विदिशा (मध्य प्रदेश) की खबर 11 मई - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 11 मई 2022

विदिशा (मध्य प्रदेश) की खबर 11 मई

कलेक्टर श्री भार्गव ने नवीन कलेक्ट्रेट पहुंच सड़क मार्ग का किया निरीक्षण, निर्माण कार्य शुरू करने के दिए निर्देश


vidisha news
कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव ने सौंठिया फाटक (अण्डर ब्रिज) से नवीन कलेक्ट्रेट तक पहुंच सड़क मार्ग का निरीक्षण कर सड़क निर्माण में आने वाली सभी बाधाओं का समाधान किया है। उन्होंने अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए हैं। कलेक्टर श्री भार्गव ने बुधवार की प्रात 7.30 बजे नवीन कलेक्ट्रेट तक पहुंच सड़क मार्ग का औचक निरीक्षण ही नहीं किया बल्कि सड़क निर्माण में आ रही दिक्कतों का समाधान भी मौके पर किया है। इस दौरान उन्होंने जिला खेल स्टेडियम परिसर की क्षतिग्रस्त बाउंड्री वॉल को तोड़कर नवीन बाउंड्री वॉल के निर्माण कराए जाने संबंधी निर्देश दिए हैं। इसके अलावा उन्होंने बाउंड्रीवॉल के पास लगे पेड़ो की संख्या से चार गुना अधिक पेड़ बाउण्ड्रीबाल से पांच फीट की दूरी पर लगाए जाएंगे। जिनकी ऊंचाई पांच फीट से अधिक रहेगी। उन्होंने पीडब्लूडी के कार्यपालन यंत्री श्री हेमंत राजपूत को आज से ही सड़क निर्माण कराए जाने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर श्री भार्गव ने कहा कि नवीन कलेक्ट्रेट पहुंच मार्ग पर अधिक से अधिक पौधारोपण किया जाएगा और पौधों को सुरक्षित भी रखा जाएगा इसके लिए उन्होंने नगर पालिका सीएमओ श्री सुधीर सिंह को निर्देश दिए हैं। कलेक्टर श्री भार्गव ने कहा कि नवीन कलेक्ट्रेट तक पहुंच मार्ग के पूर्ण हो जाने से आवागमन सुगम होगा और ईदगाह से जाने वाले रास्ते पर जाम की स्थिति से भी निजात मिल सकेगी। आमजन ज्यादातर नवीन कलेक्ट्रेट पहुंच मार्ग के रास्ते से ही आवाजाही कर सकेंगे। इस अवसर पर एसडीएम श्री गोपाल सिंह वर्मा, तहसीलदार श्रीमती सरोज अग्निवंशी, पीडब्ल्यूडी एसडीओ श्री नीलमणि शर्मा, खेल विभाग के श्री अजय श्रीवास्तव समेत नगरपालिका, पीडब्ल्यूडी के ठेकेदार सहित अन्य मौजूद रहें।


प्रधानमंत्री आवासों के कार्यों का औचक निरीक्षण, आवास कंप्लीट कराकर आवंटित हितग्राहियों को शीघ्र गृह प्रवेश कराएं -कलेक्टर


jhabua news
कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव ने आज प्रातः जतरापुरा क्षेत्र में नगर पालिका द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत बनाए जा रहे आवासों का औचक निरीक्षण कर आवासों में आवंटित लोगो को शीघ्र गृह प्रवेश कराने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर श्री भार्गव ने जतरापुरा क्षेत्र में बनाए जा रहे आवासों का मौके पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया है। उन्होंने आवासों के कमरों में पहुंचकर रंगाई, पुताई के अलावा नल फिटिंग के कार्यों की जानकारी भी प्राप्त की है। कलेक्टर श्री भार्गव ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत बनाए जा रहे आवासों का निर्माण शीघ्र अति शीघ्र पूर्ण कराए जाने के उपरांत लाभांवित हितग्राहियों को आवास मुहैया कराए जाएं ताकि वह सुगमता से अपना जीवनयापन कर सकें। आवासों में रहने वाले हितग्राहियों को किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना ना करना पड़े का विशेष ध्यान रखा जाए। नगरपालिका सीएमओ श्री सुधीर सिंह ने कलेक्टर श्री भार्गव को आवास योजना के कार्यों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जतरापुरा क्षेत्र में प्रधानमंत्री आवास लगभग पूरी तरह बनकर तैयार हो चुके हैं। 80 लाभांवित हितग्राहियों के द्वारा आवास के लिए निर्धारित राशि भी जमा करा दी गई है। उन्हें जल्द से जल्द आवास मुहैया कराकर बसाने का कार्य किया जाना है। लगभग 8 ब्लॉक बनकर तैयार हुए हैं। अधोसंरचना का कार्य बाकी है। जिसमें सड़क, विद्युतीकरण और पेयजल के कार्यों का निर्वहन किया जाना है जो लगभग एक सवा महीने में पूर्ण करा लिया जाएगा और संपूर्ण हो चुके इन आवासों में लाभांवित हितग्राहियों को बसाने का कार्य संपादित किया जाएगा।


पेयजल कार्यो की समीक्षा आज


कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव की अध्यक्षता में पेयजल संबंधी कार्यो की समीक्षा बैठक आज गुरूवार 12 मई को आयोजित की गई है यह बैठक नवीन कलेक्ट्रेट के बेतवा सभागार कक्ष में दोपहर तीन बजे से शुरू होगी। कलेक्टर श्री भार्गव ने उक्त बैठक में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग से संबंधित सभी इंजीनियर, ठेकेदारों की उपस्थिति सुनिश्चित कराने के निर्देश कार्यपालन यंत्री श्री संतोष साल्वे को दिए है। उन्होंने कहा कि इस बैठक में प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना को क्रियान्वित कराने वाले विभागो के अधिकारी भी मौजूद रहेंगे ताकि नलजल योजना के कार्यो के दौरान जहां सड़कों की क्षति हुई है उन ग्राम क्षेत्रों की सम्पूर्ण जानकारी प्राप्ति के उपरांत मरम्मत संबंधी कार्य एक जून के पहले पूरा कराया जा सकें।


पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति के आवेदन एमपीटॉस पोर्टल पर 15 तक दर्ज कराएं


शैक्षणिक वर्ष 2021-22 में समस्त शासकीय अशासकीय संस्थाओं को जनजातीय कार्य विभाग के जिला संयोजक श्री नरेन्द्र अवस्थी ने पत्र प्र्रेषित कर उन सबकों सूचित किया है कि पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति हेतु एमपीटॉस पोर्टल पर छात्रों को आवेदन करने की अंतिम तिथि 15 मई निर्धारित की गई है। जिला संयोजक श्री अवस्थी ने सभी संस्थाओं में अध्ययनरत अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति वर्ग के छात्र-छात्राएं छात्रवृत्ति संबंधी आवेदन 15 मई तक एमपीटॉस पोर्टल पर अनिवार्यतः आवेदन करें ताकि उन्हें छात्रवृत्ति प्राप्ति में किसी भी प्रकार की दिक्कतों का सामना ना करना पडें। इसी प्रकार की अपेक्षा सभी संस्था प्रभारियों से अभिव्यक्त की गई है। 


घरेलू हिंसा में स्थाई शारीरिक क्षति पर मुआवजे का प्रावधान


महिलाओं पर होने वाली घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण कानून में पीड़िता को व्यापक प्रावधान है। कईं बार अपनों के हिंसात्मक व्यवहार से महिलाओं को स्थाई शारीरिक क्षति हो जाती है। राज्य सरकार ने घरेलू हिंसा पीड़िता के लिए सहायता योजना की शुरुआत की है। इस योजना के तहत अब महिला या बालिका को किसी अंग की स्थाई क्षति के फलस्वरूप 40 प्रतिशत से कम दिव्यांगता पर 2 लाख तथा 40 प्रतिशत से अधिक दिव्यांगता पर 4 लाख रुपये तक का मुआवजा दिया जाएगा। इस मुआवजे के लिए पीड़ित या उसके आश्रित की ओर से घटना के एक वर्ष के भीतर संबंधित क्षेत्र के महिला एवं बाल विकास के परियोजना अधिकारी (संरक्षण अधिकारी) अथवा प्रशासक वन स्टॉप सेंटर को आवेदन करना होगा। आवेदन के साथ घटना की एफआईआर प्रति संलग्न करना आवश्यक होगा। मेडिकल बोर्ड शारीरिक क्षति का आंकलन कर कलेक्टर की अध्यक्षता में गठित समिति को प्रतिवेदन देगा, जिसके आधार पर समिति द्वारा मुआवजे की स्वीकृति दी जाएगी। 


भूमि क्रय-विक्रय के लिये सरल पोर्टल इंटीग्रेशन


आमजन की सुविधा के लिये प्रदेश में भूमि क्रय-विक्रय (रजिस्ट्री) को भी भू-अभिलेख पोर्टल के इंटीग्रेशन से सरल बनाया गया है। सम्पदा पोर्टल और रेवेन्यू केस मैनेजमेंट पोर्टल को इंटीग्रेट किया गया है। जनता को रजिस्ट्री के समय भूमि का सत्यापन किये जाने की सुविधा दी गई है एवं उसी समय नामांतरण के लिये प्रकरण दर्ज कर लिया जाता है।  सम्पदा पोर्टल पर रजिस्ट्री होते ही रेवेन्यू केस मैनेजमेंट पोर्टल पर नामांतरण स्वतः दर्ज हो जाता है एवं पेशी की तारीख भी तय हो जाती है। विगत 3 वर्ष में प्रदेश में 6 लाख 20 हजार से ज्यादा प्रकरण निराकृत किये गये हैं। भविष्य में सायबर तहसील के माध्यम से रजिस्ट्री के नामांतरण किये जाने की योजना है।


डिप्टी कलेक्टर ने कार्यभार ग्रहण किया


टीकमगढ़ जिले से स्थानांतरित हुए डिप्टी कलेक्टर श्री हर्षल चौधरी ने मंगलवार को नवीन पदस्थापना विदिशा जिले में कार्यभार ग्रहण कर लिया है। डिप्टी कलेक्टर श्री चौधरी का मोबाइल नम्बर 8770225419 है। 


अमृत सरोवर तालाव के कार्य पूर्ण गुणवत्ता के साथ तेजी से करायें - जिला पंचायत सीईओ


जिला पंचायत  सीईओ डॉ योगेश भरसट ने कहा कि  जिले के अन्तर्गत अमृत सरोवर योजना के तहत जिले में 100 तालावों का निर्माण एक जून तक पूर्ण गुणवत्ता के साथ किया जाऐ  जिला  पंचायत सीईओ डॉ भरसट मंगलवार को वीसी के माध्यम से सभी जनपदों के सीईओ को संबोधित करते हुए  ग्रामीण क्षेत्रों में इन तालाबों की बहूउपयोगिता सिद्ध होगी अतः निर्माण कार्य में किसी भी प्रकार की कोताही न बरती जाए शासन के दिशा निर्देशानुसार जेसीबी और पोकलेन मशीन का उपयोग किया जा सकता है । मजदूरों को मजदूरी कार्यों की प्राप्ति में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए। उन्होंने  समस्त सीईओ से वन-टू-वन प्रत्येक तालाव के निर्माण की वस्तुस्थिति पूछी तथा तालाव निर्माण जल्द से जल्द पूर्ण करने के निर्देश दिये।


कृषक भाई उपज की सुरक्षा करें


चक्रवाती तूफान आसनी के उड़ीसा तट से टकराने से आगामी दो तीन दिनों में कभी भी विदिशा जिले में तेज हवा के साथ-साथ हल्की बारिश हो सकती है। उपरोक्त परिस्थितियों को ध्यानगत रखते हुए किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के उप संचालक श्री पीके चौकसे ने कृषकों से अपील की हैं कि अपनी उपज को सुरक्षित स्थानों पर संभाल कर रखें। उप संचालक श्री चौकसे ने इसी प्रकार की अपेक्षा मंडी एवं उपार्जन केंद्रों को संचालित करने वालों से अभिव्यक्त की है। उन्होंने बताया कि कृषक विक्रय हेतु उपज लेकर गए हैं। वे तिरपाल आदि से ढंककर उपज की सुरक्षा के प्रबंध करें। चना, गेहूं, मसूर उपार्जन समितियों को भी सूचनाएं सम्प्रेषित कर उपार्जित स्कन्ध एवं बारदानों को गोदाम के अन्दर ही रखें अथवा ढककर रखें ताकि बेमौसम बारिश होने पर स्कन्ध व वारदाना गीला होने से बचाया जा सके।

कोई टिप्पणी नहीं: