिचौलियों के हाथों बर्बाद हो गयी है। शिक्षा को लेकर नेता विपक्ष ने पक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि नीति आयोग के स्कूली शिक्षा गुणवत्ता सूचकांक (SEQI) मे बिहार फिसड्डी है और देश के अंतिम राज्यों मे है। बिहार में 18 से 23 वर्ष के लगभग 1.25 करोड़ युवा हैं, जिसमें से बिहार में मात्र 1,78,831 स्टूडेंट ही Enrolled हैं।इसका मतलब यह है कि 1,23,21,167 युवा उच्च शिक्षा से दूर हैं।  या फिर अन्य प्रदेशों में पढाई के लिए चले गए हैं। इससे Brain Drain के साथ साथ Money Drain भी हो रहा है। स्कूलों मे छात्र Drop Out rate देश मे सर्वाधिक है। गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मे Top-20 मे से बिहार का 19वें नंबर पर है। वहीँ बिहार में सबसे ज्यादा 70% बच्चों का पहली से दसवीं कक्षा के बीच Drop Out रेट है।

कोई टिप्पणी नहीं: