दरभंगा : शिक्षा कर्मियों को 3 दिन के अंदर पेंशन का भुगतान : विनोद चौधरी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 28 जनवरी 2021

दरभंगा : शिक्षा कर्मियों को 3 दिन के अंदर पेंशन का भुगतान : विनोद चौधरी

lnmu-pension-will-pay-within-3-days-binod
दरभंगा (आर्यावर्त संवाददाता) सिंडिकेट सदस्य सह पूर्व विधान पार्षद प्रो० विनोद कुमार चौधरी ने आज यहां बताया कि ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय (लनामिवि) के शिक्षा कर्मियों को दो से 3 दिन के अंदर पेंशन का भुगतान संभव होगा। राज सरकार से आज शाम 5:30 बजे इस मद में करीब 48 करोड़ 46 लाख रुपए प्राप्त होने की सूचना मिली है। विश्वविद्यालय के वित्त पदाधिकारी सहित अन्य अधिकारी अगले तक करवाई में लग गए हैं। ज्ञात है कि विश्वविद्यालय के सेवानिवृत्त शिक्षा कर्मियों को विगत करीब 3 माह से पेंशन का भुगतान नहीं हो रहा था। औ र सरकार और विश्वविद्यालय के बीच इस मामले को लेकर सांप सीढ़ी का खेल चल रहा था और शिक्षाकर्मियों में पेंशन को लेकर आक्रोश व्याप्त था। ज्ञात हो कि कल ही सरकार के साथ विश्वविद्यालय प्रशासन की विभिन्न समस्याओं को लेकर उच्च स्तरीय वार्ता हुई थी जिसमें कुलसचिव डॉक्टर मुस्ताक अहमद एवं वित्त पदाधिकारी ने अन्य मामलों के साथ पेंशन के मामले को गंभीरता से उठाया था तथा प्रधान सचिव शिक्षा ने तुरंत राशि निर्गत करने का आश्वासन दिया था और आज शाम यह राशि विश्वविद्यालय को प्राप्त हो गई है तथा पदाधिकारी अगले पर कार्रवाई तुरंत शुरू करने लग गए हैं। अधिकारियों से मेरा निवेदन है कि पेंशनरों के खाता में अगले दिन पेंशन की राशि प्राप्त हो जाए इस दिशा में व्यक्तिगत रुचि लेंगे। ज्ञात हो कि विश्वविद्यालय के इतिहास में पहली बार वेतन के साथ पेंशन का भुगतान नहीं हुआ था और और यह तीसरा महीना है। पेंशनरों की ओर से सिंडिकेट सदस्य एवं पूर्व विधान पार्षद प्रोफेसर विनोद कुमार चौधरी लगातार इस सवाल को विश्वविद्यालय से सरकार तक उठाते रहे और आज उन्होंने एक बयान जारी कर सरकार एवं विश्वविद्यालय के अधिकारियों को कल की बैठक में प्रयास किए जाने के लिए बधाई दिया है तथा कहा है कि आगे इस प्रकार की घटना नहीं हो इस दिशा में विश्वविद्यालय प्रशासन सजग रहें अन्यथा आंदोलन से इनकार नहीं किया जा सकता।

कोई टिप्पणी नहीं: