मधुबनी : नदियों के किनारे जाने से बचे : डीएम - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 8 अगस्त 2022

मधुबनी : नदियों के किनारे जाने से बचे : डीएम

madhubani-dm-news
मधुबनी : जिलाधिकारी अरविन्द कुमार वर्मा ने इधर कुछ दिनों से जिले में डूबकर  मरने की घटनाओं को देखते हुए जल  जमाव वाले क्षेत्रों एवम नदियों के किनारे नही जाने की अपील किया है,साथ ही बच्चों को भी दूर रखने की अपील किया है। उन्होंने जिले वासियों से अपील करते हुऐ कहा है कि भारी वर्षा होने की स्थिति में लोग घर मे ही रहे। नदियों,तालाबो आदि का जलस्तर बढ़ा हुआ है ,साथ ही वर्षा के दिनों में कई जगहों पर जल जमाव भी हो जाता है। अतः बहुत जरूरी होने पर ही घर से निकले। जल जमाव वाले क्षेत्रों एवम नदियों के किनारे जाने से बचें,साथ ही अपने बच्चों को भी जल जमाव क्षेत्रों एवम नदियों के किनारे जाने से रोके। गौरतलब हो कि पिछले दो दिनों में लगातार डूबने की घटना प्राप्त हो रही है।  खजौली अंचल के चतरा कमला बलान नदी एवम अंधराठाढ़ी अंचल के महरेल कंदर घाट कमला नदी में डूबने की घटना पर एसडीआरएफ की टीम द्वारा सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है।नदियों-तालाबों में डूबने से बचने के उपाय: 

 1. अपनी और अपने बच्चों की बचाएं जान। 

 2. नदियों-तालाबों में न धोएं बर्तन-कपड़े एवं न करें स्नान। 

 3. डूबते हुए की तरफ रस्सी, धोती, साड़ी या बांस फेंके। 

 4. डूबे हुए व्यक्ति को तुरंत ऑक्सीजन उपलब्ध करवाएं ।

 5. ऑक्सीजन न मिले तो मुंह से स्वांस दें। 

 6. पेट में भर गया हो पानी तो पेट के बल लिटाकर दवाब दें जिससे पानी निकल जाए, फिर जल्दी अस्पताल ले जाएँ 

कोई टिप्पणी नहीं: