बिहार : आठवाँ थियेटरवाला नाट्योत्सव स्वतंत्रता संग्राम के नायक भगत सिंह को समर्पित - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शनिवार, 24 सितंबर 2022

बिहार : आठवाँ थियेटरवाला नाट्योत्सव स्वतंत्रता संग्राम के नायक भगत सिंह को समर्पित

Theatorwala-natyotsav-patna
संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार के सौजन्य से रंग मार्च, पटना द्वारा आठवाँ थियेटरवाला नाट्योत्सव का पाँच दिवसीय आयोजन कालिदास रंगालय में 26 सितंबर से किया जायेगा, जिसका उद्घाटन संगीत नाटक अकादमी पुरस्कृत वरिष्ठ रंगकर्मी संजय उपाध्याय करेंगे। उनके साथ हीं विशिष्ट अतिथि के तौर पर श्री विनीत झा, अध्यक्षता श्री आर.एन.दास और मुख्य अतिथि सर्वश्री नवाब आलम, राजेश राजा एवं पुंज प्रकाश मंच पर उपस्थित रहेंगे। मंच संचालन मृत्युंजय शर्मा करेंगे। प्रवीण सप्पू और रवि चन्द्र पासबाँ के कर कमलों से सभी आमंत्रित अतिथियों को सम्मानित किया जाएगा। उद्घाटन सत्र में दीप प्रज्ज्वलित कर नाट्योत्सव का उद्घाटन किया जायेगा। आगत अतिथियों के कर-कमलों से 8वाँ थियेटरवाला युवा सम्मान युवा रंगकर्मी श्री जय प्रकाश को प्रदान किया जायेगा। ज्ञात हो कि अजित गांगुली की स्मृति में थिएटरवाला नाट्योत्सव रंग मार्च, पटना बिहार आर्ट थिएटर के सहयोग से 2014 से लगातार कर रही है। अब तक रणधीर कुमार, मनोज मानव, श्याम कुमार साहनी, अजित कुमार, डॉ. चैतन्य प्रकाष, उज्ज्वला गांगुली और बुल्लु कुमार को थिएटरवाला युवा सम्मान से सम्मानित कर चुकी है। नाट्योत्सव में प्रतिभागी बिहार के युवा रंगकर्मी निर्देशक ही होते हैं। आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत यह नाट्योत्सव भगत सिंह को समर्पित होगा और स्वतंत्रता संग्राम पर केन्द्रित नाटकों का मंचन पांच दिन किया जायेगा। पहले दिन स्वतंत्रता संग्राम पर केन्द्रित पियूष मिश्रा के लोकप्रिय नाटक ‘गगन दमाम बाज्यो’ का मंचन रौषन कुमार के निर्देषन में दी स्ट्रगलर की टीम द्वारा किया जायेगा। दूसरे दिन रंग मार्च, पटना द्वारा भगत सिंह के जीवन पर केन्द्रित मृत्युंजय शर्मा द्वारा लिखित-निर्देषित नाटक ‘मैं नास्तिक हूँ’ का मंचन किया जायेगा। तीसरे दिन सूत्रधार, खगौल द्वारा सर्वदेष्वर दयाल सक्सेना द्वारा लिखित नाटक ‘लड़ाई’ का मंचन निरज कुमार सिंह द्वारा किया जायेगा। चौथे दिन जन विकल्प, सीतामढ़ी द्वारा मृत्युंजय शर्मा द्वारा लिखे नाटक ‘एक और मोहरा’ का मंचन राजन कुमार सिंह के निर्देशन में किया जायेगा। अंतिम दिन सुगम साहित्य संचार समिति रमेश चन्द्र द्वारा कारगिल युद्ध पर केन्द्रित नाटक ‘चिट्ठी आई है!’ का मंचन किया जायेगा। समापन सत्र में कथाकार रमेश चन्द्र की उपस्थिति रहेगी। ये जानकारी रंग मार्च, पटना की सचिव नूपूर चक्रवर्ती ने दिया।

कोई टिप्पणी नहीं: