कविता : औरत कोई सामान नहीं - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 19 अगस्त 2022

कविता : औरत कोई सामान नहीं

औरत है, कोई सामान नहीं।


अकेली है, मगर कमजोर नहीं।।


सिर्फ जिस्म नहीं, जान भी होती है।


आत्मा हर पल उसकी रोती है।


छूटा अपनों का साथ, मां की ममता वह दुलार।


सोचा मिलेगा नया घर, नया संसार।।


दर्द अपनों से मिला, तकलीफ भी अपनों से।


घुट सी गई अंदर ही अंदर, बिखर गई वह टूट कर।


बहुत रो लिया अब हंस कर, जीना चाहती है।


सिमट गई थी बहुत वह, अब बिखरना चाहती है।।


बगिया के फूलों की तरह बस निखरना चाहती है।


टूटना नहीं, पिघल कर बह जाना चाहती है।


अपनी थोड़ी सी खुशियों को जी भर कर जीना चाहती है।


क्योंकि वह औरत है कोई सामान नहीं।।।।



नीलम ग्रेंडी
नीलम ग्रेंडी

चोरसौ, गरुड़

बागेश्वर, उत्तराखंड

(चरखा फीचर)

कोई टिप्पणी नहीं: