बिहार : जिज्ञासा संसार के वर्ष - 2022 के पुरस्कारों की घोषणा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 23 दिसंबर 2022

बिहार : जिज्ञासा संसार के वर्ष - 2022 के पुरस्कारों की घोषणा

  • शंकर यति स्मृति सम्मान प्रो. शैलेंद्र सिंह को
  • माता रामदुलारी देवी सेवा सम्मान ममता मेहरोत्रा को
  • जिज्ञासा संसार प्रतिभा शिल्पी सम्मान प्रो. श्रीपति त्रिपाठी को
  • जिज्ञासा संसार कलमवीर सम्मान प्रभात वर्मा और विश्वनाथ सिंह को

Jigyasa-sansar-award
पटना। हिंदी का राष्ट्रीय मासिक "जिज्ञासा संसार" द्वारा वर्ष - 2022 का 'शंकर यति स्मृति सम्मान' प्रसिद्ध लेखक एवं शिक्षाविद प्रो.(डॉ.) शैलेंद्र सिंह (शिकोहाबाद) को दिया जाएगा, जिसके तहत उन्हें इक्कीस हजार रुपए सहित सम्मान पत्र,प्रतीक चिन्ह आदि अर्पित किए जाएंगे।यह सम्मान साहित्य के क्षेत्र में विशिष्ट कार्य करने वाले को दिया जाता है।इसके साथ ही प्रतिष्ठित समाजसेवी एवं लेखिका श्रीमती ममता मेहरोत्रा(लखनऊ)को वर्ष - 2022 के 'माता रामदुलारी देवी सेवा सम्मान' से नवाजा जाएगा, जिसके तहत उन्हें पाँच हजार रुपए सहित सम्मान पत्र,स्मृति चिन्ह आदि अर्पित किए जाएंगे।यह सम्मान समाजसेवा के क्षेत्र में विशिष्ट कार्य करने वाले को दिया जाता है। वहीं जाने-माने शिक्षाविद एवं लेखक प्रो.(डॉ.)श्रीपति त्रिपाठी (दरभंगा) 'जिज्ञासा संसार प्रतिभा शिल्पी सम्मान' से नवाजे जाएंगे, जिसके तहत उन्हें पाँच हजार रुपए सहित सम्मान पत्र,प्रतीक चिन्ह आदि अर्पित किए जाएंगे।यह सम्मान शिक्षा के क्षेत्र में विशिष्ट योगदान देने वाले को दिया जाता है।'जिज्ञासा संसार कलमवीर सम्मान' दस्तक प्रभात दैनिक के संपादक प्रभात वर्मा(पटना) एवं सोनपुर,सारण के चर्चित पत्रकार विश्वनाथ सिंह को संयुक्त रूप से प्रदान किया जाएगा,जिसके तहत पाँच हजार रुपए सहित सम्मान पत्र,स्मृति चिन्ह आदि अर्पित किए जाएंगे।यह सम्मान पत्रकारिता के क्षेत्र में विशिष्ट योगदान देने वाले को दिया जाता है। यह घोषणा आज एक प्रेस सम्मेलन में प्रसिद्ध शिक्षाविद एवं चयन समिति के अध्यक्ष प्रो.डॉ. जे.बी.पाण्डेय ने की।उन्होंने बताया कि इन सम्मानों के लिए राष्ट्रीय स्तर पर एक पाँच सदस्यीय समिति बनाई गई थी।समिति को 'जिज्ञासा संसार' में अप्रैल,2021 से मार्च,2022 के बीच के अंकों में प्रकाशित रचनाओं,रचनाकारों,विषय विशेषज्ञों एवं विशिष्ट व्यक्तियों संबंधी सामग्रियों के आधार पर ही नामों का चयन करना था।

                        

प्रेस सम्मेलन में उपस्थित जिज्ञासा संसार के संपादक डॉ पी.एस.दयाल यति ने बताया कि वर्ष - 2022 का सम्मान समारोह आगामी 29 जनवरी,2022(रविवार)को पटना में आयोजित होगा,जिसमें सभी चयनित रचनाकार,पत्रकार,समाजसेवी एवं शिक्षासेवी सम्मानित होंगे। उन्होंने बताया कि वर्ष - 2022 के शंकर यति स्मृति सम्मान से विभूषित लेखक,प्रो(डॉ) शैलेंद्र सिंह जे.एस. विश्वविद्यालय ,शिकोहाबाद,उत्तर प्रदेश में विभागाध्यक्ष के पद पर सेवारत हैं,जिनका जन्म 15जुलाई,1982 को उत्तरप्रदेश के औरैया में हुआ था।प्रसिद्ध शिक्षाविद एवं लेखक प्रो. सिंह दर्जनों कार्यशालाओं एवं संगोष्ठियों का आयोजन कर चुके हैं।उनकी कई पुस्तकें प्रकाशित हैं।भारत में महिला सशक्तिकरण के लिए अनवरत प्रयासरत प्रो. सिंह विद्यावाचस्पति एवं विद्यासागर की मानद् उपाधि सहित अब तक दर्जनों सम्मानों से नवाजे जा चुके हैं।डा शैलेंद्र सिंह की धर्म पत्नी डा ज्योति गौतम डा शकुंतला मिश्रा पुनर्वास विश्वविद्यालय, लखनऊ में हिन्दी विभागाध्यक्ष हैं।डा सिंह का पूरा परिवार शिक्षा के लिए समर्पित है।


समाजसेवा के क्षेत्र में 'माता रामदुलारी देवी सेवा सम्मान' प्राप्त करने वाली श्रीमती ममता मेहरोत्रा का जन्म 6 अक्टूबर, 1969 को लखनऊ में हुआ था।अनगिन पत्र-पत्रिकाओं में हमेशा दिख जाने वाली श्रीमती मेहरोत्रा की दर्जनाधिक पुस्तकें बाजार में हैं।शिक्षाविद,लेखक और संपादक के साथ-साथ समाजसेवा में श्रीमती मेहरोत्रा का विशिष्ट योगदान रहा है।महिलाओं को रोजगारोन्मुख बनाने,औपचारिक शिक्षा की व्यवस्था करने,महिला हेल्पलाइन संचालित करने एवं बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए वे सदा तत्पर रहती हैं।  'जिज्ञासा संसार प्रतिभा शिल्पी सम्मान - 2022' कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय,दरभंगा के धर्मशास्त्र विभागाध्यक्ष प्रो.(डॉ.) श्रीपति त्रिपाठी को समर्पित है।27 सितंबर,1958 को जन्में प्रो. त्रिपाठी 1980 से अध्यापन का कार्य कर रहे हैं।अपने मार्गदर्शन में तीन दर्जन से अधिक छात्रों को पीएच-डी,तीन छात्रों को डी.लिट् कराने वाले त्रिपाठी जी को राज्य एवं देश स्तर पर शताधिक पीएच-डी,डी.लिट् शोधग्रंथ के मूल्यांकन का अनुभव है।व्यक्तिगत उपलब्धियों की सूची बहुत लंबी तो है ही,सबसे बड़ी विशेषता है कि इनके मार्गदर्शन में पढ़े हजारों छात्र आज देश-विदेश में सफलता का परचम लहरा रहे हैं।


'जिज्ञासा संसार कलमवीर सम्मान - 2022' प्रभात वर्मा एवं विश्वनाथ सिंह को संयुक्त रूप से अर्पित किया जाएगा। 1 जनवरी,1957 को नालंदा जिला के ककैला गांव में जन्में श्री वर्मा 1976 से पत्रकारिता कर रहे हैं। उद्घोषणा,संचालन एवं साहित्य के प्रस्तुतीकरण में विशेष स्थान रखने वाले वर्मा जी पटकथा लेखक,निर्माता एवं निर्देशक के रूप में भी जाने जाते हैं।लेखक, पत्रकार,अभिनेता,चिंतक,समीक्षक एवं समाजसेवी श्री वर्मा वर्तमान में दस्तक प्रभात के संपादक हैं। वहीं विश्वनाथ सिंह सफल पत्रकार एवं अधिवक्ता के रूप में सोनपुर,सारण में चर्चित हैं।सोनपुर पत्रकार संघ के अध्यक्ष एवं अनुमंडल अधिवक्ता संघ,सोनपुर के संस्थापक श्री सिंह का जन्म 25 फरवरी,1952 को पटना जिला के पचरुखिया ग्राम में हुआ था।आज,दैनिक जागरण, हिंदुस्तान,राष्ट्रीय सहारा,हिंदुस्तान टाइम्स,प्रभात खबर सहित हिंदी और अंग्रेजी के 3 दर्जन से अधिक अखबारों में लिखते रहे हैं। 23 साप्ताहिक एवं 42 पत्रिकाओं से जुड़े रहे हैं।दर्जनों सम्मानों से सम्मानित श्री सिंह की कई पुस्तकें भी बाजार में है।

कोई टिप्पणी नहीं: