गया : ऐतिहासिक स्थल गया में पितृपक्ष मेला 2022 जारी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

गुरुवार, 15 सितंबर 2022

गया : ऐतिहासिक स्थल गया में पितृपक्ष मेला 2022 जारी

gaya-news-today
गया. ऐतिहासिक स्थल गया में पितृपक्ष मेला 2022 जारी है.तीर्थ यात्रियों का विष्णुपद, देवघाट तथा सीता कुंड क्षेत्र में एकाएक बढ़ते सैलाब तथा मेला के व्यवस्था का जायजा जिला पदाधिकारी द्वारा स्वयं लिया गया.पितृपक्ष मेला में हजारों हजार की संख्या में तीर्थयात्री पहुंच चुके हैं. हर प्रकार की व्यवस्था की गई है। व्यवस्था में कहीं कोई चूक न जाए इसको लेकर डीएम ने खुद कमान संभाली हुई है. घाटों पर गए और पिंडदानियों से बात कर उनका फीडबैक लिया. डीएम ने बताया कि बाहर से आने वाले श्रद्धालु यहां किए गए इंतजाम से बेहद खुश हैं.इसके बाद जहां-जहां वेदियों के लिए महत्वपूर्ण तिथियां हैं वहां विशेष इंतजाम भी किए जा रहे हैं. नदी के किनारे भीड़ को देखकर जिला पदाधिकारी एवं नगर पुलिस अधीक्षक स्वयं एसडीआरएफ की बोट/ नाव पर बैठकर फल्गु नदी के सभी घाटों तथा सीता कुंड के क्षेत्र का घूम घूम कर जायजा लिया. जिला पदाधिकारी ने सरोवर में स्नान कर रहे तीर्थयात्रियों से अनुरोध किया कि बैरिकेडिंग के अंदर ही स्नान करे, बैरिकेडिंग के बाहर कोई भी तीर्थयात्री ना जाए. बैरिकेडिंग के बाहर गहरा पानी का संकेत फ्लेक्स बोर्ड के माध्यम से दर्शाया गया है. उन्होंने सीताकुंड पहुंच कर स्वास्थ्य शिविर का निरीक्षण किया. उन्होंने एक एक कर अनेक दवाओं का एक्सपायरी डेट तथा दवा की विवरणी के बारे में जाना. उन्होंने कहा कि वैसी इंजेक्शन जिसे न्यूनतम तापमान की आवश्यकता है वैसे संबंधित इंजेक्शन को सुरक्षित रखने के लिए आइस बॉक्स का इस्तेमाल करने का निर्देश दिए. उन्होंने स्वास्थ्य शिविर में उपस्थित चिकित्सक तथा नर्स को निर्देश दिया कि यदि किसी मरीज की तबीयत खराब होने पर त्वरित गति से एंबुलेंस के माध्यम से उसे अस्पताल पहुंचावे. एंबुलेंस की सेवा देने में कोई कोताही न बरतें. उन्होंने कहा कि हर स्वास्थ्य शिविर में कम से कम 2 बेड तीर्थ यात्रियों के लिए सुरक्षित रखा गया है इसे ध्यान में रखते हुए प्रत्येक स्वास्थ्य शिविर में स्टैंड फैन की व्यवस्था रखें. निरीक्षण के पश्चात तीर्थयात्री श्री ललित कुमार जो करवा पूर्णिया के रहने वाले हैं। उन्होंने जिला पदाधिकारी को देखकर उन्हें धन्यवाद दिया और कहा कि इस वर्ष फल्गु नदी में पानी के साथ-साथ कई आवश्यक सुविधाएं हम सभी तीर्थ यात्रियों के लिए कराया गया है, जिससे काफी सहूलियत हो रही है. निरंतर साफ सफाई की व्यवस्था रखी गई है. पेयजल के लिए जगह जगह पर आरो पॉइंट भी लगाए गए हैं. पदाधिकारियों तथा पुलिस पदाधिकारियों का व्यवहार भी काफी कुशल है हर व्यक्ति कुशल भावना से हम सभी तीर्थ यात्रियों की सेवा दे रहे हैं. इसके उपरांत देव घाट,  गजाधर घाट, श्मशान घाट इत्यादि सभी घाटों का घूम घूम कर निरीक्षण किया एवं अनेक तीर्थयात्रियों से फ़ीडबैक लिया.यात्रियों को कोई असुविधा ना हो इसके लिए विभिन्न पदाधिकारियों को कई आवश्यक निर्देश दिए.विभिन्न रास्तों से देवघाट से बाहर निकालने के लिए देवघाट पर बने नियंत्रण कक्ष के माध्यम से लगातार अनाउंसमेंट करवाने का भी निर्देश दिए.

कोई टिप्पणी नहीं: