मधुबनी : देश में मानव व्यापार के रूप में बाल तस्करी एक अभिशाप : डीएम - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 3 अगस्त 2022

मधुबनी : देश में मानव व्यापार के रूप में बाल तस्करी एक अभिशाप : डीएम

  • एक दिवसीय उन्मुखीकरण सह जागरूकता कार्यक्रम का हुआ आयोजन

madhubani-news-today
मधुबनी, जिला पदाधिकारी   की  अध्यक्षता में वर्ल्ड डे एगेंस्ट ह्यूमन ट्रैफकिंग के अवसर पर एक दिवसीय उन्मुखीकरण सह जागरूकता कार्यक्रम  का आयोजन समाहरणालय स्थित सभा कक्ष में आयोजित की गई।  अपने संबोधन में जिलाधिकारी ने कहा कि  द यूनाइटेड नेशन ऑफ ड्रग्स एंड क्राइम के द्वारा 2013 से इसे आरंभ किया गया था। इंडिया में इसे प्रत्येक वर्ष 11 जनवरी को नेशनल डे एगेंस्ट ह्यूमन ट्रैफिकिंग मनाया जाता है। माननीय राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के द्वारा इस अवसर पर आजादी का अमृत महोत्सव के तहत बाल तस्करी से आजादी अभियान 1 अगस्त 2022 से 25 अगस्त 2022 तक चलाया जा रहा है। जिसके तहत भारत के 75 अंतरराष्ट्रीय सीमा में से सटे जिलो में  अभियान चलाया जा रहा है।  जिले में मानव व्यापार की रोकथाम हेतु  एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट स्थापित है। उन्होंने कहा कि देश में मानव व्यापार के रूप में बाल तस्करी एक अभिशाप के रूप में विद्यमान है। उन्होंने कहा कि बालकों की तस्करी बाल मजदूरी, ऑर्गन ट्रैफकिंग, क्रिमिनल एक्टिविटी, सेक्सुअल एक्सपोजिशन, इत्यादि के लिए होता है, जिसके उन्मूलन किए बिना सुरक्षित समाज सुरक्षित देश एवं सुरक्षित भविष्य का निर्माण नहीं किया जा सकता है। जिलाधिकारी ने  कहा कि मानव व्यापार एवं बाल तस्करी रोकने हेतु किशोर न्याय अधिनियम 2015 की विभिन्न धाराओं में वर्णित निर्देशानुसार सभी थानों में नामित बाल कल्याण पुलिस पदाधिकारी अपने कर्तव्यों का पूरी संवेदनशीलता के साथ निर्वहन करें।बच्चों के साथ संवेदनशीलता एवं नम्रता से व्यवहार करें। बच्चों को यूज करने वाले वास्तविक ट्रैफिकर तक पहुंचे तथा उस पर कार्रवाई करें। जेजेबी में नियमित रूप से एसबीआर समर्पित करें। एसएसबी कमांडेंट द्वारा बताया गया कि मानव व्यापार के अनेकों पहलू है जिसे समय से पहचानना एवं निष्पादन करना आवश्यक है।  जिला पदाधिकारी  ने कहा कि सभी पदाधिकारी संबंधित नियमों एक्ट के अनुसार आवश्यक कार्रवाई करें तथा समन्वय से बाल तस्करी को रोकने का प्रयास करें। उक्त कार्यक्रम में उप विकास आयुक्त 

 विशाल राज,सहायक निदेशक डीसीपीयू साहब रसूल ,

 एसडीपीओ प्रभाकर तिवारी, 

 बाल कल्याण समिति अध्यक्ष बिन्दु भूषण ठाकुर,सदस्य मंटू कुमार ,रामभूषण पांडेय,नीरजा कुमारी, 

 जयनगर एसएसबी डिप्टी कमाण्डेन्ट  श्वेता 

 कमाण्डेन्ट राजनगर,सीपीओ गोपाल सिंह, प्रमोद कुमार,रेखा झा रूपम कुमारी 

 सर्वोप्रयास की डायरेक्टर निर्मला* कुमारी, बाल कल्याण पुलिस अधिकारी,श्रम अधिकारी आदि उपस्थित थे। 

कोई टिप्पणी नहीं: