रुद्रांक्ष और अभिनव पुरुष 10 मीटर एयर राइफल में पहले दो स्थान पर - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 11 मई 2022

रुद्रांक्ष और अभिनव पुरुष 10 मीटर एयर राइफल में पहले दो स्थान पर

rudransh-abhinav-on-top
नयी दिल्ली, 11 मई, भारतीय निशानेबाज रुद्रांक्ष बालासाहेब पाटिल ने बुधवार को स्वर्ण पदक के मुकाबले में हमवतन अभिनव साव को हराया जिससे भारत ने जर्मनी के सुहल में चल रहे आईएसएसएफ जूनियर विश्व कप की पुरुष 10 मीटर राइफल स्पर्धा में शीर्ष दो स्थान हासिल किए। रुद्रांक्ष ने स्वर्ण पदक के मुकाबले में अभिनव को 17-13 से शिकस्त दी। बुधवार सुबह भारत के इन दोनों निशानेबाजों ने लगातार अच्छा प्रदर्शन किया। इन दोनों ने पहले क्वालीफाइंग दौर में शानदार प्रदर्शन करते हुए आठ निशानेबाजों के फाइनल में जगह बनाई और फिर स्वर्ण पदक के मुकाबले में भिड़ने का हक पाया। मंगलवार को रुद्रांक्ष क्वालीफाइंग में भी 627.5 अंक के साथ शीर्ष पर रहे थे। स्पर्धा में हिस्सा ले रहे भारत के तीनों निशानेबाजों ने फाइनल में जगह बनाई। पार्थ मखीजा क्वालीफाइंग दौर में पांचवें स्थान पर रहते हुए फाइनल में पहुंचे। फाइनल में अभिनव ने बेहतर शुरुआत की और पहले तीन शॉट के बाद वह 4-2 से आगे थे। रुद्रांक्ष ने हालांकि जल्द ही वापसी करते हुए अभिनव को पीछे छोड़ दिया और फिर बढ़त बरकरार रखते हुए स्वर्ण पदक अपने नाम किया। जर्मनी के नाइल्स पालबर्ग ने कांस्य पदक जीता। जूनियर महिला 10 मीटर एयर राइफल में भारत की रमिता मंगलवार को क्वालीफाइंग दौर में 630.5 अंक के साथ शीर्ष पर रही और फिर एलिमिनेशन के अंतिम चरण में भी 261.0 अंक के साथ शीर्ष पर चल रही थी। स्वर्ण पदक के मुकाबले में हालांकि रमिता को गत जूनियर विश्व चैंपियन और तोक्यो ओलंपिक के फाइनल में जगह बनाने वाली फ्रांस की ओसियेन म्यूलर के खिलाफ 8-16 की शिकस्त से रजत पदक से संतोष करना पड़ा। भारत अभी एक स्वर्ण और दो रजत पदक के साथ पदक तालिका में शीर्ष पर चल रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं: