मधुबनी : विनोद सिंह का छलका दर्द, राजग के भितरघात के कारण मिली हार - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 8 अप्रैल 2022

मधुबनी : विनोद सिंह का छलका दर्द, राजग के भितरघात के कारण मिली हार



मधुबनी (रजनीश के झा) एमएलसी चुनाव परिणाम में पराजय के बाद राजग के जदयू प्रत्याशी विनोद कुमार सिंह मीडिया के साथ बातचीत करते हुए मन की बात की ओर चुनाव में जीत हार पर अपना मत रखते हुए विजेता अंबिका गुलाब यादव को बधाई देने के साथ अपनी पराजय का जिम्मेदार राजग के बागी प्रत्याशी को ठहराते हुए गठबंधन के भीतरघात पर निशाना साधा। श्री सिंह ने पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए कहा कि एनडीए के बागी प्रत्याशी के बारे में भाजपा के राज्य के शीर्ष नेतृत्व को सूचना दी गई थी लेकिन नेतृत्व के टालमटोल रवैया और बागी प्रत्याशी सुमन कुमार महासेठ द्वारा अनुचित तरीके से अपने कार्यक्रमों में प्रधानमंत्री के तस्वीर का प्रयोग ने मतदाताओं को भ्रमित किया जिस कारण राजग को मधुबनी में हार का मुंह देखना पड़ा। शीर्ष नेतृत्व के मुताबिक सुमन महासेठ को पार्टी से निष्कासित किया जा चुका था जबकि बागी जिला से लेकर राज्य स्तरीय पार्टी कार्यक्रम में शरीक होते रहे। प्रधानमंत्री के चेहरे का चुनाव प्रचार में इस्तेमाल के सवाल पर विनोद सिंह ने कहा कि इस बारे में जिला निर्वाची पदाधिकारी एवं चुनाव आयोग को सूचित किया गया था लेकिन प्रशासन और आयोग भी इस विषय पर मौन रहा। विनोद सिंह ने कहा कि बागियों ने इस चुनाव में जम कर काले धन का इस्तेमाल किया और ये पहली बार हुआ कि बागियों ने मतदान केंद्र पर अपना बूथ बना रखा था जहां जम कर कालेधन का बंदर बांट हुआ लेकिन आयोग निष्क्रिय रहा। श्री सिंह ने कहा की उन्होंने आयकर विभाग को भी सूचित कर कालेधन के जांच की मांग की है। विनोद सिंह ने कहा कि भले वो हार गए लेकिन हमारे नेता जीत हार की परवाह किए बगैर आवाम और पंचायत प्रतिनिधि के अधिकार और विकास के लिए कार्य किया है और वो आगे भी पंचायत जन प्रतिनिधियों के अधिकार और सम्मान के लिए संघर्ष करते रहेंगे।


कोई टिप्पणी नहीं: