खेल संस्कृति को बढ़ावा देना समय की जरूरत : अनुराग ठाकुर - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 20 सितंबर 2022

खेल संस्कृति को बढ़ावा देना समय की जरूरत : अनुराग ठाकुर

sports-culture-in-country-need-of-the-hour-anurag-thakur
अमृतसर, 20 सितंबर, सूचना एवं प्रसारण और खेल एवं युवा मामले मंत्री अनुराग ठाकुर ने मंगलवार को कहा कि देश को विकास की ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए जरूरी है कि खेलों को देश के कोने-कोने में खेला जाए, संस्कृति को बढ़ावा दिया जाए। उन्होंने कहा कि इसके लिए केन्द्र सरकार ने खेलों के बुनियादी ढांचे को विकसित करने के लिए 2758 करोड़ रुपये की 300 से अधिक विभिन्न परियोजनाओं को जारी किया है। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि भविष्य में खेलों में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए और भी प्रोजेक्ट तैयार किए जा रहे हैं। सरकारें अपने स्तर पर प्रयास कर रही हैं लेकिन अब व्यक्तियों, परिवारों, समाज और कॉरपोरेट को भी आगे आने की जरूरत है। उन्होंने खेल, विज्ञान और चिकित्सा को खेल के विकास का एक अभिन्न और महत्वपूर्ण हिस्सा बताते हुए इस क्षेत्र में गुरु नानक देव विश्वविद्यालय द्वारा किए गए कार्यों की सराहना की। वह आज गुरु नानक देव विश्वविद्यालय के 52वें वार्षिक खेल पुरस्कार वितरण समारोह के अवसर पर अंतरराष्ट्रीय, राष्ट्रीय और अखिल भारतीय अंतर-विश्वविद्यालय स्तर पर विभिन्न खेलों में विश्वविद्यालय और देश का नाम रोशन करने वाले खिलाड़ियों को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर अंतरराष्ट्रीय, राष्ट्रीय और अखिल भारतीय अंतर-विश्वविद्यालय स्तर पर विभिन्न खेलों में विश्वविद्यालय और देश का नाम रोशन करने वाले 268 खिलाड़ियों और कॉलेजों को दो करोड़ रुपये के नकद पुरस्कार और ट्रॉफी से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर विभिन्न महाविद्यालयों के प्राचार्यों, विभागाध्यक्षों, खेल हस्तियों, प्रशिक्षकों को भी सम्मानित किया गया। श्री ठाकुर ने खेल के क्षेत्र में विश्वविद्यालय की उपलब्धियों पर संतोष व्यक्त किया, उन्होंने अपने छात्र और खिलाड़ी जीवन से जुड़ी पंजाब की यादें ताजा की और विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. संधू को आश्वासन दिया गया कि वह विश्वविद्यालय का छात्र रहे हैं, इसलिए विश्वविद्यालय को खेल के क्षेत्र में अधिक से अधिक धन मुहैया कराया जाएगा और खेल से संबंधित उनकी मांगों पर भी विचार किया जाएगा। 

कोई टिप्पणी नहीं: