‘आजाद 2019 के बाद से ही बना चुके थे कांग्रेस छोड़ने का मन’ - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 31 अगस्त 2022

‘आजाद 2019 के बाद से ही बना चुके थे कांग्रेस छोड़ने का मन’

azad-had-made-up-his-mind-to-leave-congress-since-2019
नयी दिल्ली, 31 अगस्त, कांग्रेस नेताओं का कहना है कि पार्टी के असंतुष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने 2019 के आम चुनाव में कांग्रेस को मिली करार हार के बाद से ही पार्टी से बाहर होने का मन बना लिया था और वह पार्टी के लिए कोई संघर्ष करने को तैयार नहीं थे। कांग्रेस नेताओं अपना नाम नहीं बताने की शर्त पर बुधवार को यूनीवार्ता से बातचीत में कहा कि श्री आजाद ने पार्टी के लिए काम करना पहले ही छोड़ दिया था। श्री आजाद के कुछ खास समर्थकों को भी पता था कि वह कांग्रेस को अलविदा कहने वाले हैं इसलिए वे भी पार्टी के किसी भी कार्यक्रम में शामिल नहीं होते थे और ना ही अपना सहयोग दे रहे थे। यह पूछने पर कि क्या श्री आजाद के कारण कांग्रेस को जम्मू कश्मीर में नुकसान होगा, एक नेता ने कहा ‘‘वह बड़े नेता जरूर थे लेकिन उनकी जनता में पकड़ नहीं थी इसलिए उनके जाने से जमीनी स्तर पर कांग्रेस को कुछ फर्क नहीं पड़ेगा।” इस नेता ने कहा कि जम्मू कश्मीर की चेनाव घाटी में उनका कुछ प्रभाव जरूर है, यही कारण है कि वहां से जीते कांग्रेस के नौ में से चार ‘पूर्व विधायक’ उनके साथ चले गये हैं। इस क्षेत्र में उनके जाने का पार्टी की संभावनाओं पर थोड़ा बहुत असर पड़ सकता है। कांग्रेस के एक अन्य नेता ने कहा कि श्री आजाद का कभी जनाधार नहीं रहा है और वह कांग्रेस नेतृत्व द्वारा बार बार राज्यसभा में भेजे जाने के कारण प्रमुख नेता बने हैं। श्री आजाद ने सिर्फ एक बार विधानसभा का चुनाव तब जीता जब उन्हें जम्मू कश्मीर का मुख्यमंत्री बनाया जाना था। यह चुनाव भी उन्होंने तब जीता जब उनके भाई ने अपनी सीट से उन्हें चुनाव लड़वाया। वह पांच बार राज्यसभा के सदस्य रहें। जिस नेता का जनाधार नहीं होता है उसके जाने से कांग्रेस जैसे दलों को कुछ फर्क नहीं पड़ता है। श्री आजाद के 2019 के बाद से पार्टी छोड़ने के आभास को लेकर पूछे गये प्रश्न के जवाब में सूत्रों ने कहा कि उनके काम करने का स्टाइल बदल गया था और वह पार्टी की किसी भी गतिविधि में शामिल नहीं हो रहे थे। पहले की तरह पार्टी की रैलियों और अन्य गतिविधियों में उनके समर्थक भी रुचि नहीं लेते थे इससे साफ है कि वह आम चुनाव के बाद से ही कांग्रेस छोड़ने का मन बना चुके थे। सूत्रों ने हैरानी जताई कि श्री आजाद को पार्टी ने सबकुछ दिया उसके बावजूद वह पार्टी को भला बुरा कह रहे हैं। उन्होंने कहा कि श्री आजाद को कांग्रेस में श्री संजय गांधी लाये थे और उसके बाद पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी तथा राजीव गांधी ने उनको आगे बढाया। सूत्रों ने कहा “कांग्रेस की जो भी बैठक होती, किसी से कांग्रेस प्रतिनिधि मंडल को मिलना होता था तो सबसे आगे आजाद ही रहते थे। ऐसी स्थिति को क्या अनादर कहते हैं। दूसरी बात वह जिन राहुल गांधी को कोस रहे हैं उन्हें समझना चाहिए कि जब वह राजनीति में आये थे तो श्री गांधी उस समय तीन साल के थे।” गौरतलब है कि श्री आजाद पांच दशक तक कांग्रेस में रहने के बाद पार्टी से इस्तीफा दे चुके हैं और उनके अलग पार्टी बनाने की अटकलें लगाई जा रही है। उनके साथ ही जम्मू कश्मीर में कांग्रेस के 64 बड़े नेता भी पार्टी छोड़ च़ुके हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: