टाटानगर स्टेशन पर अनारक्षित टिकट उपलब्ध नहीं - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 17 जून 2022

टाटानगर स्टेशन पर अनारक्षित टिकट उपलब्ध नहीं

tatanagar-station
जमशेदपुर, विजय सिंह , लाइव आर्यावर्त ,17  जून। वर्ष 2020 में  कोरोना संक्रमण काल के प्रथम चरण में देशव्यापी तालाबंदी के दरम्यान बंद हुए रेल सेवा की पुनर्बहाली के बावजूद अभी तक टाटानगर रेलवे स्टेशन में अनारक्षित साधारण टिकटों की बिक्री शुरू नहीं की गयी है जबकि अन्य कई शहरों में साधारण अनारक्षित टिकट यात्रियों के लिए उपलब्ध हैं। विगत 13 जून को टाटानगर से गया जा रहे यात्री जब साधारण टिकट लेने टाटानगर रेलवे स्टेशन के टिकट काउंटर पर पहुंचा तो उसे यह कह कर काउंटर पर बैठे कर्मचारी ने लौटा दिया कि "तुमको मालूम नहीं है ,तीन साल से काउंटर से टिकट की बिक्री बंद है। " तब किसी अन्य साधन से गया पहुंचे इसी यात्री ने गया से टाटा वापसी के दौरान गया जंक्शन पर बिना किसी झंझट के टाटानगर तक का टिकट काउंटर से प्राप्त किया।  सवाल यह कि जब गया स्टेशन पर साधारण टिकट यात्रियों के लिए उपलब्ध है तो टाटानगर स्टेशन पर क्यों नहीं ? टाटानगर स्टेशन पर साधारण टिकट उपलब्ध नहीं होने की वजह से यात्रियों को जुर्माना देकर टीटीई से टिकट बनवाना पड़ता है। यात्रियों से जुर्माना के रूप में अतिरिक्त राशि वसूलने के पीछे क्या वरीय अधिकारियों की मिलीभगत है ? क्या इस तरह खुले आम भ्रष्टाचार के जरिये जनता को परेशान करने का घिनौना खेल नहीं खेला जा रहा है ? हमने इस सन्दर्भ में चक्रधरपुर रेल मंडल प्रबंधक से जानकारी चाही परन्तु उनकी तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल सकी। क्या देश के रेल मंत्री,रेल मंत्रालय और दक्षिण पूर्व रेलवे के जिम्मेदार अधिकारी  इस ओर ध्यान देंगे ?

कोई टिप्पणी नहीं: