मधुबनी : डीएम द्वारा 53 पंचायतों का निरीक्षण किया गया - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 7 दिसंबर 2022

मधुबनी : डीएम द्वारा 53 पंचायतों का निरीक्षण किया गया

Dm-madhubani-inspact-panchayat
मधुबनी, जिला अधिकारी अरविंद कुमार वर्मा के नेतृत्व में मुख्य सचिव, बिहार से प्राप्त निर्देश के आलोक में दिनांक 7 दिसंबर 2022 को जिले के कुल 53 वरीय पदाधिकारियों के द्वारा जिले के विभिन्न प्रखंडों के 53 पंचायतों का निरीक्षण किया गया। जिलाधिकारी स्वयं अन्य अधिकारियों के द्वारा किए जाने वाले निरीक्षण की पड़ताल के क्रम में पंडौल प्रखंड के सागरपुर पंचायत पंहुचे। जहां उन्होंने विद्यालय, ग्रामीण जल आपूर्ति के साथ साथ पंचायत के अंतर्गत सरकार द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं की जांच की और आवश्यक निर्देश दिए। बताते चलें कि उप विकास आयुक्त विशाल राज के द्वारा मधेपुर के भरगामा का, अपर समाहर्ता नरेश झा के द्वारा जयनगर के बरही का, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी परिमल कुमार के द्वारा बाबूबरही के धमौरा का, विशेष कार्य पदाधिकारी, जिला गोपनीय शाखा, अमेत विक्रम बैनामी द्वारा बाबूबरही के ही महेशवाडा का, डीसीएलआर सदर, राकेश कुमार द्वारा खजौली के नरार पूर्वी का, पीजीआरओ सदर, निधि राज के द्वारा सागरपुर में सरकार की विभिन्न लोक कल्याणकारी  योजनाओं की जांच की गई। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया है कि निरीक्षण के दौरान संबंधित पंचायत के अंतर्गत संचालित विभिन्न सरकारी योजनाओं की जांच की जाए। इनमें धान अधिप्राप्ति की अद्यतन प्रगति सहित विद्यालयों की स्थिति, स्वास्थ्य केंद्रों की गतिविधियों का अवलोकन, समेकित बाल विकास सेवाओं, अनुसूचित जाति/ अनुसूचित जनजाति/ पिछड़ा वर्ग और अल्पसंख्यक समुदाय के छात्रावासों की जांच, जन वितरण प्रणाली की जांच, ग्रामीण जलापूर्ति की जांच, ग्रामीण सड़कों की वर्तमान स्थिति पंचायत सरकार भवन के अंतर्गत  पूर्व से निर्धारित विभिन्न सरकारी गतिविधियां, स्ट्रीट लाइट लगाने की प्रगति की समीक्षा के साथ साथ भू राजस्व के मामले की पड़ताल भी शामिल है। इतना ही नहीं, जिलाधिकारी ने स्पष्ट किया है कि यदि उपरोक्त निर्धारित बिंदुओं के अतिरिक्त  किसी अन्य प्रकार की अनियमितता संज्ञान में आती है तो उसका उल्लेख भी जांच प्रतिवेदन में अवश्य किया जाए। उन्होंने निर्देश दिया है कि सभी जांच प्रतिवेदन का अनुपालन सभी संबंधित विभागों के द्वारा सुनिश्चित किया जाए। इसके लिए डीआरडीए के मॉनिटरिंग सेल की भूमिका भी निर्धारित की गई है।

कोई टिप्पणी नहीं: