बिहार : त्रिपुरा के पूर्व राज्यपाल प्रोफेसर सिद्धेश्वर प्रसाद का अंतिम संस्कार संपन्न - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 24 जनवरी 2023

बिहार : त्रिपुरा के पूर्व राज्यपाल प्रोफेसर सिद्धेश्वर प्रसाद का अंतिम संस्कार संपन्न

Tripura-ex-governor-crimited
पटना. त्रिपुरा के पूर्व राज्यपाल प्रोफेसर सिद्धेश्वर प्रसाद का पटना में निधन हो गया. केंद्र और राज्य में मंत्री भी रहे सिद्धेश्वर बाबू पिछले कुछ समय से बीमार थे.पटना एम्स में उन्हें भर्ती कराया गया था. उन्हें रविवार को ही अस्पताल से कंकड़बाग स्थित आवास पर लाया गया, जहां उन्होंने आखिरी सांस ली.वे 94 साल के थे. उनका जन्म 19 जनवरी 1929 को नालंदा स्थित अस्थावां थाना इलाके के बिन्द गांव में हुआ था. वे नालंदा कॉलेज में हिन्दी के प्रोफेसर थे.नालंदा लोकसभा सीट से तीन बार सांसद भी रहे. 1962, 1967, 1971 में नालंदा लोकसभा से सांसद चुने गए थे. इंदिरा गांधी सरकार में वो मंत्री रहे. सिद्धेश्वर प्रसाद हिन्दी साहित्य जगत के महान शिक्षाविद थे. वे एक लेखक भी हैं, उनकी हिंदी भाषा में 22 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं.बताया जाता है कि उन्होंने इंदिरा गांधी के कहने पर राजीव गांधी और सोनिया को गांधी को हिंदी सिखाई थी.सिद्धेश्वर प्रसाद, 16 जून 1995 से 22 जून 2000 तक त्रिपुरा के राज्यपाल रहे. बिहार सरकार में मंत्री रहे. उन्होंने अहम जिम्मेदारियों को निभाया. त्रिपुरा के पूर्व राज्यपाल सिद्धेश्वर प्रसाद के निधन पर सीएम नीतीश कुमार ने शोक जताया है. उन्होंने कहा कि सिद्धेश्वर प्रसाद का निधन दुःखद.उन्होंने केंद्र और बिहार में मंत्री और त्रिपुरा के राज्यपाल के रूप में अपनी जिम्मेदारी का कुशलतापूर्वक निर्वहन किया था. वे हमेशा संसदीय लोकतंत्र की मजबूती की बात करते थे. उनसे हमारा पुराना और व्यक्तिगत संबंध रहा है. उनके निधन से राजनीतिक, सामाजिक और शैक्षणिक क्षेत्र में अपूरणीय क्षति हुई है. मुख्यमंत्री ने बताया कि सिद्धेश्वर प्रसाद का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें. इस बीच त्रिपुरा के पूर्व राज्यपाल एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रो0 सिद्धेश्वर प्रसाद जी का पार्थिव शरीर आज अपराह्न 3.15 बजे प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय सदाकत आश्रम लाया गया जहां उपस्थित कांग्रेस नेताओं व कार्यकर्ताओं ने उन्हें पुष्पगुच्छ एवं फूल माला अर्पित कर अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि दी. प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष डा0 अखिलेश प्रसाद सिंह, सांसद की तरफ से विधान पार्षद डा0 समीर कुमार सिंह ने प्रो0 सिद्धेश्वर प्रसाद जी के पार्थिव शरीर पर पुष्पगुछ चढ़ाया. सदाकत आश्रम में श्रद्धांजलि अर्पित करने वालों में विधान पार्षद डा0 समीर कुमार सिंह, प्रदेश कांग्रेस के पूर्व उपाध्यक्ष श्री राज कुमार राजन, सदस्यता प्रभारी श्री ब्रजेश प्रसाद मुनन, पूर्व प्रवक्ता श्री प्रभात कुमार सिंह, प्रदेश इंटक अध्यक्ष श्री चन्द्र प्रकाश सिंह, श्री मृणाल अनामय, श्री उदय शंकर पटेल, नालंदा जिला कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष श्री दिलीप कुमार सिंह, सोशल मीडिया के अध्यक्ष श्री सौरभ कुमार, श्री हैदर अली, श्री किशोर कुमार, श्री दिलीप पासवान, श्री मदन प्रसाद, श्री नन्दन महतो, श्री सत्यनारायण चौपाल, श्रीमती आशा देवी आदि प्रमुख हैं. सिद्धेश्वर बाबू के निधन पर बिहार विधान मंडल कांग्रेस दल के नेता श्री अजीत शर्मा, पूर्व मंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस अनुशासन समिति के अध्यक्ष श्री कृपानाथ पाठक एवं पूर्व मंत्री श्री अवधेश कुमार सिंह ने गहरी संवेदना के साथ शोक व्यक्त की है.

कोई टिप्पणी नहीं: