बिहार : मंगल ग्रह के लोग नहीं बिहार को बिहारी सुधार सकता है: प्रशांत किशोर - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 20 दिसंबर 2022

बिहार : मंगल ग्रह के लोग नहीं बिहार को बिहारी सुधार सकता है: प्रशांत किशोर

  • शिवहर में प्रशांत किशोर ने कहा - गरीब बिहारी दशहरा-होली परदेश के फैक्ट्री में मनाते हैं, वही लालू-नीतीश अपने परिवार के साथ।

Bihari-will-develop-bihar-pk
तरियानी, शिवहर, जन सुराज पदयात्रा के 80वें दिन की शुरुआत शिवहर प्रखंड के कुशहर पंचायत स्थित पदयात्रा शिविर में सर्वधर्म प्रार्थना से हुई। इसके बाद प्रशांत किशोर सैकड़ों पदयात्रियों के साथ हाई स्कूल कुशहर से निकले। आज जन सुराज पदयात्रा कुशहर, सुरगाही, खुरपटी कोठिया, सलेमपुर, माधोपुर छाता, पोझिया, फुलकाहा होते हुए तरियानी प्रखंड अंतर्गत हिरौता दुम्मा पंचायत के कुरहनी मध्य विद्यालय में रात्रि विश्राम के लिए पहुंची। प्रशांत अबतक पदयात्रा के माध्यम से लगभग 900 किमी से अधिक पैदल चल चुके हैं। इसमें 550 किमी से अधिक पश्चिम चंपारण में पदयात्रा हुई और पूर्वी चंपारण में अबतक 300 किमी आज शिवहर में 50 किमी से अधिक पैदल चल चुके हैं। शिवहर में आज पदयात्रा का पांचवा दिन है। वे लगभग 8 से 10 दिन रुकें और अलग अलग गांवों-प्रखंडों में दिन भर के पदयात्रा के दौरान प्रशांत किशोर 5 आमसभाओं को संबोधित किया और 8 पंचायत, 12 गांव से गुजरते हुए 24 किमी की पदयात्रा तय किया। इसके साथ ही प्रशांत किशोर स्थानीय लोगों के साथ संवाद स्थापित किया।


गरीब बिहारी दशहरा-होली परदेश के फैक्ट्री में मनाते हैं, वही लालू-नीतीश अपने परिवार के साथ

शिवहर प्रखंड के सुरगाही पंचायत में जनसभा को संबोधित करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि महिलाओं को अपनी ताकत को पहचाने की जरूरत है। आज बिहार में महिला की ताकत 100 में 50 वोट की है। अगर आप ठान ले कि सही लोगों को चुनकर सत्ता में बैठाना है तो उसे कोई नहीं रोक सकता। आज आपके साथ रह रहे आपके आदमी, बेटे को बाहर राज्यों में रोजगार के लिए जाना पड़ता है, जिस कारण से ना वो आपके साथ दिवाली मानते हैं ना होली। यही चीज क्या लालू और नीतीश के साथ आपने देखा है? कोई भी त्यौहार हो, वो अपने पूरे परिवार के साथ मनाते हैं। तो क्या आप महिलाओं का मन नहीं करता की आप आपने बच्चे और परिवार के साथ त्योहारों मनाएं।


बिहार : मंगल ग्रह के लोग नहीं बिहार को बिहारी सुधार सकता है: प्रशांत किशोर

जन सुराज पदयात्रा के दौरान घोरहा गांव में आम सभा को संबोधित करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि मैं जब से बिहार के अलग-अलग जिलों में चल रहा हूं, तब से लोग मुझे गैस सिलेंडर की महंगाई के बारे में बोलते हैं। घर-घर से वोट लोगों ने अगर मोदी जी को दिया है, तो सिलेंडर का कीमत पाकिस्तान नहीं देगा। बोएंगे बाबुल तो आम कहाँ से होगा? उन्होंने कहा कि आज तक क्या आपने स्कूल के नाम पर धरना दिया है? आज अगर आप स्कूल का दरवाजा बंद कर देंगे और यह चुनौती देंगे कि बेहतर शिक्षा नहीं दी गई तो पढ़ने-पढ़ाने नहीं दिया जाएगा। आपको लगता है कि इसके बाद बेहतर शिक्षा नहीं दी जाएगी। सोचिए अगर पूरा बिहार धरना में बैठ जाएगा तो क्या हो सकता है। सरकार गिर जाएगी अगर आपकी बात नहीं मानी गई तो। मुफ्त में मांगने की आदत छोड़ अपने हक की लड़ाई लड़ना सीखिए, वरना पूरी जिंदगी इसी गरीबी में बीत जाएगी।

कोई टिप्पणी नहीं: