मधुबनी : जिले में मद्य निषेध और शराब विनिष्टिकरण मामलों की समीक्षा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 30 जून 2022

मधुबनी : जिले में मद्य निषेध और शराब विनिष्टिकरण मामलों की समीक्षा

madhubani-dm-sp-meating
मधुबनी, जिलाधिकारी अरविन्द कुमार वर्मा एवं पुलिस अधीक्षक सुशील कुमार द्वारा आज समाहरणालय स्थित वीडियो कांफ्रेंसिंग कक्ष से जिले में मद्य निषेध और शराब विनिष्टिकरण से संबंधित मामलों की समीक्षा की गई। बैठक के दौरान जिलाधिकारी ने सभी संबंधित अधिकारियों को कड़े शब्दों में कहा कि सरकार के द्वारा मद्य निषेध पर जीरो टॉलरेंस की नीति है। ऐसे में  पुलिस व प्रशासन को तत्पर होकर इसे पूरी प्रभावकारी रूप से लागू करना है। उन्होंने इसको लेकर और भी सख्त कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि शराब जब्त करने में चौकीदारों की भूमिका बेहद अहम है। उन्होंने कहा कि एक सूची बनाई जाए कि चौकीदार परेड में कौन कौन से चौकीदार शराब की सूचना नहीं दे पा रहे हैं। उन्होंने स्पष्ट शब्दों मे कहा कि यदि कोई चौकीदार अपने क्षेत्र में शराब होने की सूचना नहीं देते हैं और बाद में उनके क्षेत्र से शराब जब्त की जाती है, तो उनपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।  उन्होंने जिले के सभी थानों को तत्पर होकर शराब बंदी कानून को लागू करवाने पर बल दिया।  ऐसे थानों को विशेष निर्देश दिए गए हैं, जिनके द्वारा शराब जब्त करने में शिथिलता बरती जा रही है।  उन्होंने पीने वालों के साथ साथ शराब का धंधा करने वालों पर भी गिरफ्तारी की कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।  उन्होंने कहा कि शराब जब्त किए जाने के पंद्रह दिनों के अंदर विनिष्ट कर दिए जाएं। उन्होंने राजसात के मामलों को भी ससमय निपटाने पर जोर दिया। उन्होंने शराब जब्त करने के दौरान जब्त किए गए वाहनों पर भी विधिसम्मत कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।  उक्त बैठक में उत्पाद अधीक्षक मधुबनी गणेश कुमार, प्रभारी विधि शाखा विकास कुमार के साथ साथ जिले के सभी अनुमंडल पदाधिकारी, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी व थानाध्यक्ष वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से शामिल हुए।

कोई टिप्पणी नहीं: