कविता : क्यों डरती थी वो बाहर जानें में - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शनिवार, 14 जनवरी 2023

कविता : क्यों डरती थी वो बाहर जानें में

क्यों डरती थी वो बाहर जाने में,


ऐसा क्यों लगता हैं,


उसे कुछ हो ना जाए बाहर आने में,


क्यों उसने जमाने को देखा नहीं,


या फिर उसे जमाने को दिखने की इजाजत ही नहीं मिली।


क्यों जकड़ी गई पांव में जंजीरे उसके,


क्यों उनसे डरती रहती थी वो,


क्यों बन बैठे अपने ही बे रहम,


न देखा उसने बाहर का रहन-सहन,


क्यों रखा गया था उसे चारदिवारी में,


उसे क्यों न पता था कि संसार है कितना सुंदर,


ऐसा क्यों हुआ उसके साथ सोच कर ही लगता है डर लगता है।।







Sapna

सपना

सिमतोला, कपकोट

बागेश्वर, उत्तराखंड

चरखा फीचर

कोई टिप्पणी नहीं: