कविता : मैंने खुद को इस नजर से देखा है - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शनिवार, 31 दिसंबर 2022

कविता : मैंने खुद को इस नजर से देखा है

मैंने खुद को इस नजर से देखा है।


जिस नजर से दुनिया को मुझे अक्सर नजरअंदाज करते देखा है।।


मैं खुद की नजर  से नजर मिला सकूं, बस इतना खुद को तराशा है।


मझधार में डूब ना जाए यह नजर, खुद से मंजिल तक पहुंचने का वादा है।।


बस खुद से इस दुनिया की नजर में खास बनने का इरादा है।


सुनना चाहती हूं दुनिया से “क्या खुद को तराशा है"।।


कोयला हूं दुनिया की नजर में अभी, चमकता हीरा बनने का इरादा है।


अभी उलझने हैं जीवन में कई, क्षितिज छूकर दिखाऊं, यह खुद से वादा है।।


जैसे मैं एक परिंदा हूं शिकार की तलाश में, एक खूबसूरत आशियाने की फिराक में।


एक खूबसूरत तारों की महफिल सजी, उस महफिल की चांद बनना चाहती हूं मैं।।


अभी नजर में नहीं किसी के मैं, एक दिन बनना चाहे मेरे जैसा कोई।


होना चाहती हूं सबके लिए खास मैं।


जहां से छू सकूं चांद को, जाना चाहता हूं उसके इतने पास मैं।।


 



Manju-dhapola

मंजू धपोला

कपकोट, बागेश्वर

उत्तराखंड

चरखा फीचर

कोई टिप्पणी नहीं: